Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » Why And How To Death Lord Ram S Brother Lakshman, Know.

क्यों और कैसे हुई श्रीराम के भाई लक्ष्मण की मृत्यु, क्या जानते हैं आप?

धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान विष्णु ने दुष्टों का नाश करने के लिए अनेक अवतार लिए हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 12, 2018, 06:48 PM IST

  • क्यों और कैसे हुई श्रीराम के भाई लक्ष्मण की मृत्यु, क्या जानते हैं आप?
    +1और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क. धर्म ग्रंथों के अनुसार, भगवान विष्णु ने दुष्टों का नाश करने के लिए अनेक अवतार लिए हैं। श्रीराम अवतार के समय शेषनाग ने भी उनके छोटे भाई लक्ष्मण के रूप में अवतार लिया था। लक्ष्मण को आज भी भाई के प्रति निस्वार्थ प्रेम व त्याग के लिए जाना जाता है। लक्ष्मण ने जीवन भर श्रीराम की सेवा की, ये बात तो सभी जानते हैं, लेकिन उनकी मृत्यु कैसे हुई। ये बात बहुत कम लोग जानते हैं। वाल्मीकि रामायण में इसका वर्णन किया गया है।

    इस कारण त्यागे थे लक्ष्मण ने प्राण
    वाल्मीकि रामायण के अनुसार, जब श्रीराम अयोध्या के राजा थे, तब एक दिन काल तपस्वी के रूप में अयोध्या आया। काल ने श्रीराम से अकेले में बात करने की इच्छा प्रकट की और कहा कि- यदि कोई हमें बात करता हुआ देख ले तो वह आपके द्वारा मारा जाए। श्रीराम ने काल को ये वचन दे दिया और लक्ष्मण को पहरा देने के लिए दरवाजे पर खड़ा कर दिया ताकि कोई अंदर न आ सके।
    जब काल और श्रीराम बात कर रहे थे, तभी महर्षि दुर्वासा वहां आ गए। वे श्रीराम से मिलना चाहते थे। लक्ष्मण ने उनसे कहा कि- आपको जो भी कार्य है, मुझसे कहिए, मैं आपकी सेवा करूंगा। यह बात सुनकर महर्षि दुर्वासा क्रोधित हो गए और उन्होंने कहा- अगर इसी समय तुमने जाकर श्रीराम को मेरे आने के बारे में नहीं बताया तो मैं तुम्हारे पूरे राज्य को श्राप दे दूंगा।
    लक्ष्मण ने सोचा कि अकेले मेरी ही मृत्यु हो, यह अच्छा है किंतु प्रजा का नाश नहीं होना चाहिए। यह सोचकर लक्ष्मण ने श्रीराम को जाकर दुर्वासा मुनि के आने की सूचना दे दी। महर्षि दुर्वासा की इच्छा पूरी करने के बाद श्रीराम को अपने वचन का ध्यान आया। तब लक्ष्मण ने कहा कि- आप निश्चिंत होकर मेरा वध कर दीजिए, जिससे आपकी प्रतिज्ञा भंग न हो।
    जब श्रीराम ने ये बात महर्षि वशिष्ठ को बताई तो उन्होंने कहा कि- आप लक्ष्मण का त्याग कर दीजिए। साधु पुरुष का त्याग व वध एक ही समान है। श्रीराम ने ऐसा ही किया। श्रीराम द्वारा त्यागे जाने से दुखी होकर लक्ष्मण सीधे सरयू नदी के तट पर पहुंचे और योग क्रिया द्वारा अपना शरीर त्याग दिया।

    ये भी पढ़ें-

    शनि की टेढ़ी चाल करेगी इन 6 राशियों को परेशान, बचने के लिए करें ये उपाय

    ये हैं शनि के 9 वाहन, जानें कौन बढ़ाता है दुर्भाग्य और कौन लाता है अच्छा समय?

  • क्यों और कैसे हुई श्रीराम के भाई लक्ष्मण की मृत्यु, क्या जानते हैं आप?
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×