Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Vastu » Vaastu Tips, Vastu Defect, Vaastu Shastra, Misuse Of Water, Poverty, The Cause Of Misfortune

दुर्भाग्य और गरीबी का कारण बन सकता है नल से टपकता पानी

जिस घर में पानी के दुरुपयोग होता है, वहां देेवी लक्ष्मी नहीं ठहरतीं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 03, 2018, 05:00 PM IST

  • दुर्भाग्य और गरीबी का कारण बन सकता है नल से टपकता पानी, religion hindi news, rashifal news

    रिलिजन डेस्क। हमारे जीवन में पानी का बहुत महत्व है, क्योंकि पानी के बिना जीवन संभव ही नहीं है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ट भट्ट के अनुसार, धर्म ग्रंथों में भी पानी से संबंधित कई महत्वपूर्ण बातें बताई गई हैं। वास्तु शास्त्र में पानी के दुरुपयोग को गरीबी का कारण बताया गया है और ये भी कहा गया है कि जिस घर में पानी के गलत उपयोग होता है, वहां देेवी लक्ष्मी नहीं ठहरतीं। जानिए पानी से जुड़ी कुछ खास बातें-

    1. वास्तु शास्त्र के अनुसार, जिस घर के नलों में व्यर्थ पानी टपकता रहता है। उस घर में हमेशा धन का अभाव रहता है। नल से व्यर्थ टपकते पानी की आवाज उस घर के आभा मंडल को भी प्रभावित करती है। इसलिए इस बात का विशेष ध्यान रखना चाहिए कि घर के नलों से पानी व्यर्थ नहीं टपके।

    2. बहुत से लोगों को रात में भी स्नान करने की आदत होती है। किंतु शास्त्रों में रात के स्नान को वर्जित माना गया है। यानी रात के समय नहीं नहाना चाहिए-

    निशायां चैव न स्नाचात्सन्ध्यायां ग्रहणं विना।

    अर्थात- रात के समय स्नान नहीं करना चाहिए। जिस दिन ग्रहण हो केवल उस दिन ही रात के समय स्नान करना उचित रहता है। रात के समय स्नान करना जल का दुरुपयोग करने के समान है। जो भी जल का ऐसा दुरुपयोग करता है, उसके घर में सदैव धन का अभाव रहता है।

    3. हमारे धर्म शास्त्रों में एवं पुराणों में जल को बचाने के लिए जल को अंजली (हाथों से) से पीने को निषेध बताया गया है।

    न वार्यञ्जलिना पिबेत (मनुस्मृति)
    जलं पिबेन्नाञ्जलिना (याज्ञववल्क्यस्मृति)

    क्योंकि इससे जल पीने में कम हाथों के आस पास से ढुलता ज्यादा है। इस संबंध में एक कथा भी प्रचलित है- समुद्र मंथन के समय लक्ष्मीजी से पहले उनकी बड़ी बहन अलक्ष्मी अर्थात दरिद्रता उत्पन्न हुई थी। उनको रहने के लिए स्थान बताते समय लोमष ऋषि ने जो स्थान बताए थे उनमें एक स्थान यह भी था कि जिस घर में जल का व्यय ज्यादा किया जाता हो वहां तुम अपने पति अधर्म के साथ सदैव निवास करना। अर्थात जिस घर में पानी को व्यर्थ बहाया जाता है, वहां दरिद्रता अपने पति अधर्म के साथ निवास करती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×