Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » Temple Of Shri Raj Rajeshwari Bengaluru

इस मंदिर में खुले बाल रखकर नहीं जा सकती महिलाएं, पुरुषों के लिए भी है ड्रेस कोड

हाल ही में बेंगलुरू के एक मंदिर ने वहां दर्शन के लिए आने वाले भक्तों के लिए ड्रेस कोड जारी किया है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 15, 2018, 02:46 PM IST

  • इस मंदिर में खुले बाल रखकर नहीं जा सकती महिलाएं, पुरुषों के लिए भी है ड्रेस कोड, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क. हाल ही में बेंगलुरू के एक मंदिर ने वहां दर्शन के लिए आने वाले भक्तों के लिए ड्रेस कोड जारी किया है। सबसे दिलचस्प शर्तें महिलाओं के मंदिर में प्रवेश करने की स्थिति में रखी गई हैं। इस मंदिर में महिलाओं को बाल खुले होने पर भी मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा।

    ये ड्रेस कोड या नियम बेंगलुरू के आर आर नगर स्थित श्री राजराजेश्वरी मंदिर प्रबंधन ने तय किए हैं। भक्तों को किन शर्तों पर मंदिर में प्रवेश दिया जाएगा, इसे लेकर प्रबंधन ने मंदिर के बाहर बाकायदा एक नोटिस बोर्ड लगा दिया है। मंदिर ट्रस्ट के सदस्य हयाग्रीव कहते हैं कि संस्कृति के पालन के लिए यह बहुत जरूरी है।

    क्या है ड्रेस कोड और नियम-
    1. महिलाओं को स्लीवलेस टॉप, जींस और मिनी स्कर्ट्स पहनकर मंदिर में प्रवेश की इजाजत नहीं मिलेगी।
    2. 18 साल से कम उम्र की लड़कियों को फुल लेंथ का गाऊन पहनने पर ही प्रवेश की अनुमति होगी।
    3. मंदिर में महिलाओं को रबर बैंड या रिबन से बाल बंधे होने पर ही एंट्री मिलेगी। उन्हें सिर्फ साड़ी या चूड़ीदार सलवार-कुर्ती के साथ दुपट्टा ओढ़ने पर ही इजाजत होगी।
    4. पुरुष भी जींस पहनकर मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकते हैं। सिर्फ धोती या पेंट पहनकर ही पुरुष मंदिर में जा सकते हैं।


    इन मंदिरों में भी है ड्रेस कोड
    यह पहला मामला नहीं है जब किसी मंदिर प्रबंधन ने मंदिर में प्रवेश को लेकर ड्रेस कोड व नियम तय किए हैं। इसके पहले भी कई मंदिर ऐसा कर चुके हैं। इनकी जानकारी इस प्रकार है-

    गुरुवायूर कृष्ण मंदिर

    केरल के गुरुवायूर कृष्ण मंदिर में प्रवेश के लिए सभी पुरुषों को मुंडू (लुंगी) पहनना अनिवार्य है। वहीं महिलाओं के लिए साड़ी या सलवार सूट पहनना जरूरी है।

    अन्य किन मंदिरों में ड्रेस कोड हैं, जानने के लिए आगे की स्लाइ्डस पर क्लिक करें-

    ये भी पढ़ें-

    18 अप्रैल को खरीदी का महामुहूर्त, राशि अनुसार क्या खरीदें-कहां करें इन्वेस्ट

    18 अप्रैल को घर लाएं इन 9 में से कोई 1 चीज, महालक्ष्मी दूर करेंगी बैड लक

  • इस मंदिर में खुले बाल रखकर नहीं जा सकती महिलाएं, पुरुषों के लिए भी है ड्रेस कोड, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें
    चित्र- काशी विश्वनाथ

    काशी विश्वनाथ मंदिर
    ये मंदिर देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है। यहां पर बड़ी संख्या में व‍िदेशी पर्यटक भी आते हैं। यहां पुरुष मंद‍िर में चमड़े से बनी हुई चीजों के साथ प्रवेश नहीं कर सकते। वहीं मह‍िलाओं को ऐसे कपड़े पहनना अनिवार्य है, ज‍िससे उनका पूरी शरीर ढका हो।



    घृष्णेश्वर महादेव
    यह मंदिर महाराष्ट्र में स्थित है। यह भी 12 ज्योतिर्लिंग में से एक है। यहां पर भक्‍तों को मंदिर में प्रवेश करने से पहले चमड़े से बनी सभी वस्तुएं जैसे बेल्ट, पर्स आदि बाहर ही रखनी पड़ती है।



    महाकाल मंदिर
    यह ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश के उज्जैन में है। यहां मंद‍िर में प्रवेश को लेकर तो कोई नियम नहीं है लेकिन, सुबह होने वाली भस्म-आरती में भाग लेने के लिए पुरुषों को धोती-कुर्ता और महिलाओं को साड़ी पहनना अनिवार्य है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Temple Of Shri Raj Rajeshwari Bengaluru
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×