Home » Jeevan Mantra »Dharm »Gyan » How To Do Aarti Of God In Right Manner

भगवान की आरती में है पूरा साइंस, घर में 4 तरह से होता है फायदा

भगवान की पूजा से मन को शांति तो मिलती ही है लेकिन जब आरती करते हैं तो उसका बहुत सकारात्मक प्रभाव पूरे घर पर पड़ता है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 20, 2018, 05:38 PM IST

भगवान की आरती में है पूरा साइंस, घर में 4 तरह से होता है फायदा

रिलिजन डेस्क। मंदिरों में तो भगवान की आरती रोज होती है लेकिन अगर हम घर में भी भगवान की आरती रोज करें तो इससे 4 फायदे मिलते हैं। भगवान की पूजा से मन को शांति तो मिलती ही है लेकिन जब हम विधि विधान से आरती करते हैं तो उसका बहुत सकारात्मक प्रभाव पूरे घर पर पड़ता है। घर में नेगेटिव एनर्जी नहीं रहती, बैक्टिरिया मारे जाते हैं, घर के आसपास का माहौल खुशनुमा होता है, घर के लोगों का सेल्फ कांफिडेंस बढ़ता है। इसका कारण है भगवान की आरती में हम जो भी चीजें इस्तेमाल करते हैं उनके कुछ साइंटिफिक असर घर में देखने को मिलते हैं।

घर में भगवान की आरती सुबह या शाम के समय या फिर दोनों ही समय की जा सकती है। आरती में घी का दीपक, कर्पूर, अगरबत्ती, घंटी और फूल का उपयोग होता है। इनमें हर चीज का अपना महत्व है। भगवान की आरती इन चीजों के बिना नहीं होनी चाहिए। इससे घर के माहौल पर कैसे पॉजिटिव असर होता है ये अपने आप में पूरा साइंस है।

कर्पूर - आरती में जलाया जाने वाला कर्पूर माहौल में मौजूद बैक्टिरिया को मार देता है। इसका धुआं घर के लिए बहुत लाभकारी होता है। कर्पूर में कुछ एंटी-बैक्टिरिया तत्व होते हैं। इस कारण कई बार आयुर्वेद में भी इसका उपयोग दवाई के तौर पर होता है।

घी का दीपक -अगर आरती में गाय के दूध से बने घी का दीपक लगाया जाए तो ये घर की नेगेटिव एनर्जी को हटा देता है। गो-मूत्र की तरह ही गाय के दूध से बने घी में भी नेगेटिव एनर्जी को दूर करने की ताकत होती है। घी के दीपक की लौ और धुएं से घर की नेगेटिव एनर्जी खत्म हो जाती है।

घंटी - आरती के समय बजाई जाने वाली घंटी का नाद भी घर में पॉजिटिव एनर्जी क्रिएट करता है। घर में सुख और शांति के लिए घंटी और शंख की आवाज होना शुभ होता है।

फूल -फूल का अपना मनोवैज्ञानिक महत्व है। भगवान को चढ़ाए गए ताजे फूल घर में माहौल में सुगंध और ताजगी का एहसास भरते हैं। जो लोग अपने घर के मंदिर में रोज ताजे फूल भगवान को चढ़ाते हैं उनके घर के वातावरण में हमेशा ताजगी होती है।

अगरबत्ती - अगरबत्ती और धूपबत्ती के धुएं से वातावरण सुगंध से भरता है। ये मन को शांति और विचारों को शुद्ध करता है। अगरबत्ती लगाकर ध्यान करने से ध्यान बेहतर होता है। मन एकाग्र और तनावमुक्त होता है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×