Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Remedy For Gupt Navratra's Navmi Tithi

वृश्चिक, धनु, मकर पर साढ़ेसाती और वृषभ-कन्या पर ढय्या है, इन 5 राशि के लोगों को परेशानियों से बचने के लिए करना चाहिए ये उपाय

आषाढ़ मास के गुप्त नवरात्र की नवमी तिथि पर देवी दुर्गा के साथ ही शनिदेव और हनुमानजी के उपाय करना शुभ होता है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jul 19, 2018, 11:24 AM IST

वृश्चिक, धनु, मकर पर साढ़ेसाती और वृषभ-कन्या पर ढय्या है, इन 5 राशि के लोगों को परेशानियों से बचने के लिए करना चाहिए ये उपाय, religion hindi news, rashifal news

रिलिजन डेस्क.शनिवार, 21 जुलाई को आषाढ़ मास के गुप्त नवरात्र की नवमी तिथि है। इस दिन देवी दुर्गा के साथ ही शनिदेव और हनुमानजी के उपाय करना न भूलें। जिन लोगों की कुंडली में शनि की स्थिति शुभ नहीं है, उन्हें नवरात्र और शनिवार के योग में खास उपाय जरूर करना चाहिए। इस समय शनि धनु राशि में है। इस कारण वृश्चिक, धनु और मकर राशि पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। वृषभ और कन्या पर शनि की ढय्या चल रही है।उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार जानिए साढ़ेसाती और ढय्या में कौन-कौन से उपाय किए जा सकते हैं...
पहला उपाय
इस शनिवार तेल का दान जरूर करें। इसके लिए एक बर्तन में तेल लें और उसमें अपना चेहरा देखें। इसके बाद तेल का दान किसी जरूरतमंद व्यक्ति को करें।
दूसरा उपाय
शिवलिंग पर काले तिल और जल चढ़ाएं। शिवजी के मंत्र ऊँ सांब सदा शिवाय नम: का जाप 108 बार करें। इस उपाय शनिदेव और हनुमानजी की भी कृपा मिल सकती है।
तीसरा उपाय
- किसी हनुमान मंदिर जाएं। मंदिर में हनुमानजी की प्रतिमा के सामने तेल का दीपक जलाएं और हनुमानजी के मंत्र ऊँ रामदूताय नम: या ऊँ महावीराय नमः का जाप 108 बार करें।

- भगवान को नारियल अर्पित करें। शनि के दोष और परेशानियों को दूर करने की प्रार्थना करें। नारियल फोड़कर प्रसाद अन्य भक्तों को बांट दें।
चौथा उपाय
21 जुलाई के शनिवार को हनुमानजी को लाल वस्त्र, सिंदूर, चमेली का तेल, लाल फूल अर्पित करें। इसके साथ ही हनुमान चालीसा का पाठ करें। इस उपाय से सभी प्रकार की परेशानियों से मुक्ति मिल सकती है।
पांचवां उपाय
शनिवार को पीपल को जल चढ़ाएं। सात परिक्रमा करें। तेल का दीपक जलाएं और शनिदेव से परेशानियों को दूर करने की प्रार्थना करें।
छठा उपाय
सूर्यास्त के बाद हनुमानजी के सामने सरसों के तेल का दीपक जलाएं। दीपक मिट्टी का होगा तो ज्यादा शुभ रहेगा। दीपक जलाने के बाद हनुमान चालीसा या सुंदरकांड का पाठ करें।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×