Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Ravan And Shani In Hinduism, Ravan In Hindu Mythology, Facts About Ravan

शनि ने नहीं मानी रावण की बात और बन गया मेघनाद की मृत्यु का योग

अगर शनिदेव न करते अपनी नजरें तिरछी तो मेघनाद को कोई हरा नहीं पाता

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 12, 2018, 05:46 PM IST

  • शनि ने नहीं मानी रावण की बात और बन गया मेघनाद की मृत्यु का योग
    +1और स्लाइड देखें

    रिलिजन डेस्क।मंगलवार, 15 मई को शनि जयंती है। आज ही नहीं, बल्कि प्राचीन समय से ही ज्योतिष में शनि की स्थिति काफी महत्वपूर्ण मानी गई है। इस ग्रह की वजह से व्यक्ति की किस्मत पूरी तरह बदल सकती है। त्रेतायुग का रावण और शनि से जुड़ा एक प्रसंग प्रचलित है। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार ये प्रसंग...

    जब होने वाला था मेघनाद का जन्म

    प्रचलित कथाओं के अनुसार, जब रावण के पुत्र मेघनाद का जन्म होने वाला था, तब रावण ने सभी ग्रहों को शुभ और सर्वश्रेष्ठ स्थिति में रहने का आदेश दिया था। उस समय शनि के अलावा शेष सभी ग्रह रावण की मनचाही स्थिति में आ गए थे। रावण ये बात जानता था कि शनि आयु के देवता हैं और वे आसानी से मेघनाद के लिए शुभ स्थिति निर्मित नहीं करेंगे। शनि ने अंतिम समय पर ऐसी स्थिति निर्मित कर दी, जिसके प्रभाव से मेघनाद लक्ष्मण के हाथों मारा गया।

    मेघनाद के लिए रावण की थी ये इच्छा

    जब रावण और मंदोदरी के पुत्र मेघनाद का जन्म होने वाला था। तब रावण चाहता था कि उसका पुत्र अजेय हो, जिसे कोई भी देवी-देवता हरा न सके, रावण चाहता था कि उसका पुत्र दीर्घायु भी हो, उसकी मृत्यु हजारों वर्षों बाद ही हो। उसका पुत्र परम तेजस्वी, पराक्रमी, कुशल यौद्धा, ज्ञानी हो।

    रावण था ज्योतिष का ज्ञाता

    रावण प्रकाण्ड पंडित और ज्योतिष का जानकार था। इसी कारण मेघनाद के जन्म के समय उसने ज्योतिष के अनुसार सभी ग्रहों और नक्षत्रों को ऐसी स्थिति में बने रहने का आदेश दिया कि उसके पुत्र में वह सभी गुण आ जाए जो वह चाहता है।

    रावण का प्रभाव इतना था कि सभी ग्रह-नक्षत्र, देवी-देवता उससे डरते थे। इसी वजह से मेघनाद के जन्म के समय सभी ग्रह वैसी ही राशियों में स्थित हो गए, जैसा रावण चाहता था। लेकिन शनिदेव की नजर टेढ़ी होेने से मेघनाद की मृत्यु का योग बन सका।

  • शनि ने नहीं मानी रावण की बात और बन गया मेघनाद की मृत्यु का योग
    +1और स्लाइड देखें

    मेघनाद के जन्म के समय शनि ने नजरें कर ली थीं तिरछी

    शनि न्यायाधीश हैं, अत: रावण की मनचाही स्थिति में रहते हुए भी उन्होंने ठीक मेघनाद के जन्म के समय अपनी नजरें तिरछी कर ली थीं। शनि की तिरछी नजरों के कारण ही मेघनाद अल्पायु हो गया। जब रावण को इस बात का अहसास हुआ तो वह शनि पर अत्यंत क्रोधित हो गया। क्रोधवश रावण ने शनिदेव के पैरों पर गदा से प्रहार कर दिया। इसी प्रहार की वजह से शनि देव लंगड़े हो गए। तब से शनि की चाल धीमी हो गई।

    मेघनाद था पराक्रमी और शक्तिशाली

    शनि के अलावा शेष सभी ग्रहों की शुभ स्थिति के कारण मेघनाद बहुत पराक्रमी और शक्तिशाली था। रावण पुत्र ने देवराज इंद्र को भी परास्त कर दिया था। इसी वजह से मेघनाद का एक नाम इंद्रजीत भी पड़ा। शनि की तिरछी नजरों के कारण मेघनाद अल्पायु हो गया था। श्रीराम और रावण के बीच हुए युद्ध में लक्ष्मण के हाथों मेघनाद मारा गया।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×