Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » Pm Modi In Indonesia, Top 5 Temples In Indonesia, Krishna Arjun Rath In Indonesia

95 प्रतिशत मुस्लिम रहते हैं अर्जुन के रथ के आसपास, श्रीराम का भी है खास कनेक्शन

अर्जुन का रथ जकार्ता के उस चौराहे पर बना है, जहां आसपास 95 प्रतिशत मुस्लिम रहते हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 30, 2018, 12:22 PM IST

  • 95 प्रतिशत मुस्लिम रहते हैं अर्जुन के रथ के आसपास, श्रीराम का भी है खास कनेक्शन, religion hindi news, rashifal news

    रिलिजन डेस्क।पीएम नरेंद्र मोदी अपनी तीन देशों की यात्रा के पहले चरण में इंडोनेशिया पहुंचे हैं। इस दौरे में पीएम इंडोनेशिया की सबसे बड़ी इस्तेकलाल मस्ज़िद और हजारों साल पुराने इंडोनेशिया के मंदिर भी जाएंगे। पीएम मोदी जकार्ता मोनास चौक स्थित अर्जुन रथ को देखने भी जाएंगे। इस रथ में महाभारत का वह दृश्य दिखाया गया है, जिसमें श्रीकृष्ण सारथी बनकर अर्जुन का चला रहे हैं। अर्जुन का रथ जकार्ता के उस चौराहे पर बना है, जहां आसपास 95 प्रतिशत मुस्लिम रहते हैं। इस जगह पर इंडोनेशिया की महान सभ्यता और संस्कृति देखी जा सकती है। इस देश में अधिकतर मुस्लिम रहते हैं, लेकिन हिन्दू मंदिरों के लिए इनके मन में गहरी आस्था है। यहां जानिए इंडेनेशिया के 5 सबसे खास मंदिरों के बारें में...

    इंडोनेशिया में भी होती है रामलीला

    भारत की ही तरह इंडोनेशिया में भी रामलीला को लेकर काफी उत्साह है। यहां भी रामायण प्रचलित है। इंडोनेशिया में रामायण काकावीन नाम का ग्रंथ प्रचलित है। ये बहुत पुराना ग्रंथ है। रामायण काकावीन की रचना कावी भाषा में हुई है। यह इंडोनेशिया के जावा की प्राचीन भाषा है। काकावीन का अर्थ महाकाव्य है। कावी भाषा में कई महाकाव्यों की रचना हुई है। इनमें रामायण काकावीन प्रमुख है। रामायण काकावीन छब्बीस अध्यायों का एक विशाल ग्रंथ है।

    पहला मंदिर- सिंघसरी शिव मंदिर, जावा

    13वीं शताब्दी में बना सिंघसरी मंदिर पूर्वी जावा के सिंगोसरी में बना हुआ है। यह विशाल मंदिर अपनी भव्यता के लिए पूरी दुनिया में फेमस है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है। मंदिर में भगवान शिव की एक विशाल प्रतिमा है। यहां पर रोज बड़ी संख्या में भक्त आते हैं और भगवान शिव से संबंधी सभी त्योहार बड़ी धूम-धाम से मनाए जाते हैं।

    दूसरा मंदिर- पुरा बेसकिह मंदिर, बाली

    बाली द्वीप के माउंट अगुंग में स्थित यह मंदिर प्रकृति की गोद में बसा इंडोनेशिया का सबसे सुन्दर मंदिर है। यह बाली का सबसे बड़ा और पवित्र मंदिर भी है, जो बाली मंदिरों की श्रृंखला में शामिल किया गया है। 1995 में इस मंदिर को यूनेस्को ने विश्व धरोहर घोषित कर दिया था। इस मंदिर में कई देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं।

    तीसरा मंदिर- पुरा तमन सरस्वती मंदिर, बाली

    देवी सरस्वती को समर्पित यह मंदिर बाली के उबुद में है। देवी सरस्वती को हिन्दू धर्म में विद्या, ज्ञान और संगीत की देवी माना जाता हैं, इसलिए यहां पर भी देवी सरस्वती की पूजी ज्ञान और विद्या की देवी के रूप में ही की जाती है। यहां पर एक सुन्दर कुंड भी बना है, जो इस मंदिर का मुख्य आकर्षण है। यहां हर रोज संगीत के कार्यक्रम होते हैं।

    चौथा मंदिर- प्रम्बनन मंदिर, जावा

    मध्य जावा में बना प्रम्बनन मंदिर इंडोनेशिया का सबसे बड़ा और विशाल हिंदू मंदिर है। यह मंदिर मुख्य रूप से भगवान शिव, भगवान विष्णु और भगवान ब्रह्मा को समर्पित है। यह मंदिर यूनेस्को की विश्व धरोहर में शामिल है। दुनिया भर के पर्यटकों के लिए प्रम्बनन मंदिर आकर्षण का केंद्र रहता है। इस मंदिर में त्रिदेवों के साथ ही उनके वाहनों के भी मंदिर बने हुए हैं।

    पांचवां मंदिर- तनह लोट मंदिर, बाली

    ये भगवान विष्णु मंदिर है और इंडोनेशिया के बाली में एक विशाल समुद्री चट्टान पर बना हुआ है। अपनी प्राकृतिक सुंदरता के लिए प्रसिद्ध यह मंदिर 16 वीं में निर्मित बताया जाता है। यह मंदिर अपनी खूबसूरती के कारण इंडोनेशिया के मुख्य आकर्षणों में से एक माना जाता है। यह मंदिर बाली द्वीप के हिन्दुओं की आस्था का बड़ा केंद्र हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×