Home » Jeevan Mantra »Dharm »Gyan » Mahabharat Niti Lord Krishna And Yudhishthir

कृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया था सुखी जीवन का रहस्य , मरने के बाद कौन लोग जाते हैं स्वर्ग

तपस्या के अलावा 3 और काम करने वालों का जीवन होता है स्वर्ग की तरह सुखमय

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jul 17, 2018, 12:34 PM IST

कृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया था सुखी जीवन का रहस्य , मरने के बाद कौन लोग जाते हैं स्वर्ग

रिलिजन डेस्क. महाभारत के अश्वमेधादिक पर्व में युधिष्ठिर और भगवान कृष्ण की बातचीत है। युधिष्ठिर के सवालों पर कृष्ण ने उन्हें जवाब दिए। युधिष्ठिर ने उनसे पूछा कि किन लोगों का जीवन हमेशा सुखी रहता है, कौन से वो लोग होते हैं जो मरने के बाद स्वर्ग जाते हैं, या मोक्ष प्राप्त करते हैं। भगवान कृष्ण ने इस बात को एक श्लोक में बताया है। श्लोक के अनुसार, जो मनुष्य ये 4 आसान काम करता है, उसे निश्चित ही स्वर्ग की प्राप्ति होती है। इन चार कामों में एक है तपस्या। स्वर्ग प्राप्ति के लिए तप जरूरी है, तप के अलावा 3 काम और हैं जो हर इंसान को करने चाहिए। ऐसे मनुष्य के जाने-अनजाने में किए गए पाप माफ हो जाते हैं और उसे नर्क नहीं जाना पड़ता। इसलिए, हर किसी को इन 4 कामों को जरूर करना चाहिए।
श्लोक-
दानेन तपसा चैव सत्येन च दमेन च।
ये धर्ममनुवर्तन्ते ते नराः स्वर्गगामिनः॥(महाभारत - अश्वमेधादिकम् पर्व- अध्याय 106)
1. दान

- दान करना हिंदू धर्म में बहुत ही पुण्य का काम माना जाता है। कई ग्रथों में दान करने के महत्व के बारे में बताया गया है।

- श्रीमद्भागवत के अनुसार, जो मनुष्य जरूरतमदों को नियमित रूप से दान करता है, उसे पुण्य की प्राप्ति होती है।

- मनुष्य को कभी भी अपने दान का हिसाब-किताब नहीं करना चाहिए। दान गुप्त तरीके से करना चाहिए, उसका दिखावा नहीं करना चाहिए।

- जो भी दान से संबंधी इन बातों का ध्यान रखता है, उसके सभी पाप कर्म मिट जाते है और उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है।
2. मन को वश में रखना

- मनुष्य का मन बहुत ही चंचल होता है। वह हर समय इधर-उधर भटकता रहता है। जिस मनुष्य का मन वश में नहीं रहता, वह बहुत ज्यादा महत्वाकांक्षाओं वाला होता हैं।

- ऐसा मनुष्य अपनी इच्छाओं को पूरा करने के लिए कोई भी गलत काम कर सकता है और उसे अपने पाप कर्मों की वजह से नर्क जाना पड़ता है।

- इसलिए, स्वर्ग की इच्छा रखने वालों को अपने मन को वश में रखना बहुत ही जरूरी है।

3. हमेशा सच बोलना

- सच बोलना मनुष्य के सबसे खास गुणों में से एक माना जाता है। जिस मनुष्य में सच बोलने का गुण होता है, उसे जीवन में हर जगह सफलता मिलती है।

- झूठ बोलने वाले या झूठ का साथ देने वाले मनुष्य पाप का भागी माना जाता है और उसे नर्क में यातनाएं झेलनी पड़ती हैं।

- इसलिए, हर किसी को सच बोलने और हर परिस्थिति में सच का ही साथ देने का गुण अपनाना चाहिए।

4. तपस्या

- तप और भगवान का ध्यान करना हर किसी के लिए जरूरी माना जाता है। कई लोग अपने व्यस्त जीवन के चलते भगवान का ध्यान नहीं करते। ऐसे मनुष्य पर देवी-देवता हमेशा रूठे रहते हैं।

- रोज दिन में थोड़ा समय भगवान के तप और ध्यान आदि को देने से मनुष्य की सारी परेशानियां खत्म होने लगती हैं और उसे स्वर्ग की प्राप्ति होती है।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×