Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Life Management Of Manu Smriti, Manu Smriti, Guest In Home, मनु स्मृति

इन 5 लोगों को भूलकर भी न बुलाएं अपने घर, नहीं तो बाद में पछताना पड़ सकता है

कुछ लोगों को कभी मेहमान नहीं बनाना चाहिए और यदि ऐसे लोग दिख भी जाएं तो उनसे नमस्ते भी नहीं करना चाहिए।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 19, 2018, 08:13 PM IST

  • इन 5 लोगों को भूलकर भी न बुलाएं अपने घर, नहीं तो बाद में पछताना पड़ सकता है

    रिलिजन डेस्क. मनु स्मृति के अनुसार, कुछ लोगों को कभी मेहमान नहीं बनाना चाहिए और यदि ऐसे लोग दिख भी जाएं तो उनसे नमस्ते भी नहीं करना चाहिए। ये लोग कौन हैं और इन्हें क्यों मेहमान नहीं बनाना चाहिए, जानिए-

    श्लोक
    पाषण्डिनो विकर्मस्थान्बैडालव्रतिकांछठान्।

    हैतुकान्वकवृत्तींश्च वाड्मात्रेणापि नार्चयेत्।।

    अर्थात्- 1. पाखंडी, 2. बुरे काम करने वाला, 3. दूसरों को मूर्ख बनाकर धन लूटने वाला, 4. दूसरों को दुख पहुंचाने वाला व 5. वेदों में श्रद्धा न रखने वाला। इन 5 लोगों को अतिथि नहीं बनाना चाहिए और इनका शिष्टाचार पूर्वक स्वागत भी नहीं करना चाहिए।

    1. पाखंडी

    जो लोग अपने मूल स्वभाव को छुपाकर स्वयं को सज्जन दिखाने का प्रयास करते हैं, ऐसे लोग पाखंडी होते हैं। ऐसे लोग धर्म के नाम पर लोगों के साथ छल करते हैं और उनका धन, वैभव आदि छिन लेते हैं। इसलिए ऐसे लोगों को कभी मेहमान नहीं बनाना चाहिए।

    2. बुरे काम करने वाला

    ऐसे लोग जो लूट-पाट, डकैती, चोरी आदि बुरे काम करते हैं तथा बलपूर्वक लोगों की संपत्ति पर अधिकार करते हैं, को कभी अतिथि नहीं बनाना चाहिए। ऐसे लोग अपना हित साधने के लिए कुछ भी कर सकते हैं। अतिथि बनकर आने पर यह आपकी संपत्ति पर भी हाथ साफ कर सकते हैं।


    3. मूर्ख बनाकर धन लूटने वाला

    जो लोग दूसरों को अपनी चिकनी-चुपड़ी बातों में उलझाकर उनका धन हड़प लेते हैं, ऐसे लोगों को भी कभी मेहमान नहीं बनाना चाहिए। ऐसे लोग खास तौर पर महिलाओं व बुजुर्गों को अपना शिकार बनाते हैं और रुपया-पैसा दोगुना करने का लालच देकर उनका माल हड़प लेते हैं।

    4. दूसरों को दुख पहुंचाने वाला

    ऐसे व्यक्ति को अगर घर पर अतिथि बनाकर बुलाया जाए तो निश्चित रूप से ये आपको या आपके परिवार के किसी सदस्य को दुख पहुंचाने की कोशिश करेंगे। इसलिए ऐसे लोग जो दूसरों को दुख पहुंचाते हों, को कभी मेहमान नहीं बनाना चाहिए।

    5. वेदों में श्रद्धा न रखने वाला

    जो व्यक्ति वेदों में श्रद्धा नहीं रखता, वह नास्तिक होता है। ऐसे लोग अधार्मिक कामों को करने वाले हो सकते हैं। इन्हें सामाजिक व पारिवारिक मूल्यों का ज्ञान नहीं होता। अनजाने में ही कई बार ऐसी बातें कह जाते हैं जो परिवार के सामने नहीं कहनी चाहिए या जिससे किसी का मन दुख सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×