Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » अक्षय तृतीया, Know The Nature, Akshay Tratiya 2018, Rashi Nature, Zodiac Sign

अगर आपकी शादी हुई है अक्षय तृतीया पर तो राशि अनुसार जरूर जानें पति-पत्नी की ये बातें

मान्यता है कि अक्षय तृतीया पर विवाह करने से वैवाहिक जीवन सुखी रहता है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 13, 2018, 05:30 PM IST

  • अगर आपकी शादी हुई है अक्षय तृतीया पर तो राशि अनुसार जरूर जानें पति-पत्नी की ये बातें, religion hindi news, rashifal news

    यूटिलिटी डेस्क।18 अप्रैल को वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया है। इस तिथि को ही अक्षय तृतीया कहा जाता है, इसे आखातीज भी कहते हैं। भारतीय कालगणना के अनुसार चार श्रेष्ठ सिद्ध मुहूर्त हैं, उनमें से एक अक्षय तृतीया भी है। अक्षय का अर्थ जिसका कभी क्षय ना हो, जो हमेशा रहे। इसी दिन भगवान विष्णु के अवतार परशुरामजी का जन्म भी हुआ था। परशुरामजी चिरंजिवी है यानी वे हमेशा जीवित रहेंगे, उनकी आयु का क्षय नहीं होगा। चारों युगों में त्रेतायुग का आरंभ भी इसी तिथि से हुआ था। चार धामों में से एक बद्रीनाथधाम के पट इसी दिन से खुलते हैं। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार इस दिन किया गया दान, पूजन, हवन और दी गई दक्षिणा अक्षय फल प्रदान करती है। इस तिथि पर अधिकतर लोग शादी करना चाहते हैं। अगर आपकी शादी भी इसी तिथि पर हुई है तो यहां जानिए राशि अनुसार पति-पत्नी से जुड़ी खास बातें…

    अक्षय तृतीया पर विवाह करना होता है बहुत शुभ

    पं. शर्मा के मुताबिक शास्त्रों में लिखा है कि वैशाखे तथा ज्येष्ठे पतिउत्यंतवल्लभा। यानी वैशाख मास में विवाह करने से पति-पत्नी के बीच प्रेम हमेशा बना रहता है। इसी कारण मान्यता है कि जिन लोगों की शादी इस तिथि पर होती है, उनका बंधन अक्षय होता है यानी सात जन्मों के लिए होता है। अब जानें राशि अनुसार खास बातें...

    मेष-इस राशि के लोगों का विवाह इस दिन होने से वैवाहिक जीवन हमेशा सुखी रहता है। संतान सुख जल्दी मिल सकता है। विवाह के बाद भाग्योदय हो सकता है।

    वृषभ-इस तिथि पर विवाह करने से वृषभ राशि के लोगों को सुख-सुविधाएं और ऐश्वर्य मिलता है। पति-पत्नि के बीच बड़े वाद-विवाद नहीं होते हैं और संतान भी सुखी रहती है।

    मिथुन-अक्षय तृतीया पर विवाह करने से इनका जीवन श्रेष्ठ बना रहता है। विवाह के बाद जमीन-जायदाद में वृद्धि होती है। इन लोगों की संतान विद्वान होती है।

    कर्क-नौकरी हो या व्यापार विवाह के बाद इनकी तरक्की होती है। संतान शुभ लक्षण वाली होती है। वैवाहिक जीवन सुखी होता है।

    सिंह-शादी के बाद सभी सुख-सुविधाएं मिलती हैं। धन-धान्य में वृद्धि होती है। संतान समाज में मान-सम्मान बढ़ाने वाली होती है। परिवार में इनकी जोड़ी श्रेष्ठ कहलाती है।

    कन्या-पति-पत्नी के बीच प्रेम हमेशा बना रहता है। दोनों एक-दूसरे का सम्मान करते हैं। संतान की वजह से समाज में सम्मान मिलता है।

    तुला-शादी के बाद इस राशि के लोगों की वजह से पूरा परिवार सुखी बनता है। पति-पत्नी के बीच परस्पर प्रेम रहता है। संतान का सुख जल्दी मिलता है।

    वृश्चिक-इन लोगों को जीवन साथी से भरपूर प्रेम मिलता है। संतान श्रेष्ठ होती है। इनके स्वर्ण आभूषणों में बढ़ोतरी होती रहती है।

    धनु-इस दिन विवाह करने से भाग्योदय हो सकता है। संतान कुल का नाम रोशन करने वाली होती है। पति-पत्नी के बीच विवाद नहीं होते।

    मकर-इस दिन विवाह होने से दंपत्ति के बीच विवाद होने की संभावनाएं काफी कम रहती हैं। संतान शुभ लक्षणों वाली होती है। विवाह के बाद तरक्की होती है।

    कुंभ-इस दिन शादी करने से श्रेष्ठ संतान प्राप्त होती है, जो कि बहुत अध्ययन करने वाली और धनवान होती है। इनका दांपत्य जीवन सुखमय होता है।

    मीन-शादी के बाद धार्मिक भावनाएं बढ़ती हैं। संतान भी धार्मिक होती है। पति-पत्नी के बीच विवाद होने की संभावनाएं बहुत कम रहती हैं।

    ये भी पढ़ें-

    पत्नी रोज करेगी ये एक काम तो पति को मिल सकता है भाग्य का साथ, दूर हो सकती है गरीबी

    पति-पत्नी जब भी हों एकांत में तो ये बातें ध्यान रखें, हमेशा सुखी रहेंगे

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×