Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Jyotish Nidaan» Kalsarp Dosh And Jyotish Upay. कालसर्प दोष के आसान उपाय

कालसर्प दोष से डरने की जरुरत नहीं, 1 आदत और 2 उपाय देंगे भरपूर लाभ

जब कुंडली में राहु और केतु के बीच सारे ग्रह आ जाएं तो उसे कालसर्प दोष कहा जाता है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - May 07, 2018, 05:49 PM IST

  • कालसर्प दोष से डरने की जरुरत नहीं, 1 आदत और 2 उपाय देंगे भरपूर लाभ, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें

    रिलिजन डेस्क. ज्योतिष में जो सबसे ज्यादा डराते हैं उनमें शनि की ढेय्या, साढ़ेसाती, राहु, केतु और कालसर्प दोष। कई लोग कालसर्प दोष से पीड़ित होते हैं और उससे नुकसान उठाते हैं। ज्योतिष में इस दोष को सर्प दोष कहा गया है लेकिन कालांतर में इसका नाम कालसर्प दोष पड़ गया। ये दोष कई तरह का होता है। 12 प्रमुख कालसर्प दोष होते हैं। जब कुंडली में राहु और केतु के बीच सारे ग्रह आ जाएं तो उसे कालसर्प दोष कहा जाता है। राहु मुख है और केतु उसकी पूंछ। मुंह और पूंछ के बीच जब सारे ग्रह आ जाएं तो ये सांप जैसी आकृति कुंडली में बनाते हैं।

    वैसे तो कालसर्प दोष के कई नुकसान बताए गए हैं। लेकिन इसका सबसे बड़ा नुकसान है कन्फ्यूजन होना। चूंकि इस दोष में राहु सारे ग्रहों के आगे होता है, जिसे राक्षस का सिर माना गया है, तो वो अपने राक्षसी स्वभाव के कारण नुकसान कराता है। इस दोष के कारण इंसान हमेशा कन्फ्यूजन या दुविधा में रहता है, किसी बात का सही निर्णय नहीं ले पाता। इस कारण वो हमेशा गलत फैसलों के कारण नुकसान उठाता है।

    एक नई आदत बनाएं

    अगर आपकी कुंडली में कालसर्प दोष है तो आप एक आदत बदल दें। खुद फैसले लेने की। कालसर्प दोष में सबसे बड़ा नुकसान ही ये होता है कि इंसान को जब भी कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेना होता है तो उसके सामने एक से ज्यादा ऑप्शन आ जाते हैं जो उसे दुविधा में डालते हैं। अगर आप कालसर्प से पीड़ित हैं तो सबसे पहले खुद कोई निर्णय लेने की आदत को छोड़ दें। जब भी कोई महत्वपूर्ण फैसला लेना हो तो किसी भरोसेमंद इंसान जैसे, जीवनसाथी, माता-पिता, भाई-बहन या किसी दोस्त से सलाह जरूर लें। इससे आपको कालसर्प के दोष का नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा।

    ये दो उपाय करें

    अगर कालसर्प दोष की पूजा नहीं करा पा रहे हैं तो भी दो उपाय ऐसे हैं जिनको करने से आपको इस दोष से काफी राहत मिल जाएगी।

    पहला उपाय - अपने घर के मुख्य द्वार की चौखट या अपने बेडरुम के दरवाजे की चौखट पर चांदी के दो नाग और एक स्वस्तिक का निशान लगाएं। दोनों नागों के बीच में स्वस्तिक का चिन्ह हो। इससे आपके ऊपर काल सर्पदोष का असर कम होगा।

    दूसरा उपाय - किसी भी पंचमी के दिन शिव मंदिर में जाएं, शिवजी को जल चढ़ाकर लाल गुलाब अर्पित करें फिर रुद्राक्ष की माला से 108 बार ऊँ नमः शिवाय मंत्र का जाप करें। इसके बाद रोज घर में ही एक माला इस मंत्र की फेरते रहें। इससे आपको कालसर्प दोष के प्रभाव से राहत मिलेगी।

  • कालसर्प दोष से डरने की जरुरत नहीं, 1 आदत और 2 उपाय देंगे भरपूर लाभ, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×