Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Hanuman Bahuk, Hanumanji Worship, Hanumanji's Measures, हनुमान बाहुक, हनुमानजी की पूजा, हनुमानजी के उपाय

रोज नहीं कर सकते हनुमान बाहुक का पाठ तो सिर्फ मंगलवार को करें, मिल सकते हैं 4 फायदे

हनुमान बाहुक का पाठ करने से किसी की भी इच्छा पूरी हो सकती है और उस पर हनुमानजी की कृपा भी हमेशा बनी रहती है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 03, 2018, 05:00 PM IST

  • रोज नहीं कर सकते हनुमान बाहुक का पाठ तो सिर्फ मंगलवार को करें, मिल सकते हैं 4 फायदे, religion hindi news, rashifal news

    रिलिजन डेस्क। हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए अनेक मंत्रों, स्तुतियों और आरती आदि की रचना की गई है। उन्हीं में से एक है हनुमान बाहुक। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, हनुमान बाहुक का पाठ रोज विधि-विधान से किया जाए तो किसी की भी इच्छा पूरी हो सकती है और उस पर हनुमानजी की कृपा भी हमेशा बनी रहती है। जानिए कैसे करें हनुमान बाहुक का पाठ और उससे आपको क्या लाभ हो सकते हैं...


    इस विधि से करें हनुमान बाहुक का पाठ...
    1. रोज सुबह स्नान आदि करने के बाद साफ कपड़े पहनकर एक लाल कपड़े पर हनुमान की मूर्ति या चित्र स्थापित करें।
    2. हनुमानजी को अबीर, गुलाल आदि चढ़ाएं और लाल फूल अर्पित करें। गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाएं तो पाठ के अंत तक जलता रहे।
    3. घर में बने शुद्ध घी के चूरमे का भोग लगाएं। अगर संभव न हो तो गुड़-चने का भोग भी लगा सकते हैं।
    4. इसके बाद हनुमान बाहुक का पाठ करना शुरू करें। पाठ समाप्त होने पर हनुमानजी के कष्टों का निवारण करने के लिए प्रार्थना करें।
    5. अगर रोज पाठ करना संभव न हो तो सिर्फ मंगलवार को भी हनुमान बाहुक का पाठ कर सकते हैं।


    ये हो सकते हैं फायदे…
    1. हनुमान बाहुक का पाठ करने से इच्छा शक्ति बढ़ती है, जिससे आप हर मुश्किल का सामना कर सकते हैं।

    2. जिस घर में हनुमान बाहुक का पाठ होता है, वहां नेगेटिव एनर्जी नहीं टिक पाती।

    3. धन, संतान, नौकरी, बीमारी आदि सभी समस्याओं का समाधान हनुमान बाहुक का पाठ करने से हो सकता है।

    4. हनुमान बाहुक का पाठ करने से जीवन के सभी सुख मिल सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×