Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Ganga Saptami On 22 April, Gangajal Measures, Ganga Water Measures, गंगा सप्तमी, गंगा जल के उपाय

अनजान शक्ति कर रही है परेशान तो करें गंगा जल का ये आसान उपाय

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी कहते हैं। ऐसी मान्यता है कि गंगा की उत्पत्ति इसी दिन हुई थी।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 20, 2018, 05:00 PM IST

  • अनजान शक्ति कर रही है परेशान तो करें गंगा जल का ये आसान उपाय, religion hindi news, rashifal news

    रिलिजन डेस्क. वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की सप्तमी तिथि को गंगा सप्तमी कहते हैं। ऐसी मान्यता है कि गंगा की उत्पत्ति इसी दिन हुई थी। इस दिन गंगा नदी में स्नान कर पूजा करने का विशेष महत्व है। धर्म ग्रंथों के अनुसार, इस दिन गंगा नदी में स्नान करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस बार गंगा सप्तमी का पर्व 22 अप्रैल, रविवार को है।
    गंगा को मोक्षदायिनी कहा जाता है। विभिन्न अवसरों पर गंगा तट पर मेले और गंगा स्नान के आयोजन होते हैं। इनमें कुंभ पर्व, गंगा दशहरा, व्यास पूर्णिमा, कार्तिक पूर्णिमा, माघी पूर्णिमा, मकर संक्रांति व गंगा सप्तमी आदि प्रमुख हैं।


    इस विधि से करें स्नान
    गंगा सप्तमी पर स्नान करते समय पहले रुद्राक्ष सिर पर रखें। इसके बाद जल सबसे पहले सिर पर डालें और यह मंत्र बोलें-

    रुद्राक्ष मस्तकै धृत्वा शिर: स्नानं करोति य:।
    गंगा स्नान फलं तस्य जायते नात्र संशय:।।

    इसके अलावा 'ऊं नम: शिवाय' यह मंत्र भी मन ही मन स्मरण करें। इस मंत्र में रुद्राक्ष को सिर पर रखकर स्नान का फल गंगा स्नान के समान बताया गया है। यह उपाय घर या किसी भी तीर्थ स्नान के समय भी अपनाया जा सकता है। स्नान का यह तरीका तन के साथ मन को भी पवित्र और सकारात्मक ऊर्जा से भर देता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, गंगा जल से भी कई समस्याओं का समाधान हो सकता है। ये हैं गंगा जल से जुड़े कुछ उपाय-

    1. जिस घर में निगेटिव शक्ति का असर हो, वहां सुबह-शाम गंगा जल छिड़कने से इस समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है।
    2. अगर किसी व्यक्ति पर बुरी शक्ति का असर हो तो उस पर भी गंगा जल छिड़कना चाहिए। इससे पीड़ित व्यक्ति को आराम मिलता है।
    3. गंगा जल को हमेशा पूजा स्थान पर रखना चाहिए, ऐसा करने से घर में सुख-शांति बनी रहती है।
    4. जिस घर में वास्तु दोष, वहां भी यदि रोज गंगा जल छिड़का जाए तो उस दोष की शांति संभव है।
    5. पीपल पर गंगा जल चढ़ाने से शनिदेव में कमी आती है।
    6. शिवलिंग का अभिषेक गंगा जल से करने पर सभी सुखों की प्राप्ति होती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×