Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Effects Of Pukhraj, Topaz Yellow In Finger, Pukhraj In Which Finger

राशि अनुसार किन लोगों के लिए भाग्यशाली है पीला रत्न, मकर और कुंभ के लिए हो सकता है अशुभ

पुखराज रत्न इंडेक्स फिंगर में पहनने से बदल सकती है किसी की भी किस्मत

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 28, 2018, 08:12 PM IST

  • राशि अनुसार किन लोगों के लिए भाग्यशाली है पीला रत्न, मकर और कुंभ के लिए हो सकता है अशुभ, religion hindi news, rashifal news

    रिलिजन डेस्क।कुंडली में ग्रह दोष होने से व्यक्ति को किसी भी काम में आसानी से सफलता नहीं मिल पाती है। कुंडली के दोषों को दूर करने के लिए ज्योतिष में उपाय भी बताए गए हैं। सभी ग्रहों के लिए अलग-अलग राशि रत्न बताए गए हैं। अगर अशुभ ग्रह का रत्न पहन लिया जाए तो उसके बुरे असर को कम किया जा सकता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. दयानंद शास्त्री के अनुसार गुरु ग्रह के लिए पुखराज धारण किया जाता है। पुखराज पीला होता है और इसे इंडेक्स फिंगर में पहनते हैं। ये रत्न सभी राशियों के लिए शुभ नहीं होता है।

    राशि अनुसार यहां जानिए पुखराज से जुड़ी खास बातें...

    मेष-मेष राशि का स्‍वामी मंगल ग्रह है। मंगल और गुरु के बीच अच्‍छे संबंध हैं। साथ ही, गुरु का मेष राशि के नौवें और बारहवें भाव पर भी प्रभाव रहता है। मेष राशि के लोग गुरु का रत्‍न पुखराज पहन सकते हैं। इस राशि के लोग ये रत्‍न पहनेंगे तो सुख-समृद्धि, बुद्धि और ज्ञान मिल सकता है।

    वृषभ-वृषभ राशि का स्‍वामी ग्रह शुक्र है और इस ग्रह का गुरु के साथ सामान्‍य संबंध होता है। इसके अलावा गुरु, वृषभ राशि के आठवें और ग्‍यारहवें भाव का भी स्‍वामी है। वृषभ राशि के दूसरे, चौथे, पांचवें, नौवें, दसवें और ग्‍यारहवें भाव में गुरु हो तो उस व्‍यक्‍ति को पुखराज पहनने से आर्थिक मजबूती मिलती है।

    मिथुन-गुरु और मिथुन राशि के स्‍वामी बुध के बीच सामान्य संबंध हैं। कुंडली में गुरु दूसरे, चौथे, पांचवें, सातवें और आठवें भाव में हो तो व्यक्ति को पुखराज रत्‍न जरूर धारण करना चाहिए।

    कर्क-कर्क राशि का स्‍वामी चंद्र है। चंद्रमा का गुरु के साथ शांत और सौम्‍य संबंध है। गुरु छठे और नौवें भाव में हो तो कर्क राशि के लोग पुखराज रत्‍न पहन सकते हैं।

    सिंह-सिंह राशि का स्‍वामी सूर्य है। सूर्य और गुरु के बीच सकारात्‍मक संबंध है। ये दोनों ग्रह एक-दूसरे से मैत्री संबंध रखते हैं। गुरु पांचवें और आठवें भाव के स्‍वामी होने पर सिंह राशि के लोग पुखराज पहन सकते हैं। इन्‍हें सूर्य का रत्‍न माणिक्‍य और गुरु का रत्न पुखराज एक साथ पहनने से भी फायदा होता है।

    कन्‍या-कन्‍या का स्‍वामी ग्रह बुध है। बुध और गुरु के बीच मैत्री संबंध होने के कारण कन्‍या राशि के लोग पुखराज रत्‍न पहन सकते हैं।

    तुला-तुला राशि का स्‍वामी शुक्र है। गुरु और शुक्र के मध्‍य सामान्‍य संबंध होने के कारण तुला राशि के लोगों को पुखराज रत्‍न बहुत ज्‍यादा फायदा नहीं पहुंचाता है।

    वृश्चिक-वृश्चिक राशि का स्‍वामी ग्रह मंगल है। गुरु और मंगन दोनों मैत्री संबंध रखते है। इस राशि के लोग लाल मूंगे के साथ पुखराज रत्‍न धारण कर सकते हैं।

    धनु-गुरु ग्रह इस राशि के चौथे भाव का स्‍वामी हो तो व्यक्ति को पुखराज रत्‍न पहनने से लाभ मिल सकता है। इस राशि के लोग पुखराज रत्‍न पहन सकते हैं।

    मकर-मकर राशि का स्‍वामी शनि है। शनि और गुरु के बीच शत्रु संबंध होने के कारण मकर राशि के लोगों को पुखराज रत्‍न पहनने से बचना चाहिए। ये रत्‍न आपको फायदे की जगह नुकसान पहुंचा सकता है।

    कुंभ-कुंभ राशि का स्‍वामी शनि ग्रह है। शनि और गुरु के बीच शत्रु संबंध होने के कारण कुंभ राशि के लोगों को पुखराज रत्‍न नहीं पहनना चाहिए।

    मीन-गुरु इस राशि के दसवें भाव का स्‍वामी हो तो बेहद शुभ फल प्रदान करता है। मीन राशि के लोगों को पुखराज रत्‍न सामान्‍य फल दे सकता है।

    अपनी फ्री कुंडली देखने और ज्योतिषियों से परामर्श लेने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×