Home » Jeevan Mantra »Self Help» Did You Know Deadly Secrets Codes Of Plastic Bottles?

आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता

आप जिस प्लास्टिक की बोतल से बार-बार पानी पीते हैं वो आपके लिए स्लो पॉइजन का काम भी कर सकती है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 22, 2018, 08:44 PM IST

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क।दुनिया में शायद ही कोई ऐसा होगा जिसने प्लास्टिक बोतल से पानी नहीं पिया हो। घर से ऑफिस तक सभी जगह हम प्लास्टिक बोतल से ही पानी पीते हैं। लगभग सभी घर के फ्रिज में पानी की बोतल प्लास्टिक की होती है। वहीं, दूसरी तरफ ट्रैवल के दौरान भी जो मिनरल वाटर लेते हैं वो प्लास्टिक बोतल में पैक्ड होता है। अब सुनिए, आप जिस प्लास्टिक की बोतल से बार-बार पानी पीते हैं वो आपके लिए स्लो पॉइजन का काम भी कर सकती है। दरअसल, सभी प्लास्टिक बोतल के नीचे एक कोड होता है। इस कोड से बोतल की क्वालिटी और उसे यूज करने के बारे में जानकारी मिलती है।

    # प्लास्टिक बोतल को बनाने में टॉक्सिक (जहरीले) केमिकल्स का यूज किया जाता है। ये केमिकल्स सभी बोतल में एक समान यूज नहीं किया जाता है। यानी हर प्लास्टिक बोतल से खतरा नहीं होता। आपको इन बोतल से किसी तरह का खतरा नहीं हो, इसके लिए इनके पीछे एक कोड दिया जाता है। इस कोड को देखकर आप बोतल के यूज का पता लगा सकते हैं।

    # पीछे लिखा होता है PETE या PET

    प्लास्टिक की लगभग सभी बोतल के नीचे कोड के साथ PETE या PET लिखा होता है। इसका मतलब है कि बोतल में पॉलिथिलीन टेपेफथालेट कैमिकल का यूज किया गया है। यानी यदि इस बोतल का यूज फिर से किया गया तब ये कैमिकल बॉडी में पहुंचकर कैंसर जैसी घातक बीमारी दे सकता है।

    आगे की स्लाइड्स पर जानिए बोतल के नीचे लिखे कोड का मतलब...

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    # नंबर-1

    यदि बोतल के नीचे 1 नंबर लिखा है, तब इसका मतलब है कि बोतल को सिर्फ एक बार यूज किया जाए। मिनरल वाटर की बोतल के पीछे ये नंबर होता है। इसीलिए इन बोतल पर CRUSH THE BOTTLE AFTER USE लिखा रहता है। इन बोतल को एक्सपायरी के बाद यूज नहीं करना चाहिए।

    1 नंबर का यूज : सोडा बोतल, वाटर बोतल, बियर बोतल, सलाद ड्रेसिंग कंटेनर, माउथ-वॉश बोतल और पीनट बटर कंटेनर

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    # नंबर-2

    बोतल के नीचे यदि 2 नंबर दिया है, तो ये बोतल पूरी तरह सेफ है। इनमें हाई-डेन्सिटी पॉलीथीन (HDPE) का यूज किया जाता है। यानी इस नंबर की बोतल को आप बार-बार यूज कर सकते हैं।

    2 नंबर का यूज : मिल्क जग, घर में यूज होने वाले कंटेनर, जूस बोतल, शैम्पू बोतल, मोटर ऑयल बोतल, दही या मक्खन की पैकिंग।

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    # नंबर-3

    यदि आपकी बोतल के पीछे या किसी अन्य यूज हो रही प्लास्टिक के नीचे 3 नंबर का कोड दिया है, तब इसका यूज तुरंत बंद कर देना चाहिए। इस तरह की प्लास्टिक में V या PVC का यूज किया जाता है। इस बोतल से कई बीमारियां हो सकती हैं। खासकर, प्रेगनेंट लेडी को गर्भपात हो सकता है।

    3 नंबर का यूज : फूट वार्प्स, प्लंबिंग पाइप्स और डिटरजेंट बोतल।

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    # नंबर-4

    बोतल के नीचे यदि 4 नंबर दिया है, तो ये बोतल पूरी तरह सेफ है। यानी इसे आप बार-बार यूज कर सकते हैं। इन्हें बनाने में LDPE का यूज होता है।

    4 नंबर का यूज : ग्रोसरी बैग, ड्राय क्लिनिंग बैग, कपड़े, कालीन, फ्रोजन फूट, ब्रेड बैग।

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    # नंबर-5

    बोतल के नीचे यदि 5 नंबर दिया है, तो ये सबसे सेफ बोतल होगी। इस बनाने में PP (Polypropylene) का यूज किया जाता है। अक्सर इनका यूज आइसक्रीम कप या बॉक्स में किया जाता है।

    5 नंबर का यूज : कैचअप बोतल, सीरप बोतल, मेडिसिन बोतल, दही की पैकिंग।

  • आपकी प्लास्टिक बोतल कितनी सेफ है, नीचे लिखे कोड से ऐसे करें पता, religion hindi news, rashifal news
    +6और स्लाइड देखें

    # नंबर-6 और 7

    यदि आप किसी ऐसी प्लास्टिक बोतल या बॉक्स का यूज कर रहे हैं जिसका नंबर 6 या 7 है तब इसका यूज तुरंत बंद कर दें। 6 नंबर वाली प्लास्टिक में पॉलीस्टाइन और 7 नंबर वाली प्लास्टिक में BISPHENOL-A (BPA) का यूज होता है। इन दोनों के यूज से बांझपन, कैंसर या अन्य सेहत से जुड़ी बड़ी बीमारियां हो सकती हैं।

    6 नंबर का यूज : प्लास्टिक स्पून, प्लास्टिक फॉर्क, कॉम्पेक्ट डिस्क, एग कार्टून, मीट ट्रे, डिस्पोजल प्लेट और कप।

    7 नंबर का यूज : सन ग्लासेस, iPod केस, कम्प्यूटर केस, नायलॉन, 3 और 5 गैलन वाटर बोतल।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×