Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Benefits Of Swastik In Home, How To Get Happiness, Jyotish Ke Upay

बरसों पुरानी गरीबी भी 6 चमत्कारी उपायों से हो सकती है दूर

बरकत के लिए दुकान या घर में बनाएं हल्दी का स्वस्तिक

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jun 02, 2018, 05:25 PM IST

  • बरसों पुरानी गरीबी भी 6 चमत्कारी उपायों से हो सकती है दूर, religion hindi news, rashifal news

    रिलिजन डेस्क।अगर किसी व्यक्ति की कुंडली ग्रहों के दोष होते हैं तो उसे किसी भी काम में आसानी से सफलता नहीं मिल पाती है। घर-परिवार में दुखों का सामना करना पड़ता है। अगर कोई व्यक्ति व्यापार करता है और उसे सफलता नहीं मिल पा रही है तो गणेशजी के उपायों से सभी दिक्कतें दूर हो सकती हैं। गणेशजी को प्रसन्न करने के लिए ज्योतिष में स्वस्तिक के उपाय बताए गए हैं।

    यहां जानिए उज्जैन के इंद्रेश्वर महादेव मंदिर के पुजारी और ज्योतिर्विद पं. सुनील नागर के अनुसार घर और दुकान में बरकत बढ़ाने के लिए स्वस्तिक के कौन-कौन से उपाय किए जा सकते हैं...

    पहला उपाय

    अगर किसी व्यक्ति का व्यापार नहीं बढ़ रहा है तो लगातार 7 गुरुवार तक दुकान या घर के उत्तर-पूर्वी कोने में हल्दी से स्वस्तिक बनाएं। स्वस्तिक बनाने से पहले उस जगह को गंगाजल से धोकर साफ कर लेना चाहिए। स्वस्तिक बनाकर उसकी पूजा करें, गुड़ का भोग लगाएं। इस उपाय से धन लाभ के योग बन सकते हैं।

    दूसरा उपाय

    घर के बाहर रोज छोटी सी रंगोली बनाएं। रंगोली के साथ ही कुमकुम या सिंदूर से स्वस्तिक बनाएं। रंगोली के साथ बनाया गया स्वस्तिक मंगलकारी होता है।

    तीसरा उपाय

    मान्यता है कि घर में पूजा करते समय स्वस्तिक बनाकर उसके ऊपर भगवान की मूर्ति रखने से पूजा जल्दी सफल होती है। स्वस्तिक पर विराजित भगवान भक्त की इच्छाएं जल्दी पूरी करते हैं।

    चौथा उपाय

    घर के मंदिर में स्वस्तिक बनाकर उसके ऊपर दीपक जलाएं। इस दीपक से घर में सकारात्मक बनी रहती है।

    पांचवां उपाय

    जब भी किसी मंदिर जाएं तो अपनी मनोकामनाओं के लिए गोबर या कुमकुम से उल्टा स्वस्तिक बनाना चाहिए। जब मनोकामना पूरी हो जाए तो उसी मंदिर जाकर सीधा स्वस्तिक बनाना चाहिए।

    छठा उपाय

    पितर देवताओं की कृपा प्राप्त करने के लिए घर में रोज गोबर से स्वस्तिक बनाना चाहिए। इससे पितर देवता प्रसन्न होते हैं और घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×