Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » कुंडली के योग, Astro Tips About Health, Kundli Reading About Health

ऐसे मालूम करें आपको कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं, ये हैं आपकी हेल्थ से जुड़े संकेत

किसी भी व्यक्ति की कुंडली से स्वास्थ्य संबंधी बातें भी मालूम हो सकती हैं।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 11, 2018, 05:14 PM IST

  • ऐसे मालूम करें आपको कौन-कौन सी बीमारियां हो सकती हैं, ये हैं आपकी हेल्थ से जुड़े संकेत, religion hindi news, rashifal news

    यूटिलिटी डेस्क. दैनिक दिनचर्या में हुई लापरवाही के चलते स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां होने की संभावनाएं काफी बढ़ जाती हैं। किस व्यक्ति को कौन सी बीमारी हो सकती है ये कुंडली देखकर मालूम हो सकता है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार ज्योतिष एक ऐसा विज्ञान है, जिससे कुंडली देखकर यह भी मालूम हो सकता है कि व्यक्ति आजीवन स्वस्थ रहेगा या किसी गंभीर रोग से पीड़ित हो सकता है। यहां जानिए कुंडली में किस ग्रह के दोष होने से कौन सी बीमारी हो सकती है।

    - जिन लोगों की कुंडली में शनि अशुभ स्थिति में है, उन्हें नसों से जुड़ी कोई बीमारी हो सकती है। अशुभ शनि की वजह से कैंसर होने की संभवानाएं बनती है। कोई बडी चोट लग सकती है। ऑपरेशन, हड्डियों से जुड़ी समस्या हो सकती है।

    - अगर किसी व्यक्ति की कुंडली में राहु अशुभ है तो कोई ऑपरेशन हो सकता है, स्त्रियों को मासिक धर्म से जुड़ी बीमारी हो सकती है, त्वचा रोग, कोई गुप्त रोग भी हो सकता है।

    - किसी व्यक्ति की कुंडली में मंगल के संबंधित दोष हैं तो व्यक्ति को रक्तचाप से जुड़ी परेशानी हो सकती है। हड्डियों का कोई रोग हो सकता है और कैंसर होने के भी योग बन सकते हैं।

    - कुंडली में केतु के दोष होने की वजह से त्वचा रोग हो सकते हैं, सफेद दाग या कोई ऐलर्जी हो सकती है।

    कुंडली में ये है रोगों से जुड़ा भाव

    - पं. शर्मा के अनुसार कुंडली का षष्ठम यानी छठा भाव रोगों का कारक होता है। इसी भाव की स्थिति से मालूम होता है कि व्यक्ति स्वस्थ रहेगा या नहीं।

    - षष्ठम भाव से शत्रुओं से जुड़ी बातें भी मालूम हो सकती हैं। इस भाव में कोई अशुभ ग्रह हो तो वह अपनी प्रकृति के अनुसार व्यक्ति को रोग देता है। कुछ स्थितियों में कभी-कभी शुभ ग्रह भी रोग कारक हो सकते हैं।

    - षष्ठ भाव में अशुभ ग्रह भी कभी-कभी शुभ फल प्रदान कर सकते हैं। अगर अशुभ ग्रह मित्र राशि में हो या स्वयं की राशि में हो तो ऐसा होना संभव हो पाता है।

    - कुंडली में सूर्य, बुध, चंद्र, शुक्र, गुरु अगर षष्ठम भाव में शत्रु राशि में हो तो गंभीर रोग हो सकता है।

    ये भी पढ़ें-

    मान्यताएं- नमक की वजह से बढ़ सकती है कंगाली, अगर ध्यान नहीं रखी ये बातें
    इन 2 राशियों पर मेहरबान रहते हैं शनिदेव, जानिए 5-5 खास बातें

    राशिफल- 18 अप्रैल से शनि होगा वक्री, नाम अक्षर से जानें किन राशियों का होगा भाग्योदय

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×