Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Hastrekha» According To Samudra Shasatra You Can Know Your Future By Neck

समुद्र शास्त्र : छोटी गर्दन वाले लोग होते हैं ज्यादा मेहनती, गर्दन के आकार से पता चल सकता है व्यक्ति का स्वभाव और भविष्य

समुद्र शास्त्र के अनुसार मनुष्य के शरीर का हर अंग उसके स्वभाव और भविष्य के बारे में कुछ न कुछ बताता है।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Jul 19, 2018, 07:11 PM IST

समुद्र शास्त्र : छोटी गर्दन वाले लोग होते हैं ज्यादा मेहनती, गर्दन के आकार से पता चल सकता है व्यक्ति का स्वभाव और भविष्य, religion hindi news, rashifal news

रिलीजन डेस्क.समुद्र शास्त्र के अनुसार मनुष्य के शरीर का हर अंग उसके स्वभाव और भविष्य के बारे में कुछ न कुछ बताता है। यानी अगर किसी मनुष्य के शरीर पर पूरी तरह से गौर किया जाए तो उसके बारे में बहुत कुछ आसानी से जाना जा सकता है। समुद्र शास्त्र के अनुसार, गर्दन भी एक ऐसा ही अंग है जो किसी भी इंसान के स्वभाव को अच्छे से व्यक्त करता है। जैसे इसके अनुसार छोटी गर्दन वाले लोग ज्यादा मेहनती होते हैं। आइए जानते है कैसी गर्दन वाले इंसान का व्यवहार और भविष्य कैसा हो सकता है।

छोटी गर्दन
सामान्य से छोटी गर्दन वाले लोग कम बोलने वाले, मेहनती व घमंडी हो सकते हैं। ऐसे लोगों पर आसानी से भरोसा नहीं करना चाहिए।
मोटी गर्दन
जिसकी गर्दन सामान्य से ज्यादा मोटी होती है,ऐसे लोग क्रोध करने वाले होते हैं। ये लोग थोड़े मतलबी और घमंडी स्वभाव के होते हैं ।
सीधी गर्दन
जिन लोगों की गर्दन सीधी होती है, ऐसे लोग स्वाभिमानी और अपने नियमों के पक्के होते हैं। इन पर विश्वास किया जा सकता है।
लंबी गर्दन
सामान्य से ज्यादा बड़ी गर्दन वाले लोग बातूनी, मंदबुद्धि, अस्थिर, निराश और चापलूस स्वभाव के होते हैं।
छोटी गर्दन
सामान्य से छोटी गर्दन वाले लोग कम बोलने वाले, मेहनती, अविश्वसनीय व घमंडी हो सकते हैं।
सूखी गर्दन
ऐसी गर्दन जिसमें मांस कम हो और नसें दिखाई देती हो ऐसी गर्दन वाले लोग सुस्त, आलसी, गुस्सेल, कम समझ वाले हो सकते हैं।
ऊंट जैसी गर्दन
पतली व ऊंची गर्दन वाले ऐसे सहनशील व मेहनती होते हैं। हालांकि ये लोग धोखेबाज और स्वार्थी स्वभाव के भी हो सकते हैं।
आदर्श गर्दन
ऐसी गर्दन वाले लोग कला प्रेमी होते हैं। ये स्वभाव से सरल होते हैं ऐसे लोग सुख का जीवन जीते हैं।
समुद्र शास्त्र

- सामुद्रिक शास्त्र में व्यक्ति की शारीरिक बनावट, हाव-भाव और चिन्हों के आधार पर उसके स्वभाव और भविष्य के बारे में बताया गया

है।
- इसकी रचना समुद्र ऋषि ने की थी। इसीलिए इसे समुद्र शास्त्र कहा गया।

Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप

Trending

Top
×