Home» Jeevan Mantra »Tirth Darshan» Story Of Shani Temple Near Gwalior

लंका से हनुमान के फेंकने पर यहां गिरे थे शनिदेव, आज भी हैं गिरने का निशान

जीवन मंत्र डेस्क | May 20, 2017, 06:00 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स

मंदिर में स्थापित शनि देव की मूर्ति

25 मई को शनि जयंती है। इसी मौके पर हम आपको शनि देव के सबसे खास तीर्थ स्थल के बारे में बताने जा रहे हैं।मध्य प्रदेश में ग्वालियर के पास बने शनिदेव मंदिर का विशेष महत्व है। यह देश के सबसे प्राचीनतम शनि मंदिरों में से एक माना जाता है। शनिदेन के यहां विराजित होने के कारण इस जगह को बहुत ही प्रभावशाली माना जाता है।


भगवान हनुमान ने यहां भेजा था शनिदेव को

प्राचीन कथा के अनुसार, रावण ने शनिदेव को भी कैद कर रखा था। जब हनुमान जी माता सीता की खोज में लंका पहुंचे, तब उन्होंने वहां पर शनिदेव को रावण की कैद में देखा। भगवान हनुमान को देख शनिदेव ने उनसे यहां से आजाद करने की विनती की। शनिदेव के कहने पर भगवान हनुमान नो उन्हें लंका से कहीं दूर फेंक दिया, ताकि शनिदेव किसी सुरक्षित जगह पर जा सकें। हनुमान जी के द्वारा लंका से फेंके जाने पर शनिदेव इस क्षेत्र में आकर प्रतिष्ठित हो गए और तब से यह क्षेत्र शनिक्षेत्र के नाम से विख्यात हो गया।


आज भी मौजूद हैं शनिदेव के गिरने का निशान

जब शनिदेव यहां आ कर गिरे तो उल्कापास सा हुआ। शिला के रूप में वहां शनिदेव के प्रतिष्ठत होने से एक बड़ा गड्ढा बन गया, जैसा कि उल्का गिरने से होता है। ये गड्ढा आज भी मौजूद है।


तेल चढ़ाने के बाद गले मिलने की परंपरा

यहां शनि देव को तेल चढ़ाने के बाद उनसे गले मिलने की परंपरा प्रतलित है। जो भी यहां आता है वह शनिदेव को तेल चढ़ाने के बाद बड़े प्यार से शनि महाराज से गले मिलता है और अपनी तकलीफें उनसे बांटता है। कहा जाता है कि ऐसा करने से शनिदेव उस व्यक्ति की सारी तकलीफें दूर कर देते हैं।
आगे की स्लाइड्स पर देखें मंदिर की कुछ तस्वीरें...
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: story of shani temple near gwalior
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      Trending Now

      पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

      दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

      * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
      Top