Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » History And Story Of Tuti Jharna Shiv Temple

यहां खुद गंगा करती है शिव का अभिषेक, आज भी कोई नहीं जानता इसका रहस्य

यहां गंगा जलधारा से करती है भगवान शिव का अभिषेक

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 02, 2017, 05:00 PM IST

  • यहां खुद गंगा करती है शिव का अभिषेक, आज भी कोई नहीं जानता इसका रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    मंदिर में स्थापित शिवलिंग

    हर मंदिर का अपना ही अलग महत्व औऱ रहस्य होता है। दुनियाभर में भगवान शिव के ऐसे ही अनेक रहस्यमयी और चमत्कारी मंदिर है। कई मंदिरों के रहस्य आज तक भक्तों के लिए आश्चर्य का केन्द्र बना हुआ है। इन्हीं मंदिरों में से एक मंदिर है भगवान शिव का टूटी झरना मंदिर।

    भगवान शिव का यह टूटी झरना नामक मंदिर रामगढ़ (झारखंड) से 8 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर बहुत ही अद्भुद है क्योंकि यहां भगवान के शिवलिंग का जलाभिषेक कोई और नहीं बल्कि स्वयं देवी गंगा करती हैं। सदियों से देवी गंगा निरंतर शिवलिंग पर जलधारा बहाती रहती है।

    आगे की स्लाइड्स पर जानें इस मंदिर से जुड़ी कुछ खास बातें...

  • यहां खुद गंगा करती है शिव का अभिषेक, आज भी कोई नहीं जानता इसका रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    मंदिर में स्थापित शिवलिंग

    मान्यताओं के अनुसार, जब देश में अंग्रेजों का शासन था। तब खुदाई करते समय उन्हें यह शिवलिंग दिखा था। शिवलिंग के ठीक ऊपर देवी गंगा का मूर्ति स्थित थी, जिनकी हथेली से एक जलधारा गुजर रही थी। वह जलधारा भगवान के शिवलिंग का जलाभिषेक करती हुई जा रही थी। उस दिन से लेकर आज तक देवी गंगा और भगवान शिव की वह मूर्तियां वहीं विराजित है और देवी गंगा के द्वारा भगवान का जलाभिषेक होता आ रहा है। मंदिर के अन्दर गंगा की प्रतिमा से स्वंय पानी निकलना अपने आप में एक चमत्कार है। यह पानी अपने आप कहा से आ रहा है, ये बात अभी तक रहस्य बनी हुई है।

  • यहां खुद गंगा करती है शिव का अभिषेक, आज भी कोई नहीं जानता इसका रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    मंदिर में स्थापित देवी गंगा की मूर्ति, जिससे प्राकृतिक रूप से पानी निकलता है

    कैसे पंहुचे- टूटी झरना मंदिर जाने के लिए साल को कोई भी समय चुना जा सकता है।

    हवाई मार्ग रामगढ़ से लगभग 31 कि.मी. की दूरी पर रांची एयरपोर्ट है। रांची तक हवाई मार्ग की सहायता से पहुंच कर, वहां से रामगढ़ रेल या बस की सहायता से पहुंचा जा सकता है। रामगढ़ पहुंचने के बाद निजी गाड़ी करके मंदिर पहुंच सकते है।

    रेल मार्ग देश की लगभग सभी बड़े शहरों से रामगढ़ के लिए नियमित रेल गाड़ियां चलती है। जिनसे रामगढ़ तक आ कर वहां से निजी साधन करके टूटी झरना मंदिर पहुंचा जा सकता है।

    सड़क मार्ग – रामगढ़ स्थित टूटी झरना मंदिर पहुंचने के लिए सड़क मार्ग से भी जाया जा सकता है। देश के लगभग सभी बड़े शहरों से रामगढ़ के लिए बस चलती है।

  • यहां खुद गंगा करती है शिव का अभिषेक, आज भी कोई नहीं जानता इसका रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    मंदिर का बाहर का दृश्य

    टूटी झरना मंदिर के आस-पास के घूमने के स्थान-

    1. रजरप्पा मंदिर- रामगढ़ से 28 कि.मी. की दूरी पर मां छिन्मस्तिका का मंदिर स्थित है। इस मंदिर का मुख्य आकर्षण देवी छिन्मस्किता की बिना सिर वाली मूर्ति हैं।

    2. मायातुंग मंदिर- यह मंदिर रामगढ़ से 5 कि.मी. की दूरी पर स्थित है। यह मंदिर पहाड़ों पर स्थित है। यहां के लोग इस मंदिर में पूजा करके भगवान से बारिश के लिए प्रार्थना करते है।

    3. दुर्दुरिय झरना- रामगढ़ से 4 कि.मी. की दूरी पर दुर्दुरिया नामक क सुंदर झरना स्थित है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: History And Story Of Tuti Jharna Shiv Temple
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×