Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » Untold Story Of Radha And Krishna In Hindi

राधा के साथ भी हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का विवाह, लिखा है इस ग्रंथ में

इसी जगह हुआ था राधा-कृष्ण का विवाह, जानिए पूरी कहानी

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 14, 2018, 05:00 PM IST

  • राधा के साथ भी हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का विवाह, लिखा है इस ग्रंथ में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें
    भाण्डीय वन

    श्रीगर्ग-संहिता की रचना महर्षि गर्ग ने की है। श्रीगर्ग-संहिता में भगवान कृष्ण से जुड़ी हर बात का वर्णन है।

    श्रीगर्ग-संहिता के गो-लोक खण्ड के एक प्रसंग में भगवान कृष्ण और राधा के विवाह का वर्णन है। किस तरह श्रीकृष्ण और राधा का विवाह हुआ था और किसने उनका विवाह करवाया था, पूरा प्रसंग दिया गया है।

    भाण्डीय वन में हुआ था राधा-कृष्ण का विवाह

    श्रीगर्ग-संहिता के अनुसार, राधा-कृष्ण का विवाह भाण्डीय वन में हुआ था। आज भाण्डीय वन उत्तरप्रदेश के मथुरा जिले में मौजूद है। मधुरा से यहां की दूरी लगभग 20 कि.मी. है। राधा-कृष्ण से जुड़ी होने का कारण इस जगह को बहुत ही पवित्र माना जाता है।

    भगवान ब्रह्मा ने करवाया था राधा-कृष्ण का विवाह

    ग्रंथ के अनुसार, राधा-कृष्ण का विवाह और किसी ने नहीं बल्कि खुद भगवान ब्रह्मा ने करवाया था। साथ ही राधा-कृष्ण के विवाह में सभी देवी-देवताओं ने भाग लेकर उन्हें आशीर्वाद भी दिया था।

    आज भी मौजूद है वो पेड़

    श्रीगर्ग-संहिता के अनुसार, भाण्डीर वन की जिस जगह पर राधा-कृष्ण का विवाह हुआ था, आज भी वह पेड़ मौजूद है। उस पेड़ के नीचे ही राधा-कृष्ण के साथ भगवान ब्रह्मा की मूर्ति स्थापित है। साथ ही पेड़ के नीचे लगी एक सूचना-पट्टि पर विवाह का पूरा वर्णन भी दिया गया है।

    ये हैं गर्ग-संहिता में दिया गया विवाह का पूरा प्रसंग

    श्रीगर्ग-संहिता के अनुसार, एक दिन नंदबाबा बालक कृष्ण को गोद में लिए घूम रहें थे। घूमते हुए वे दोनों भाण्डीय वन पहुंच गए। भाण्डीय वन पहुंचते ही भगवान कृष्ण ने अपनी माया से आधी-तूफान का वातावरण बना दिया। भगवान कृष्ण की इच्छा से वन में बहुत तेज तूफान आ गया। यह देखकर नंदबाबा बहुत डर गए। वे कृष्ण को गोद में लेकर एक पेड़ के नीचे खड़े हो गए और भगवान का स्मरण करने लगे। उसी समय वहां पर देवी राधा आ गईं।

    नंदबाबा कृष्ण और राधा के देव अवतार होने की बात जानते थे। उन्होंने देवी राधा को देखते ही हाथ जोड़ कर उनकी स्तुति करने लगे। कुछ समय बाद नंदबाबा बालरूपी भगवान कृष्ण को देवी राधा के हाथों में सौप कर वहां से चले गए। नंदजी के जाते ही श्रीकृष्ण ने अपना दिव्यरूप धारण कर लिया।

    श्रीकृष्ण के दिव्यरूप धारण कर लेने के बाद भगवान कृष्ण और देवी राधा भाण्डीय वन में घूमने लगे। तभी श्रीकृष्ण की इच्छा पर भगवान ब्रह्मा वहां आ गए। इसके बाद भगवान ब्रह्मा ने अग्नि की स्थापना करके देवी राधा और भगवान कृष्ण का विवाह करवाया था। श्रीगर्ग-संहिता के अनुसार, राधा-कृष्ण के विवाह में सभी देवी-देवताओं ने भाग लेकर उन्हें आशीर्वाद दिया था। विवाह के बाद फिर से भगवान कृष्ण ने अपना बालरूप धारण कर और देवी राधा उन्हें घर छोड़कर वहां से चली गईं।

    आगे देखें राधा-कृष्ण के विवाह स्थल की कुछ तस्वीरें...

  • राधा के साथ भी हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का विवाह, लिखा है इस ग्रंथ में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें
    भाण्डीय वन
  • राधा के साथ भी हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का विवाह, लिखा है इस ग्रंथ में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें
    भाण्डीय वन
  • राधा के साथ भी हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का विवाह, लिखा है इस ग्रंथ में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें
    भाण्डीय वन
  • राधा के साथ भी हुआ था भगवान श्रीकृष्ण का विवाह, लिखा है इस ग्रंथ में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें
    भाण्डीय वन
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×