Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » Myth And Story About Hanuman Birth Place

MYTH: गुफा में हुआ था हनुमान का जन्म, क्यों कलियुग में बंद हो गए इसके दरवाजे

इस गुफा में जन्म थें हनुमान, गुस्से में उनकी मां ने बंद कर दिए यहां के दरवाजे

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 09, 2017, 06:18 PM IST

  • MYTH: गुफा में हुआ था हनुमान का जन्म, क्यों कलियुग में बंद हो गए इसके दरवाजे, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    गुफा जहां हुआ था हनुमानजी का जन्म

    धर्म ग्रंथों के अनुसार, पौष मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी का हो हनुमान अष्टमी का पर्व मनाया जाता है। इस बार ये पर्व 10 दिसंबर, रविवार को है। इसी अवसर पर हम आपको बताने जा रहे हैं भगवान हनुमान से जुड़ी एक खास जगह के बारे में..

    भगवान हनुमान कलियुग के देवता माने जाते हैं। प्रचलित मान्यता के अनुसार, भगवान हनुमान का जन्म झारखंड के गुमला नाम जिले के उत्तरी क्षेत्र में हुआ था। यहां एक गुफा को भगवान हनुमान का जन्म स्थल माना जाता है। कहा जाता है कि कलियुग में वह गुफा अपनेआप बंद हो गई, जिसके पीछे भगवान हनुमान की माता अंजनी का गुस्सा माना जाता है।

    देवी अंजनी के नाम पर पड़ इस जगह का नाम आंजन

    भगवान हनुमान की माता अंजनी के नाम से ही इस गांव का नाम आंजन पड़ा। यह गांव गुमला जिला से लगभग 22 किमी की दूरी पर है। यहां पर एकमात्र ऐसा मंदिर है, जहां भगवान हनुमान की माता की गोद में बैठे दिखाई देते हैं।

    इसलिए कलियुग में बंद हो गए गुफा के दरवाजे

    स्थानीय मान्यताओं के अनुसार, भगवान हनुमान का जन्म गुमला जिले के आंजनधाम में स्थित एक पहाड़ी की गुफा में हुआ था। जिस गुफा में भगवान हनुमान का जन्म हुआ था, उसका दरवाजा कलयुग में अपने आप बंद हो गया। गुफा के दरवाजे को भगवान हनुमान की माता अंजनी ने स्वयं बंद कर लिया क्योंकि स्थानीय लोगों द्वारा वहां दी गई बलि से वे नाराज थीं। आज भी यह गुफा आंजन धाम में मौजूद हैं।

    1953 में बनाया गया माता अंजनी और हनुमान का मंदिर

    आंजनधाम में आज एक छोटा सा मंदिर है, जिसकी स्थापना भगवान हनुमान के भक्तों ने 1953 में की थी। इस मंदिर में भगवान हनुमान और माता अंजना का सुंदर मूर्ति है। यहां भगवान हनुमान अपनी माता की गोद में बैठे दिखाई देते हैं।

    यहां मौजूद सरोवर में किया था राम-लक्ष्मण में स्नान

    आंजन क्षेत्र से और भी कई पौराणिक गाथाएं जुड़ी हैं। इसी क्षेत्र में एक पंपापुर नाम का सरोवर है, जिसे लेकर मान्यता है कि इसी सरोवर में भगवान राम और लक्ष्मण ने स्नान किया था।

  • MYTH: गुफा में हुआ था हनुमान का जन्म, क्यों कलियुग में बंद हो गए इसके दरवाजे, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    आंजन क्षेत्र में बना भगवान हनुमान और उनकी माता का मंदिर

    इसलिए कलियुग में बंद हो गए गुफा के दरवाजे

    स्थानीय मान्यताओं के अनुसार, भगवान हनुमान का जन्म गुमला जिले के आंजनधाम में स्थित एक पहाड़ी की गुफा में हुआ था। जिस गुफा में भगवान हनुमान का जन्म हुआ था, उसका दरवाजा कलयुग में अपने आप बंद हो गया। गुफा के दरवाजे को भगवान हनुमान की माता अंजनी ने स्वयं बंद कर लिया क्योंकि स्थानीय लोगों द्वारा वहां दी गई बलि से वे नाराज थीं। आज भी यह गुफा आंजन धाम में मौजूद हैं।

  • MYTH: गुफा में हुआ था हनुमान का जन्म, क्यों कलियुग में बंद हो गए इसके दरवाजे, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    मंदिर में स्थापित माता अंजनी की गोद में बैठे हनुमान की मूर्ति

    1953 में बनाया गया माता अंजनी और हनुमान का मंदिर

    आंजनधाम में आज एक छोटा सा मंदिर है, जिसकी स्थापना भगवान हनुमान के भक्तों ने 1953 में की थी। इस मंदिर में भगवान हनुमान और माता अंजना का सुंदर मूर्ति है। यहां भगवान हनुमान अपनी माता की गोद में बैठे दिखाई देते हैं।

  • MYTH: गुफा में हुआ था हनुमान का जन्म, क्यों कलियुग में बंद हो गए इसके दरवाजे, religion hindi news, rashifal news
    +3और स्लाइड देखें
    गुफा जहां हुआ था हनुमानजी का जन्म

    यहां मौजूद सरोवर में किया था राम-लक्ष्मण में स्नान

    आंजन क्षेत्र से और भी कई पौराणिक गाथाएं जुड़ी हैं। इसी क्षेत्र में एक पंपापुर नाम का सरोवर है, जिसे लेकर मान्यता है कि इसी सरोवर में भगवान राम और लक्ष्मण ने स्नान किया था।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×