Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » Hanuman Jayanti 2018, Hanuman Temple, Lord Ram, Hanuman Temple In India

मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना

कलयुग में सबसे ज्यादा भगवान शंकर के ग्यारवें रुद्र अवतार श्रीहनुमानजी को ही पूजा जाता है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 27, 2018, 05:00 PM IST

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क. कलयुग में सबसे ज्यादा भगवान शंकर के ग्यारवें रुद्र अवतार श्रीहनुमानजी को ही पूजा जाता है। इसीलिए हनुमानजी को कलियुग का जीवंत देवता भी माना जाता है। वैसे तो भारत भर में हनुमानजी के लाखों मंदिर हैं, लेकिन उनमें से कुछ मंदिरों की अपनी खास विशेषता है, जिसके चलते यहां हनुमानजी के दर्शनों के लिए भक्तों का सैलाब उमड़ता है। हनुमान जयंती (31 मार्च, रविवार ) के मौके पर हम आपको ऐसे ही कुछ मंदिरों की जानकारी दे रहे हैं, जो इस प्रकार है-

    मुर्छित हनुमान मंदिर, इलाहबाद (उत्तर प्रदेश)
    इलाहबाद किले से सटे इस मंदिर में हनुमान की लेटी हुई प्रतिमा स्थापित है। यह सम्पूर्ण भारत का एकमात्र मंदिर है, जिसमें हनुमानजी की प्रतिमा लेटी हुई मुद्रा में हैं। यह प्रतिमा लगभग 20 फीट लंबी है। जब वर्षा के दिनों में बाढ़ आती है और यह सारा स्थान जलमग्न हो जाता है, तब हनुमानजी की इस मूर्ति को कहीं ओर ले जाकर सुरक्षित रखा जाता है। उपयुक्त समय आने पर इस प्रतिमा को पुन: यहीं लाकर स्थापित कर दिया जाता है।

    क्यों लेटी हुई अवस्था में है हनुमान प्रतिमा
    धार्मिक मान्यता के अनुसार, रावण के साथ लंका युद्ध में हनुमानजी काफी थक गये थे। युद्ध समाप्त होने पर जब वे श्रीराम के साथ वापस आए तो यहां आकर लेट गए। हनुमानजी को इतना कमजोर होते देख मां सीता ने उन्होने सिंदूर का लेप लगाकर उन्हें नई ऊर्जा प्रदान की थी। तभी भी यह मान्यता प्रचलित है कि जो भी भक्त यहां हनुमानजी का लाल सिंदूर से लेप करता है, उसकी सभी कामनाएं पूरी होती हैं।

    हनुमानजी के अन्य मंदिरों के बारे में जानने के लिए आगे की स्लाइड पर क्लिक करें-

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    बालाजी हनुमान मंदिर, मेहंदीपुर (राजस्थान)
    राजस्थान के दौसा जिले के पास दो पहाडिय़ों के बीच बसा हुआ मेहंदीपुर नामक स्थान है। यह मंदिर जयपुर-बांदीकुई-बस मार्ग पर जयपुर से लगभग 65 किलोमीटर दूर है। दो पहाड़ियों के बीच की घाटी में स्थित होने के कारण इसे घाटा मेहंदीपुर भी कहते हैं। जनश्रुति है कि यह मंदिर करीब 1 हजार साल पुराना है। यहां पर एक बहुत विशाल चट्टान में हनुमान जी की आकृति स्वयं ही उभर आई थी। इसे ही श्री हनुमान जी का स्वरूप माना जाता है।
    इनके चरणों में छोटी सी कुण्डी है, जिसका जल कभी समाप्त नहीं होता। यह मंदिर तथा यहाँ के हनुमान जी का विग्रह काफी शक्तिशाली एवं चमत्कारिक माना जाता है तथा इसी वजह से यह स्थान न केवल राजस्थान में बल्कि पूरे देश में विख्यात है। कहा जाता है कि मुगल साम्राज्य में इस मंदिर को तोडऩे के अनेक प्रयास हुए परंतु चमत्कारी रूप से यह मंदिर को कोई नुकसान नहीं हुआ।
    इस मंदिर की सबसे बड़ी विशेषता है कि यहां ऊपरी बाधाओं के निवारण के लिए आने वालों का तांता लगा रहता है। मंदिर की सीमा में प्रवेश करते ही ऊपरी हवा से पीडि़त व्यक्ति स्वयं ही झूमने लगते हैं और लोहे की सांकलों से स्वयं को ही मारने लगते हैं। मार से तंग आकर भूत प्रेतादि स्वत: ही बालाजी के चरणों में आत्मसमर्पण कर देते हैं।

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    हनुमानगढ़ी, अयोध्या
    धर्म ग्रंथों के अनुसार, अयोध्या भगवान श्रीराम की जन्मस्थली है। यहां का सबसे प्रमुख श्रीहनुमान मंदिर हनुमानगढ़ी के नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर राजद्वार के सामने ऊंचे टीले पर स्थित है। इसमें 60 सीढिय़ां चढऩे के बाद श्रीहनुमानजी का मंदिर आता है। यह मंदिर काफी बड़ा है। मंदिर के चारों ओर निवास योग्य स्थान बने हैं, जिनमें साधु-संत रहते हैं। हनुमानगढ़ी के दक्षिण में सुग्रीव टीला व अंगद टीला नामक स्थान हैं। इस मंदिर की स्थापना लगभग 300 साल पहले स्वामी श्रीअभयारामदासजी ने की थी।

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    सालासर हनुमान मंदिर, सालासर (राजस्थान)
    हनुमानजी का यह मंदिर राजस्थान के चूरू जिले में है। गांव का नाम सालासर है, इसलिए सालासर वाले बालाजी के नाम यह मंदिर प्रसिद्ध है। हनुमानजी की यह प्रतिमा दाड़ी व मूंछ से सुशोभित है। यह मंदिर पर्याप्त बड़ा है। चारों ओर यात्रियों के ठहरने के लिए धर्मशालाएं बनी हुई हैं। दूर-दूर से श्रद्धालु यहां अपनी मनोकामनाएं लेकर आते हैं और मनचाहा वरदान पाते हैं।
    इस मंदिर के संस्थापक मोहनदासजी बचपन से श्री हनुमानजी के प्रति अगाध श्रद्धा रखते थे। माना जाता है कि हनुमानजी की यह प्रतिमा एक किसान को जमीन जोतते समय मिली थी, जिसे सालासर में सोने के सिंहासन पर स्थापित किया गया है। यहां हर साल भाद्रपद, आश्विन, चैत्र एवं वैसाख पूर्णिमा पर विशाल मेला लगता है।

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    हनुमानधारा, चित्रकूट
    उत्तर प्रदेश के सीतापुर नामक स्थान के समीप यह हनुमान मंदिर स्थापित है। सीतापुर से हनुमानधारा की दूरी तीन मील है। यह स्थान पर्वतमाला के मध्यभाग में स्थित है। पहाड़ के सहारे हनुमानजी की एक विशाल मूर्ति के ठीक सिर पर दो जल के कुंड हैं, जो हमेशा जल से भरे रहते हैं और उनमें से निरंतर पानी बहता रहता है। इस धारा का जल हनुमानजी को स्पर्श करता हुआ बहता है। इसीलिए इसे हनुमान धारा कहते हैं। धारा का जल पहाड़ में ही विलीन हो जाता है। उसे लोग प्रभाती नदी या पातालगंगा कहते हैं।
    इस स्थान के बारे में एक कथा इस प्रकार प्रसिद्ध है- श्रीराम के अयोध्या में राज्याभिषेक होने के बाद एक दिन हनुमानजी ने भगवान श्रीरामचंद्र से कहा- हे भगवन। मुझे कोई ऐसा स्थान बतलाइए, जहां लंका दहन से उत्पन्न मेरे शरीर का ताप मिट सके। तब भगवान श्रीराम ने हनुमानजी को यह स्थान बताया था।

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    संकटमोचन मंदिर, वाराणसी (उत्तर प्रदेश)
    यह मंदिर उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में स्थित है। इस मंदिर के चारों ओर एक छोटा सा वन है। यहां का वातावरण एकांत, शांत एवं उपासकों के लिए दिव्य साधना स्थली के योग्य है। मंदिर के प्रांगण में श्रीहनुमानजी की दिव्य प्रतिमा स्थापित है। श्री संकटमोचन हनुमान मंदिर के समीप ही भगवान श्रीनृसिंह का मंदिर भी स्थापित है। ऐसी मान्यता है कि हनुमानजी की यह मूर्ति गोस्वामी तुलसीदासजी के तप एवं पुण्य से प्रकट हुई स्वंयभू मूर्ति है।
    इस मूर्ति में हनुमानजी दाएं हाथ में भक्तों को अभयदान कर रहे हैं एवं बायां हाथ उनके ह्रदय पर स्थित है। प्रत्येक कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी को हनुमानजी की सूर्योदय के समय विशेष आरती एवं पूजन समारोह होता है। उसी प्रकार चैत्र पूर्णिमा के दिन यहां श्रीहनुमान जयंती महोत्सव होता है। इस अवसर पर श्रीहनुमानजी की बैठक की झांकी होती है और चार दिन तक रामायण सम्मेलन महोत्सव एवं संगीत सम्मेलन होता है।

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    बेट द्वारका, गुजरात
    बेट द्वारका से चार मील की दूरी पर मकरध्वज के साथ में हनुमानजी की मूर्ति स्थापित है। कहते हैं कि पहले मकरध्वज की मूर्ति छोटी थी परंतु अब दोनों मूर्तियां एक सी ऊंची हो गई हैं। अहिरावण ने भगवान श्रीराम लक्ष्मण को इसी स्थान पर छिपा कर रखा था।
    जब हनुमानजी श्रीराम-लक्ष्मण को लेने के लिए आए, तब उनका मकरध्वज के साथ घोर युद्ध हुआ। अंत में हनुमानजी ने उसे परास्त कर उसी की पूंछ से उसे बांध दिया। उनकी स्मृति में यह मूर्ति स्थापित है। कुछ धर्म ग्रंथों में मकरध्वज को हनुमानजी का पुत्र बताया गया है, जिसका जन्म हनुमानजी के पसीने द्वारा एक मछली से हुआ था।

  • मान्यता: इस हनुमान मंदिर में सिंदूर चढ़ाने से पूरी होती है हर मनोकामना, religion hindi news, rashifal news
    +7और स्लाइड देखें

    कष्टभंजन हनुमान मंदिर, सारंगपुर (गुजरात)
    अहमदाबाद-भावनगर रेलवे लाइन पर स्थित बोटाद जंक्शन से सारंगपुर लगभग 12 मील दूर है। यहां एक प्रसिद्ध मारुति प्रतिमा है। महायोगिराज गोपालानंद स्वामी ने इस शिला मूर्ति की प्रतिष्ठा विक्रम संवत् 1905 आश्विन कृष्ण पंचमी के दिन की थी। जनश्रुति है कि प्रतिष्ठा के समय मूर्ति में श्रीहनुमानजी का आवेश हुआ और यह हिलने लगी। तभी से इस मंदिर को कष्टभंजन हनुमान मंदिर कहा जाता है। यह मंदिर स्वामीनारायण सम्प्रदाय का एकमात्र हनुमान मंदिर है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×