Home » Jeevan Mantra »Tirth Darshan » 9 Important Temples Around Rameshwaram

रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य

रामेश्वरम् के आस-पास बने ये 9 तीर्थ, जो बताते हैं रामायण के कई रहस्य

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 11, 2017, 05:00 PM IST

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    जाड़ा तीर्थ

    रामेश्वरम् ज्योतिर्लिंग भगवान शिव के सबसे प्रसिद्ध और खास मंदिरों में से एक है। मान्यता है कि इस मंदिर के शिवलिंग की स्थापना खुद भगवान श्रारीम ने ही की थी। रामेश्वर के महत्व और खासियत के बारे में कई पुराणों और ग्रंथों में पाया जाता है। जितना महत्वपूर्ण और खास रामेश्वर मंदिर है, उतने ही खास उसके आस-पास मौजूद ये 9 तीर्थ हैं। इन सभी जगहों पर भगवान श्रीराम और देवी सीता से जुड़ी कुथ खास घटनाएं घटी थी। जानिए रामेश्वरम के आस-पास मौजूद कौन-से हैं वे 9 तीर्थ...

    1. जाड़ा तीर्थ

    रामेश्वरम् से लगभग 3.5 कि.मी. की दूरी पर जाड़ा नाम का एक तालाब है। मान्यताओं के अनुसार, जब भगवान राम रावण का वध करके लौट रहे थे, तब उन्होंने इसी तालाब में अपने जाड़ा यानि बाल धोए थे। जाड़ा तालाब के पास ही एक शिव मंदिर बना हुआ है, कहा जाता है यहां के शिवलिंग की पूजा खुद भगवान राम ने की थी।

    आगे की स्लाइड्स पर जानें अन्य 8 तीर्थ स्थलों के बारे में...

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    गंधमादन पर्वत

    2. गंधमादन पर्वत

    यहीं वह जगह है, जहां भगवान श्रीराम अपनी वानर सेना के साथ बैठ कर युद्ध के लिए नीतियां बनाया करते थे। इस रामेश्वरम् की सबसे ऊंची जगह माना जाता है, इसलिए यहां से दूर-दूर के नजारे बहुत आसानी से देखे जा सकते हैं। कई लोगों का कहना हैं कि इस पर्वत पर भगवान राम के पैरों के निशान भी हैं।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    विलूंदी तीर्थ

    3. विलूंदी तीर्थ

    रामेश्वरम् मंदिर के लगभग 7 कि.मी. की दूरी पर एक कुआं है। मान्यता है, इस कुएं को खुद भगवान राम ने अपने तीर मार कर बनाया था। देवी सीता को प्यार लगी, तब उनकी प्यास बुझाने के लिए भगवान राम ने इस जगह पर अपने धनुष से एक कुएं का निर्माण किया था, जिसका पानी पीकर देवी सीता ने अपनी प्यास बुझाई थी।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    अग्नि तीर्थ

    4. अग्नि तीर्थ

    रामेश्वरम् मंदिर से मात्र 100 मीटर की दूरी पर यह तीर्थ है। रावण का वध करने के बाद भगवान राम ने इसी जगह पर स्नान किया था, जिसे आज अग्नि तीर्थ के नाम से जाना जाता है। जो भी मनुष्य इस जगह पर स्नान करता है, उसके सारे पापों का नाश हो जाता है और पुण्य की प्राप्ति होती है।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    धनुषकोटि तीर्थ

    5. धनुषकोटि तीर्थ

    धनुषकोटि तीर्थ रामेश्वरम् मंदिर से पूर्व दिशा में लगभग 18 कि.मी. की दूरी पर है। मान्यता है कि भगवान राम ने इसी पुल की मदद से लंका तक का सफर तय किया था। रावण का वध करने के बाद विभीषण की प्रार्थना पर भगवान राम ने इस पुल को इसी जगह से तोड़ दिया था, ताकी भविष्य में कोई भी राक्षस इसकी सहायता से लंका पहुंचकर आक्रमण न कर सके।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    लक्ष्मण तीर्थ

    6. लक्ष्मण तीर्थ

    रामेश्वरम् मंदिर के पास ही लक्ष्मण तीर्थ नाम की जगह है। यहां पर मंदिर के पास ही एक तालाब बना हुआ है, जिसे बहुत ही पवित्र माना जाता है। यहां के मंदिर में प्रवेश करने से पहले इस तालाब में स्नान करने की मान्यता है। मंदिर की दीवारों पर रामायण की कहानी चित्रों के द्वारा दिखाई गई है।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    पंचमुखी हनुमान मंदिर

    7. पंचमुखी हनुमान मंदिर

    रामेश्वरम् मंदिर से केवल 2 कि.मी. की दूरी पर पंचमुखी हनुमान मंदिर है। इसी जगह पर भगवान हनुमान ने सबसे पहले अपने पांच मुखों के दर्शन दिए थे। मंदिर में स्थारित हनुमान प्रतिमा सिंदूर से सजाई जाती है। मंदिर में भगवान हनुमान के अलावा भगवान राम, लक्ष्मण और देवी सीता की भी मूर्तियां हैं।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    कोथान्दारामस्वामी मंदिर

    8. कोथान्दारामस्वामी मंदिर

    रामेश्वरम् मंदिर से कुछ दूरी पर बने कोथान्दारामस्वामी मंदिर को लगभग 500 साल पुराना माना जाता है। मान्यताओं के अनुसार, यहीं वह जगह है, जहां पर भगवान राम ने विभीषण का अभिषेक किया था। मंदिर में भगवान राम, लक्ष्मण और देवी सीता के साथ विभीषण की भी मूर्ति है। मंदिर परिसर में भगवान राम के पैरों के निशान हैं और मंदिर की दीवारों पर विभीषण के अभिषेक करने हुए भगवान राम की तस्वीरें भी बनी हुई हैं।

  • रामेश्वरम् के आस-पास बने 9 तीर्थ, इनसे जुड़े हैं श्रीराम-सीता के कई रहस्य, religion hindi news, rashifal news
    +8और स्लाइड देखें
    सेतु कराई

    9. सेतु कराई

    सेतु कराई वहीं जगह से जहां से राम सेतु पुल बनाने की शुरुआत की गई थी। वैसे तो आज वास्तविक पुल विलुप्त हो गया है, लेकिन इसी जगह को उसका मूल स्थान माना जाता है। यह जगह रामेस्वरम् से लगभग 58 कि.मी. की दूरी पर है। अब यहां भगवान हनुमान का एक छोटा सा मंदिर है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 9 Important Temples Around Rameshwaram
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×