Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Sunday Ke Upay, Ravivar Ke Upay, Buri Nazar Ke Upay, Dhan Prapti Ke Upay

रविवार से शुरू करेंगे तांबे के लोटे का ये उपाय तो बुरी नजर होगी दूर, मिलेगा धन लाभ

धन संबंधी परेशानियां दूर करने के लिए ज्योतिष के उपाय करने से लाभ मिल सकते हैं।

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Feb 03, 2018, 05:00 PM IST

  • रविवार से शुरू करेंगे तांबे के लोटे का ये उपाय तो बुरी नजर होगी दूर, मिलेगा धन लाभ, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें

    कभी-कभी कुछ लोगों के साथ ऐसा होता है कि सबकुछ अच्छ चलता रहता है और अचानक ही हालात एकदम विपरीत हो जाते हैं। ज्योतिष के अनुसार इसकी वजह बुरी नजर हो सकती है। बुरी नजर की वजह से व्यक्ति अचानक बीमार हो सकता है, नौकरी या व्यापार में परेशानियां बढ़ सकती हैं। यहां जानिए बुरी नजर से बचने के कुछ खास उपाय...

    उपाय 1.

    बुरी नजर से बचने के लिए और समाज में मान-सम्मान पाने के लिए रोज रात को सोने से पहले अपने सिर के पास तांबे के लोटे में पानी भरकर रखें। सुबह जल्दी उठें और इस लोटे को अपने सिर पर सात बार वार लें। इसके बाद ये पानी किसी कांटेदार पेड़ की जड़ में डाल दें। ये उपाय रविवार से शुरू करें और लंबे समय तक करते रहना चाहिए। ज्योतिष के अनुसार इस उपाय से व्यक्ति को मान-सम्मान की प्राप्ति होती है और बुरी नजर का असर खत्म होता है।

    रोज रात को सोने से पहले अपने सिर के पास तांबे के लोटे में पानी भरकर रखें। सुबह जल्दी उठें और इस लोटे को अपने सिर पर सात बार वार लें। इसके बाद ये पानी किसी कांटेदार पेड़ की जड़ में डाल दें। इस उपाय से बुरी नजर से रक्षा हो सकती है।

    जानिए कुछ और उपाय जो तांबे के लोटे से करना चाहिए...

    उपाय 2.

    रोज सुबह जल्दी उठकर सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए। स्नान आदि कामों के बाद तांबे के लोटे में पानी भरें और उसमें लाल फूल, कुमकुम, चावल डालें और सूर्य को जल चढ़ाएं। जल चढ़ाते समय ऊँ सूर्याय नम: मंत्र का जाप करें। इस उपाय से व्यक्ति को समाज में प्रसिद्धि मिलती है।

  • रविवार से शुरू करेंगे तांबे के लोटे का ये उपाय तो बुरी नजर होगी दूर, मिलेगा धन लाभ, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें

    उपाय 3.

    सभी शुभ मुहूर्त में पीपल की जड़ में जल चढ़ाना चाहिए। शास्त्रों की मान्यता है कि पीपल भगवान श्रीहरि का ही एक स्वरूप है और इसमें सभी देवी-देवताओं का वास है। इस कारण जो लोग पीपल की पूजा करते हैं, जल चढ़ाते हैं, उन्हें सभी प्रकार की सुख-सुविधाएं प्राप्त होती हैं।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×