Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » तंत्र के उपाय, धन लाभ के उपाय, Sunday Ke Upay, Kalbhairav Ke Upay, Kalbhairav Ashtami, Kalashtami 2018

रविवार की रात बन रहा है दुर्लभ योग, काली उड़द के ये उपाय कर लेंगे तो हो सकता है धन लाभ

तंत्र शास्त्र के तांत्रिक क्रिया में कालभैरव की विशेष पूजा की जाती है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 05, 2018, 05:00 PM IST

  • रविवार की रात बन रहा है दुर्लभ योग, काली उड़द के ये उपाय कर लेंगे तो हो सकता है धन लाभ, religion hindi news, rashifal news

    यूटिलिटी डेस्क. रविवार, 8 अप्रैल 2018 को वैशाख मास की अष्टमी है। इस अष्टमी को कालाष्टमी के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन शाम को चंद्र, शनि और मंगल एक साथ धनु राशि में है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार रविवार को कालाष्टमी तिथि होने से ये रात बहुत ही खास बन गई है। रविवार के कारक देवता कालभैरव हैं और अष्टमी तिथि भी कालभैरव को ही समर्पित है। रविवार और अष्टमी को योग बहुत शुभ माना जाता है। इस दिन दैत्यों के गुरु शुक्र ग्रह (मेष राशि में) और देवताओं की गुरु बृहस्पति (तुला राशि में) दोनों एक-दूसरे के आमने सामने हैं। इस ग्रह स्थितियों के कारण कालाष्टमी पर किए गए तंत्र के उपाय बहुत जल्दी शुभ फल प्रदान कर सकते हैं।

    इस रात में तांत्रिक करते हैं तंत्र क्रिया

    तंत्र शास्त्र में कालाष्टमी की रात तांत्रिक क्रिया के लिए बहुत खास मानी गई है। इसीलिए इस रात में तंत्र के जानकार तांत्रिक क्रिया करते हैं। तंत्र क्रिया जैसे जादू-टोना, तंत्र-मंत्र, वशीकरण और अन्य रहस्यमयी विद्याओं का उपयोग इस रात में किया जाता है। ये सभी क्रियाएं बहुत सावधानी से की जाती है, क्योंकि इन क्रियाओं में की गई गलती जीवन में परेशानियां बढ़ सकती हैं।

    इस रात में कर सकते हैं तंत्र के ये सामान्य उपाय

    1.इस रात में उड़द के आटे की मीठी रोटी बनाएं और उस पर तेल लगाएं। इसके बाद ये रोटी रात में ही किसी कुत्ते को खिलाएं।

    2.अगर कोई व्यक्ति रोगी है तो काले उड़द की रोटी उसके ऊपर से 11 बार उतारकर किसी कुत्ते को खिला दें।

    3.इस रात में भगवान कालभैरव को सवा सौ ग्राम साबुत काली उड़द चढ़ाएं। पूजा करें। पूजा के बाद कालभैरव को अर्पित की गई उड़द में से 11 दाने उठा लें। ये दाने अपने कार्य स्थल पर बिखेर दें। इस दौरान भगवान भैरव का ध्यान करते रहें।

    4.साबुत उड़द, लाल फूल, लाल मिठाई, एक कुल्हड़ जल और नींबू शाम के समय भगवान कालभैरव को चढ़ाएं।

    ये भी पढ़ें-


    मान्यताएं- नमक की वजह से बढ़ सकती है कंगाली, अगर ध्यान नहीं रखी ये बातें
    इन 2 राशियों पर मेहरबान रहते हैं शनिदेव, जानिए 5-5 खास बातें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×