Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Panch Dhatu Anguthi Benefits In Hindi, Ring In Fingers, Anghuthi Ke Upay

अगर लोग आपसे जलते हैं तो धारण करें ऐसी अंगूठी, चमक सकती है किस्मत

अगर आप अंगूठी नहीं पहनना चाहते हैं, हाथ में कड़ा भी पहन सकते हैं।

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 08, 2018, 05:00 PM IST

  • अगर लोग आपसे जलते हैं तो धारण करें ऐसी अंगूठी, चमक सकती है किस्मत, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें

    ज्योतिष में नौ ग्रह बताए गए हैं। ये नौ ग्रह हैं सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु और केतु। किसी व्यक्ति के जन्म के समय ये 9 ग्रह कुंडली के 12 भावों में शुभ-अशुभ योग बनाते हैं। इन्हीं योगों के असर से व्यक्ति को सुख या दुख मिलता है। अगर कुंडली में ग्रहों के दोष हैं तो इनसे बचने के लिए उपाय भी बताए गए हैं। इन उपायों को करने से सकारात्मक फल प्राप्त किए जा सकते हैं।

    पंच धातु की अंगूठी

    ग्रहों के दोष दूर करने का एक उपाय ये है कि अशुभ ग्रह से संबंधित धातु की अंगूठी धारण की जाए। सभी ग्रहों की अलग-अलग धातुएं हैं। अगर सभी ग्रहों को एक साथ प्रसन्न करना हो तो पंचधातु की अंगूठी पहन सकते हैं। पंच धातु की अंगूठी अनामिका उंगली यानी रिंग फिंगर में पहन सकते हैं।

    इस अंगूठी से होते हैं ये फायदे

    - पंच धातु की अंगूठी धारण करने से हमारे आसपास की नकारात्मकता खत्म होती है। हमारी ऊर्जा बढ़ती है। सकारात्मक विचार आने लगते हैं। किस्मत का साथ मिल सकता है।

    - अगर आपसे जलते हैं तो आपको पंचधातु की अंगूठी धारण करने से लाभ मिल सकता है।

    - काम में मन लगने लगता है और ग्रहों के दोष भी कम हो सकते हैं।

    - जो लोग ये अंगूठी नहीं पहनना चाहते हैं, वे पंच धातु का कड़ा भी पहन सकते हैं।

    इन धातुओं से बनती है पंच धातु अंगूठी

    इस अंगूठी में पांच धातुएं मिलाई जाती हैं यानी ये मिश्रित धातु की अंगूठी होती है। इसे बनाने के लिए सोना, चांदी, तांबा, पीतल और सीसा धातु का उपयोग किया जाता है।

  • अगर लोग आपसे जलते हैं तो धारण करें ऐसी अंगूठी, चमक सकती है किस्मत, religion hindi news, rashifal news
    +1और स्लाइड देखें

    कैसे धारण करें अंगूठी

    किसी शुभ मुहूर्त में अंगूठी खरीदकर घर लाएं। गंगाजल या साफ जल से इसे धो लें। इसके बाद घर के मंदिर में इस अंगूठी को देवी-देवताओं के साथ रखकर पूजा करें। पूजा में अंगूठी पर कुंकुम, फूल, चावल, प्रसाद आदि चीजें चढ़ाएं। दीपक जलाएं, आरती करें। पूजा के बाद इस अंगूठी को धारण करें।

    ध्यान रखें अंगूठी धारण करने से पहले किसी विशेषज्ञ ज्योतिषी से परामर्श अवश्य करें।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×