Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Motivational Stories About Happiness In Hindi, Gautam Buddha Stories In Hindi

जब एक व्यक्ति ने बुद्ध के मुंह पर थूक दिया और अपमान किया

गौतम बुद्ध की ये कहानी बदल सकती है आपका जीवन

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Feb 10, 2018, 05:00 PM IST

  • जब एक व्यक्ति ने बुद्ध के मुंह पर थूक दिया और अपमान किया, religion hindi news, rashifal news

    गौतम बुद्ध के प्रचलित प्रसंगों में से एक प्रसंग ऐसा है, जिसमें एक व्यक्ति ने बुद्ध का बहुत अपमान किया था। जानिए वही प्रसंग...
    एक बार महात्मा बुद्ध एक गांव में उपदेश दे रहे थे कि क्रोध एक प्रकार की अग्नि है। क्रोध करने वाल व्यक्ति खुद भी जलता रहता है और दूसरों को जलाता है। क्रोध में व्यक्ति दूसरों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश करता है, लेकिन इस आवेश में व्यक्ति खुद दूसरों से ज्यादा परेशान होता है। गौतम बुद्ध की ये बातें सभा में बैठा एक क्रोध भी सुन रहा था, उसे क्रोध के बारे में कही गई बुद्ध की ये बातें, बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगी।
    क्रोधी व्यक्ति सभा खड़ा हुआ और बुद्ध से क्रोधभरे स्वरों में कहने लगा अरे ढोंगी! तू बड़ी-बड़ी बातें करता है। इन बातों का पालन करके भी बता। लोगों को व्यवहार के विरुद्ध बातें बताते शर्म नहीं आती? उस व्यक्ति की ये बातें सुनकर बुद्ध शांत रहे।
    शांत बुद्ध को देखकर वह व्यक्ति और अधिक क्रोधित हो उठा। उसने उनके पास आकर उनके मुंह पर थूक दिया।
    बुद्ध ने अपना चेहरा पोंछा और उससे पूछा- तुम्हें और कुछ कहना है?
    वह बोला- मैं कुछ कह रहा हुं? बुद्ध बोले- हां, तुम्हारा इस प्रकार का बर्ताव तुम्हारी नफरत की अभिव्यक्ति है।
    इसके बाद वह व्यक्ति और ज्यादा भला-बुरा बोलते हुए वहां से चला गया। इसके बाद की सभा भी खत्म हो गई है और अगले दिन बुद्ध दूसरे गांव में चले गए।
    सुबह तक उस व्यक्ति का क्रोध भी शांत हो चुका था और उसे पश्चाताप हो रहा था। वह बुद्ध को खोजते हुए उस गांव में गया, जहां वे प्रवचन दे रहे थे। वह व्यक्ति बुद्ध के चरणों में गिर पड़ा और बोला- मुझे माफ कर दीजिए, मैंने कल आपके साथ बहुत बुरा व्यवहार किया। बुद्ध ने उससे पूछा क्या हुआ? कौन हैं आप?
    ये बात सुनकर क्रोधी व्यक्ति चौंक गया। उसने कहा- आप मुझे भूल गए! मैं वही दुष्ट इंसान हूं, जिसने आप पर कल थूका था, आपका अपमान किया था।
    बुद्ध ने हंसकर कहा- कल की बातें तो मैं कल ही छोड़ आया हूं। हर बुरी बात या घटना को याद रखा जाएगा तो जीवन और भविष्य दोनों ही ठहर जाएंगे और परेशानियां बढ़ेंगी।

    इस कथा का सार यही है कि हमें भी बुरी बातों को छोड़कर आगे बढ़ना चाहिए। किसी व्यक्ति द्वारा कही गई अपमानजनक बातों को याद रखने से हमें ही दुख होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Motivational Stories About Happiness In Hindi, Gautam Buddha Stories In Hindi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×