Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Know The Rebirth Yog In Janm Kundali.

इस किताब में लिखा है आपके पूर्वजन्मों का राज, जानें कौन थे आप पिछले जन्म में

ग्रहों की स्थिति के अध्ययन के फलस्वरूप यह जाना जा सकता है कि बालक किस योनि से आया है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Apr 03, 2018, 05:00 PM IST

  • इस किताब में लिखा है आपके पूर्वजन्मों का राज, जानें कौन थे आप पिछले जन्म में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क. हिंदू धर्म में पुनर्जन्म की मान्यता है। गीताप्रेस गोरखपुर द्वारा प्रकाशित परलोक और पुनर्जन्मांक पुस्तक में इस विषय पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला गया है। उसके अनुसार, शिशु जिस समय जन्म लेता है। उस समय, स्थान व तिथि को देखकर उसकी जन्म कुंडली बनाई जाती है। उस समय के ग्रहों की स्थिति के अध्ययन के फलस्वरूप यह जाना जा सकता है कि बालक किस योनि से आया है और मृत्यु के बाद उसकी क्या गति होगी। आगे इस संबंध में कुछ विशेष योग (परलोक व पुनर्जन्मांक पुस्तक के अनुसार) इस प्रकार हैं-

    पूर्वजन्म योनि विचार
    1. जिस व्यक्ति की कुंडली में चार या इससे अधिक ग्रह उच्च राशि के अथवा स्व राशि के हों तो उस व्यक्ति ने उत्तम योनि भोगकर यहां जन्म लिया है, ऐसा ज्योतिषियों का मानना है।

    2. लग्न में उच्च राशि का चंद्रमा हो तो ऐसा व्यक्ति पूर्वजन्म में सद्विवेकी वणिक (व्यापारी) था, ऐसा मानना चाहिए।

    3. लग्नस्थ गुरु इस बात का सूचक है कि जन्म लेने वाला पूर्वजन्म में वेदपाठी ब्राह्मण था। यदि जन्मकुंडली में कहीं भी उच्च का गुरु होकर लग्न को देख रहा हो तो बालक पूर्वजन्म में धर्मात्मा, सद्गुणी एवं विवेकशील साधु अथवा तपस्वी था, ऐसा मानना चाहिए।

    4. यदि जन्म कुंडली में सूर्य छठे, आठवें या बारहवें भाव में हो अथवा तुला राशि का हो तो व्यक्ति पूर्वजन्म में भ्रष्ट जीवन व्यतीत करना वाला था, ऐसा मानना चाहिए।

    5. लग्न या सप्तम भाव में यदि शुक्र हो तो व्यक्ति पूर्वजन्म में राजा अथवा सेठ था व जीवन के सभी सुख भोगने वाला था, ऐसा समझना चाहिए।

    6. यदि लग्न या सप्तम भाव में राहु हो तो व्यक्ति की पूर्व मृत्यु स्वभाविक रूप से नहीं हुई, ऐसा ज्योतिषियों का मत है।

    पुनर्जन्म से संबंधित अन्य योगों के बारे में जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

  • इस किताब में लिखा है आपके पूर्वजन्मों का राज, जानें कौन थे आप पिछले जन्म में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें

    7. चार या इससे अधिक ग्रह जन्म कुंडली में नीच राशि के हों तो ऐसे व्यक्ति ने पूर्वजन्म में निश्चय ही आत्महत्या की होगी, ऐसा मानना चाहिए।

    8. कुंडली में स्थित लग्नस्थ बुध स्पष्ट करता है कि व्यक्ति पूर्वजन्म में वणिक (व्यापारी) पुत्र था एवं विविध क्लेशों से ग्रस्त रहता था।

    9. सप्तम भाव, छठे भाव या दशम भाव में मंगल की उपस्थिति यह स्पष्ट करती है कि यह व्यक्ति पूर्वजन्म में क्रोधी स्वभाव का था तथा कई लोग इससे पीड़ित रहते थे।

    10. गुरु शुभ ग्रहों से दृष्ट हो या पंचम या नवम भाव में हो तो व्यक्ति पूर्वजन्म में संन्यासी था, ऐसा मानना चाहिए।

    11. कुंडली के ग्यारहवे भाव में सूर्य, पांचवे में गुरु तथा बारहवें में शुक्र इस बात का सूचक है कि यह व्यक्ति पूर्वजन्म में धर्मात्मा प्रवृत्ति का तथा लोगों की मदद करने वाला था, ऐसा ज्योतिषियों का मानना है।

  • इस किताब में लिखा है आपके पूर्वजन्मों का राज, जानें कौन थे आप पिछले जन्म में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें

    मृत्यु उपरांत गति विचार

    मृत्यु के बाद आत्मा की क्या गति होगी या वह पुन: किस रूप में जन्म लेगी, इसके बारे में भी जन्म कुंडली देखकर जाना जा सकता है। आगे इसी से संबंधित कुछ योग बताए जा रहे हैं (परलोक व पुनर्जन्मांक पुस्तक के अनुसार)-

    1. कुंडली में कहीं पर भी यदि कर्क राशि में गुरु स्थित हो तो जातक मृत्यु के बाद उत्तम कुल में जन्म लेता है।

    2. लग्न में उच्च राशि का चंद्रमा हो तथा कोई पापग्रह उसे न देखते हों तो ऐसे व्यक्ति को मृत्यु के बाद सद्गति प्राप्त होती है।

    3. अष्टमस्थ राहु व्यक्ति को पुण्यात्मा बना देता है तथा मरने के बाद वह राजकुल में जन्म लेता है, ऐसा विद्वानों का मानना है।

    4. अष्टम भाव पर मंगल की दृष्टि हो तथा लग्नस्थ मंगल पर नीच शनि की दृष्टि हो तो व्यक्ति रौरव नरक भोगता है।

    5. अष्टमस्थ शुक्र पर गुरु की दृष्टि हो तो व्यक्ति मृत्यु के बाद वैश्य (बनिया) कुल में जन्म लेता है।
    6. अष्टम भाव पर मंगल और शनि, इन दोनों ग्रहों की पूर्ण दृष्टि हो तो जातक की अकाल मृत्यु होती है।

  • इस किताब में लिखा है आपके पूर्वजन्मों का राज, जानें कौन थे आप पिछले जन्म में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें

    7. अष्टम भाव पर शुभ अथवा अशुभ किसी भी प्रकार के ग्रह की दृष्टि न हो और न अष्टम भाव में कोई ग्रह स्थित हो तो जातक ब्रह्मलोक प्राप्त करता है।

    8. लग्न में गुरु-चंद्र, चतुर्थ भाव में तुला का शनि एवं सप्तम भाव में मकर राशि का मंगल हो तो व्यक्ति जीवन में कीर्ति अर्जित करता हुआ मृत्यु के बाद ब्रह्मलीन होता है अर्थात उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है।

    9. लग्न में उच्च का गुरु चंद्र को पूर्ण दृष्टि से देख रहा हो एवं अष्टम स्थान ग्रहों से रिक्त हो तो व्यक्ति जीवन में सैकड़ों धार्मिक कार्य करता है तथा प्रबल पुण्यात्मा एवं मृत्यु के बाद सद्गति प्राप्त करता है।

    10. अष्टम भाव को शनि देख रहा हो तथा अष्टम भाव में मकर या कुंभ राशि हो तो व्यक्ति योगिराज पद प्राप्त करता है तथा मृत्यु के बाद विष्णु लोक प्राप्त करता है।

    11. यदि जन्म कुंडली में चार ग्रह उच्च के हों तो व्यक्ति की मृत्यु के बाद भी उसका कीर्ति रहती है।

    12. ग्यारहवे भाव में सूर्य-बुध हों, नवम भाव में शनि तथा अष्टम भाव में राहु हो तो व्यक्ति मृत्यु के पश्चात मोक्ष प्राप्त करता है।

  • इस किताब में लिखा है आपके पूर्वजन्मों का राज, जानें कौन थे आप पिछले जन्म में, religion hindi news, rashifal news
    +4और स्लाइड देखें

    विशेष योग

    1. बारहवां भाव शनि, राहु या केतु से युक्त हो फिर अष्टमेश (कुंडली के आठवें भाव का स्वामी) से युक्त हो अथवा षष्ठेश (छठे भाव का स्वामी) से दृष्ट हो तो मरने के बाद अनेक नरक भोगने पड़ेंगे, ऐसा समझना चाहिए।

    2. गुरु लग्न में हो, शुक्र सप्तम भाव में हो, कन्या राशि का चंद्रमा हो एवं धनु लग्न में मेष का नवांश हो तो ऐसा व्यक्ति मृत्यु के बाद परमपद प्राप्त करता है।

    3. अष्टम भाव को गुरु, शुक्र और चंद्र, ये तीनों ग्रह देखते हों तो जातक मृत्यु के बाद श्रीकृष्ण के चरणों में स्थान प्राप्त करता है, ऐसा ज्योतिषियों का मत है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×