Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » How To Take Bath, Best Time For Taking Bath In Hindi, Astro Tips About Taking Bath

नहाते समय आप भी करें ये एक काम, बुरी नजर और दुर्भाग्य से होगी रक्षा

शास्त्रों के अनुसार हमें ब्रह्म स्नान, देव स्नान या ऋषि स्नान करना चाहिए

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 09, 2018, 05:00 PM IST

  • नहाते समय आप भी करें ये एक काम, बुरी नजर और दुर्भाग्य से होगी रक्षा, religion hindi news, rashifal news

    शास्त्रों में दिन के सभी जरूरी कामों के लिए अलग-अलग मंत्र बताए गए हैं। नहाते समय भी हमें मंत्र जाप करना चाहिए। स्नान करते समय मंत्र जाप या भजन या भगवान का नाम लिया जा सकता है। ऐसा करने से बुरी नजर और दुर्भाग्य से रक्षा होती है।

    नहाते समय इस मंत्र का जाप करना श्रेष्ठ रहता है...

    मंत्र: गंगे च यमुने चैव गोदावरी सरस्वति। नर्मदे सिन्धु कावेरी जलऽस्मिन्सन्निधिं कुरु।।

    नहाते समय पवित्र नदियों के नामों का जाप करने से तीर्थ स्नान का पुण्य मिलता है। जिस प्रकार तीर्थों में स्नान करने से बुरी नजर और सभी प्रकार की नकारात्मकता से मुक्ति मिलती है, ठीक वैसा ही फल नहाते समय इस श्लोक के जाप से मिलता है। साथ ही, दुर्भाग्य भी दूर होता है।

    कौन सा स्नान होता है सर्वश्रेष्ठ

    गरुड़ पुराण के अनुसार समय के आधार पर 4 प्रकार के स्नान बताए गए हैं। ये स्नान हैं ब्रह्म स्नान, देव स्नान, ऋषि स्नान और दानव स्नान। जानिए इनसे जुड़ी खास बातें...

    1. ब्रह्म स्नान- सुबह-सुबह ब्रह्म मुहूर्त में यानी सुबह लगभग 4-5 बजे जो स्नान भगवान का चिंतन करते हुए किया जाता है उसे ब्रह्म स्नान कहते हैं। ऐसा स्नान करने वाले को इष्टदेव की विशेष कृपा प्राप्त होती है और जीवन में दुखों का सामना नहीं करना पड़ता है।

    2. देव स्नान- आज के समय में अधिकांश लोग सूर्योदय के बाद ही स्नान करते हैं। जो लोग सूर्योदय के बाद किसी नदी में स्नान करते हैं या घर पर ही विभिन्न नदियों के नामों का जप करते हुए स्नान करते हैं तो उस स्नान को देव स्नान कहा जाता है। ऐसे स्नान से भी व्यक्ति के जीवन की सभी समस्याएं दूर हो जाती हैं।

    3. ऋषि स्नान- यदि कोई व्यक्ति सुबह-सुबह जब आकाश में तारे दिखाई दे रहे हों और उस समय स्नान करें तो उस स्नान को ऋषि स्नान कहा जाता है। सामान्यत: जो स्नान सूर्योदय के पूर्व किया जाता है वह मानव स्नान कहलाता है। सूर्योदय से पूर्व किए जाने वाले स्नान ही श्रेष्ठ होते हैं।

    4. दानव स्नान- वर्तमान में काफी लोग सूर्योदय के बाद चाय-नाश्ता करने के बाद स्नान करते हैं ऐसे स्नान को दानव स्नान कहा जाता है।

    शास्त्रों के अनुसार हमें ब्रह्म स्नान, देव स्नान या ऋषि स्नान करना चाहिए। यही सर्वश्रेष्ठ स्नान हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: How To Take Bath, Best Time For Taking Bath In Hindi, Astro Tips About Taking Bath
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×