Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Durga Saptsati Ke Mantra, Devi Puja, Durga Puja, Worship Method In Hindi

ये हैं दुर्गा सप्तशती के शक्तिशाली मंत्र, इनसे दूर हो सकती है आपकी हर परेशानी

मंत्र जाप के लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना चाहिए।

यूटिलिटी डेस्क | Last Modified - Feb 20, 2018, 05:00 PM IST

  • ये हैं दुर्गा सप्तशती के शक्तिशाली मंत्र, इनसे दूर हो सकती है आपकी हर परेशानी, religion hindi news, rashifal news

    देवी दुर्गा की पूजा से किसी भी व्यक्ति को सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं। दुर्गा मां को प्रसन्न करने के लिए दुर्गा सप्तशती का पाठ करना सबसे सरल उपाय है। दुर्गा सप्तशती में संस्कृत मंत्र हैं, जिन्हें बहुत ही शक्तिशाली माना जाता है। मंत्र जाप सही तरीके से किए जाए तो बहुत जल्दी मनोकामनाएं पूरी हो सकती हैं। अलग-अलग मनोकामनाओं के लिए अलग-अलग मंत्र बताए गए हैं। यहां जानिए दुर्गा सप्तशती के कुछ खास मंत्र...

    ऐसे करें मंत्रों का जाप

    रोज सुबह-शाम स्नान आदि दैनिक कार्यों के बाद घर में किसी पवित्र स्थान पर या किसी मंदिर में साफ लाल कपड़े पर देवी दुर्गा की तस्वीर या प्रतिमा स्थापित करें। प्रतिमा पर कुमकुम, चावल, लाल फूल आदि पूजा सामग्री अर्पित करना चाहिए। इसके बाद गाय के घी से बने पकवानों का भोग लगाएं। धूप व दीप जलाएं।

    दुर्गा सप्तशती के मंत्रों का जाप करें। मंत्र जाप की संख्या कम से कम 108 होनी चाहिए। इसके लिए रुद्राक्ष की माला का उपयोग करना चाहिए।

    भाग्य बाधा दूर करने के लिए इस मंत्र का जाप करें

    देहि सौभाग्य आरोग्यं देहि में परमं सुखम्।

    रूपं देहि जयं देहि यशो देहि द्विषोजहि।।

    दरिद्रता दूर करने के लिए मंत्र

    दुर्गे स्मृता हरसि भीतिशेषजन्तोः स्वस्थैः स्मृता मतिमतीव शुभां ददासि।

    दारिद्रयःखभयहारिणि का त्वदन्या सर्वोपकारकरणाय सदार्दचित्ता।।

    सभी सुख पाने के लिए मंत्र

    ऊँ सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके।

    शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते।।

    शारीरिक और मानसिक रूप से बलवान बनने के लिए मंत्र

    सृष्टिस्थितिविनाशानं शक्तिभूते सनातनि।

    गुणाश्रये गुणमये नारायणि नमोस्तुते।।

    धन, संतान के लिए इस मंत्र का स्मरण करें

    सर्व बाधा विनिर्मुक्तो, धन धान्य सुतान्वितः।

    मनुष्यों मत्प्रसादेन भविष्यति न संशयः॥

    ध्यान रखें देवी के मंत्रों का जाप सही उच्चारण के साथ करना चाहिए। अगर आप मंत्रों का उच्चारण नहीं कर सकते हैं तो किसी ब्राह्मण से खुद के लिए मंत्रों का जाप करवा सकते हैं। मंत्र जाप के लिए बाह्मण को दक्षिणा अवश्य दें।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×