Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Rashi Aur Nidaan » Do This 1 Roti Measure Everyday.

रोज करें 1 रोटी का ये उपाय, दूर हो सकता है बुरा समय

अगर आपका समय ठीक नहीं चल रहा है या रोज कोई नई मुसीबत आ रही है या फिर जीवन में शांति नहीं है, तो इसके लिए आप एक छोटा उपाय

यूटिलिटी डेस्क | Last Modified - Mar 08, 2018, 05:00 PM IST

  • रोज करें 1 रोटी का ये उपाय, दूर हो सकता है बुरा समय, religion hindi news, rashifal news

    अगर आपका समय ठीक नहीं चल रहा है या रोज कोई नई मुसीबत आ रही है या फिर जीवन में शांति नहीं है, तो इसके लिए आप एक छोटा उपाय कर इन सभी परेशानियों से मुक्ति पा सकते हैं। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, ये उपाय बहुत ही पुराना है। अगर आप समस्याओं से निजात पाना चाहते हैं तो इसके लिए जरूरी है यह उपाय करते समय मन में श्रद्धा होना। ये उपाय इस प्रकार है-

    उपाय

    - सुबह जब घर में भोजन बने तो सबसे पहले वाली रोटी अलग निकाल लें। इस बात का ध्यान रखें कि ये रोटी अन्य रोटियों से थोड़ी बड़ी हो ताकि आसानी से इसके चार टुकड़े किए जा सकें।

    - अब इस रोटी के बराबरी से चार टुकड़े कर लें और इन चारों पर कुछ मीठा जैसे- खीर, गुड़ या शक्कर रख दें। इस बात का विशेष ध्यान रखें कि बाहर का कोई व्यक्ति आपको यह टोटका करते हुए न देख पाए।

    - रोटी के चार टुकड़ों में से सबसे पहला वाला गाय को खिला दें और भगवान से प्रार्थना करें कि आपकी समस्याओं का निदान जल्दी से जल्दी हो जाए और आपकी मनोकामना पूरी हो। धर्म ग्रंथों के अनुसार, गाय में ही सभी देवताओं का निवास होता है इसलिए सबसे पहले रोटी गाय को ही दी जाती है।

    - अब दूसरा टुकड़ा कुत्ते को खिला दें। शिवमहापुराण के अनुसार कुत्ते को रोटी खिलाते समय बोलना चाहिए कि- यमराज के मार्ग का अनुसरण करने वाले जो श्याम और शबल नाम के दो कुत्ते हैं, मैं उनके लिए यह अन्न का भाग देता हूं। वे इस बलि (भोजन) को ग्रहण करें। इसे कुक्कर बलि कहते हैं।

    - अब रोटी के तीसरे भाग को कौओं को खिला दें और बोलें- पश्चिम, वायव्य, दक्षिण और नैऋत्य दिशा में रहने वाले जो पुण्यकर्मा कौए हैं, वे मेरी इस दी हुई बलि को ग्रहण करें। धर्म ग्रंथों में इसे काक बलि कहते हैं।

    - अब रोटी का अंतिम टुकड़ा जो बचा है उसे घर पर आए किसी भिक्षुक (भिखारी) को दे दें। इस प्रकार ये छोटा सा उपाय रोज करने से आपका बुरा समय जल्दी ही खत्म हो सकता है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×