Home » Jeevan Mantra »Jyotish »Jyotish Nidaan» Gangour Teej On 20 March, Do This Measures.

गणगौर तीज 20 मार्च को, ये उपाय करने से प्रसन्न होंगे शिव-पार्वती

चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को गणगौर तीज का उत्सव मनाया जाता है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 18, 2018, 05:00 PM IST

  • गणगौर तीज 20 मार्च को, ये उपाय करने से प्रसन्न होंगे शिव-पार्वती, religion hindi news, rashifal news
    +2और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क. चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को गणगौर तीज का उत्सव मनाया जाता है। इस दिन विशेष रूप से माता पार्वती व भगवान शंकर की पूजा की जाती है। इन्हें ईसर-गौर भी कहा जाता है, जिसका अर्थ है (ईश्वर-गौरी)। यह कुंवारी और विवाहिता स्त्रियों का त्योहार है। इस बार यह पर्व 20 मार्च, मंगलवार को है।
    यह पर्व 16 दिनों तक मनाया जाता है। गणगौर मुख्य रूप से राजस्थान का लोकपर्व है, लेकिन देश के अन्य हिस्सों में भी इसे मनाया जाता है। राजस्थान में कन्याओं के लिए विवाह के बाद प्रथम चैत्र शुक्ल तृतीया तक गणगौर का पूजन आवश्यक माना जाता है। वे चैत्र कृष्ण प्रतिपदा के दिन होलिका दहन की भस्म और तालाब की मिट्टी से ईसर-गौर (शंकर-पार्वती) की प्रतिमाएं बनाती हैं। 16 दिनों तक माता पार्वती के गीत गाए जाते हैं।
    कुंवारी कन्याएं उत्तम वर के लिए तथा विवाहिता महिलाएं सौभाग्य की कामना के लिए इनका पूजन करती हैं। चैत्र शुक्ल तृतीया को सुबह पूजा के बाद तालाब, सरोवर, बावड़ी या कुएं पर जाकर मंगलगीत गाते हुए गणगौर (ईसर-गौर) की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाता है। गणगौर का विसर्जन देखने योग्य होता है।

    गणगौर तीज पर करें ये उपाय
    उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार, गणगौर उत्सव में मुख्य रूप से माता पार्वती व भगवान शिव का पूजन किया जाता है। शंकर-पार्वती को प्रसन्न करने के लिए इस दिन कुछ उपाय भी कर सकते हैं। ये उपाय इस प्रकार हैं-

    1. माता पार्वती को घी का भोग लगाएं तथा उसका दान करें। इससे रोगी को कष्टों से मुक्ति मिलती है तथा वह निरोगी होता है।
    2. शिवपुराण के अनुसार, लाल व सफेद आंकड़े के फूल से भगवान शिव का पूजन करने से भोग व मोक्ष की प्राप्ति होती है।
    3. माता पार्वती को शक्कर का भोग लगाकर उसका दान करने से भक्त को दीर्घायु प्राप्त होती है। दूध चढ़ाकर दान करने से सभी प्रकार के दु:खों से मुक्ति मिलती है। मालपूआ चढ़ाकर दान करने से सभी प्रकार की समस्याएं अपने आप ही समाप्त हो जाती है।
    4. भगवान शिव को चमेली के फूल चढ़ाने से वाहन सुख मिलता है। अलसी के फूलों से शिव का पूजन करने से मनुष्य भगवान विष्णु को प्रिय होता है।

    अन्य उपाय जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

  • गणगौर तीज 20 मार्च को, ये उपाय करने से प्रसन्न होंगे शिव-पार्वती, religion hindi news, rashifal news
    +2और स्लाइड देखें

    5.भगवान शिव की शमी पत्रों से पूजन करने पर मोक्ष प्राप्त होता है। बेला के फूल से पूजन करने पर शुभ लक्षणों से युक्त पत्नी मिलती है। धतूरे के फूल के पूजन करने पर भगवान शंकर सुयोग्य पुत्र प्रदान करते हैं, जो परिवार का नाम रोशन करता है। लाल डंठल वाला धतूरा पूजन में शुभ माना गया है।
    6. देवी भागवत के अनुसार, माता पार्वती को केले का भोग लगाकर दान करने से परिवार में सुख-शांति रहती है। शहद का भोग लगाकर दान करने से धन प्राप्ति के योग बनते हैं। गुड़ की वस्तुओं का भोग लगाकर दान करने से दरिद्रता का नाश होता है।
    7. भगवान शिव पर ईख (गन्ना) के रस की धारा चढ़ाई जाए तो सभी आनंदों की प्राप्ति होती है। शिव को गंगाजल चढ़ाने से भोग व मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है।

  • गणगौर तीज 20 मार्च को, ये उपाय करने से प्रसन्न होंगे शिव-पार्वती, religion hindi news, rashifal news
    +2और स्लाइड देखें

    8. भगवान शिव को चावल चढ़ाने से धन प्राप्ति हो सकती है। तिल चढ़ाने से पापों का नाश हो जाता है। शिवजी को जौ अर्पित करने से सुख में वृद्धि होती है व गेहूं चढ़ाने से संतान वृद्धि होती है।
    9. देवी भागवत के अनुसार, माता पार्वती को नारियल का भोग लगाकर उसका दान करने से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। माता को विभिन्न प्रकार के अनाजों का भोग लगाकर गरीबों को दान करने से लोक-परलोक में आनंद व वैभव मिलता है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×