Home » Jeevan Mantra »Jeevan Mantra Junior »Sanskar Aur Sanskriti » Krishna Mantra - Lord Krishna Mantra For Success In Life

रोज बोलेंगे श्रीकृष्ण के इन मंत्रों में से कोई 1 तो बुरा समय और पैसों की किल्लत दूर होने लगेगी

श्रीकृष्ण भगवान विष्णु के आठवें अवतार है।

जीवनमंत्र डेस्क | Last Modified - Nov 30, 2017, 06:17 PM IST

  • रोज बोलेंगे श्रीकृष्ण के इन मंत्रों में से कोई 1 तो बुरा समय और पैसों की किल्लत दूर होने लगेगी
    +2और स्लाइड देखें
    Krishna mantra

    श्रीकृष्ण भगवान विष्णु के आठवें अवतार है। श्रीकृष्ण को ठाकुरजी भी कहा जाता है। मान्यता है कि जहां श्रीकृष्ण की भक्ति होती है वहां कभी कोई परेशानी हो ही नहीं सकती है। इसलिए कई लोग नियमित रूप से ठाकुरजी की सेवा करते हैं। मगर आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में ये सबके लिए संभव नहीं है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं श्रीकृष्ण के कुछ ऐसे मंत्रों के बारे में जिन्हें बोलने से बुरे दिन खत्म होने लगेंगे और अच्छे दिन शुरु हो जाएंगे।

    अगली स्लाइड से पढ़ें- मंत्र

  • रोज बोलेंगे श्रीकृष्ण के इन मंत्रों में से कोई 1 तो बुरा समय और पैसों की किल्लत दूर होने लगेगी
    +2और स्लाइड देखें
    Krishna mantra

    - कृं कृष्णाय नमः यह श्रीकृष्ण का बताया मूलमंत्र है इसे रोजाना बोलने पर रुका धन मिलने लगता है और घर-परिवार में सुख की वर्षा होती है।


    - ऊं श्रीं नमः श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा यह कोई साधारण मंत्र नहीं, बल्कि श्रीकृष्ण का सप्तदशाक्षर महामंत्र है। इसके जप से जीवन की सारी परेशानियां दूर होने लगती है।


    - गोवल्लभाय स्वाहा देखने में यह केवल दो शब्द दिखाई दे रहे हैं लेकिन इस मंत्र का असर बहुत तेजी से होता है।

  • रोज बोलेंगे श्रीकृष्ण के इन मंत्रों में से कोई 1 तो बुरा समय और पैसों की किल्लत दूर होने लगेगी
    +2और स्लाइड देखें
    Krishna mantra

    - गोकुल नाथाय नमः इस आठ अक्षरों वाले श्रीकृष्णमंत्र का जो भी साधक जाप करता है उसकी सभी इच्छाएं व अभिलाषाएं पूर्ण होती हैं।


    - क्लीं ग्लौं क्लीं श्यामलांगाय नम: इस मंत्र को रोजाना बोलने से धन की आवक तेज हो जाती है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×