Home » Jeevan Mantra »Jeevan Mantra Junior »Sanskar Aur Sanskriti » Gemstones Astrology,Birth Gemstones,Gem Stone .

पौरुष शक्ति बढ़ाने के लिए पहना जाता है ये पत्थर, बढ़ने लगता है आकर्षण

अनेक परेशानियों से निपटने के लिए ज्योतिष विज्ञान सबसे अधिक शुद्ध रत्नों को अहमियत देता है।

जीवनमंत्र डेस्क | Last Modified - Nov 17, 2017, 03:50 PM IST

  • पौरुष शक्ति बढ़ाने के लिए पहना जाता है ये पत्थर, बढ़ने लगता है आकर्षण
    +2और स्लाइड देखें
    stone

    अनेक परेशानियों से निपटने के लिए ज्योतिष विज्ञान सबसे अधिक शुद्ध रत्नों को अहमिय देता है। ये रत्न किसी चमत्कारी इलाज की तरह काम करते हैं, बशर्ते ये शुद्ध होने चाहिए। रत्न महंगा है या सस्ता तइससे फर्क नहीं पड़ता, लेकिन जरूरत के हिसाब से सही पॉवर और वजन वाला रत्न अगर पहना जाए तो यह रिजल्ट देकर ही रहता है, कम से कम उसे कोई बड़ी शारीरिक परेशानी नहीं है। वे लोग जिन्हें कोई शारीरिक पीड़ा है, वे भी अपने इस दुर्भाग्य को ज्योतिष रत्नों की मदद से सौभाग्य में बदल सकते हैं। आज हम ऐसे ऐसे रत्न के बारे में बताने जा रहे जिसे पौरुष बढ़ाने वाला माना गया है।आइए जानते हैं कौन सा है वो रत्न…

    कहरूवा रत्न

    लाल, पीला या सफेद रंग का कहरूवा वनस्पति जाति का उपरत्न है। इसे तृणमणि, कर्पूर, वृक्षनिर्यासमणि, तृणाकर्ष या अंग्रेजी में अम्बेर भी कहा जाता है। यह रत्न बेहद चमकदार, लेकिन वजन में हल्का होता है। यह रत्न अधिकांशतः बाल्टिक सागर में, इटली और रोमानिया में पाया जाता है।

    अगली स्लाइड पर पढ़ें- इस रत्न के बारे में कई और रोचक बातें...

  • पौरुष शक्ति बढ़ाने के लिए पहना जाता है ये पत्थर, बढ़ने लगता है आकर्षण
    +2और स्लाइड देखें
    stone

    कहरूवा उपरत्न के लाभ

    कहरूवा को धारण करने से व्यक्ति की पौरूष शक्ति में वृद्धि होती है। यह उपरत्न एक प्रकार का वीर्य वर्धक है। इसके अलावा दिल के रोगी भी पहन सकते हैं। यह उपरत्न ख्रून, पेट व आंतों की कमजोरी दूर करता है। त्वचा संबंधित रोगों को ठीक करके घाव शीघ्रता से भरता है। इसे पहनने से व्यक्तित्व का आकर्षण भी बढ़ता है।

    कैसे पहने

    कहरूवा को अंगूठी में या फिर किसी भी प्रकार के आभूषण में जरूरत के अनुसार जड़वाकर पहन सकते हैं। इस उपरत्न का कितना वजन हो और कितने पॉवर वाला कहरूवा पहनना है इसके बारे में ज्योतिषी से सलाह अवश्य ले लें।

  • पौरुष शक्ति बढ़ाने के लिए पहना जाता है ये पत्थर, बढ़ने लगता है आकर्षण
    +2और स्लाइड देखें
    stone

    किस तरह करें पहचान

    कहरूवा लाल, पीला, सफेद रंग में पाया जाता है। इसे जब हथेलियों के बीच में रखकर रगड़ा जाता है तो कपूर जैसी गंध आती है। अगर बाल या रेशे पर इससे स्पर्श करवाया जाता है तो यह चुंबक की भांति उन्हें अपनी ओर खींच लेता है। यदि इसे आग के समीप रखा जाए तो मोम की तरह गंध छोड़ता हुआ जलने लग जाता है।अगर इन तीनों प्रयोगों को करने पर आपको सही रिजल्ट मिल रहा है तो समझ जाएं कि आपके द्वारा खरीदा गया कहरूवा सही और शुद्ध है।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×