Home » Jeevan Mantra »Jeevan Mantra Junior »Sanskar Aur Sanskriti » Benefits And Importance Of Reading Sunderkand

सुंदरकांड पढ़ने से होते हैं ये 5 फायदे, जानेंगे तो आप भी करना चाहेंगे इसका पाठ

मान्यता है कि हनुमान जी से कलियुग में सबसे जल्दी प्रसन्न होने वाले देवता हैं।

जीवनमंत्र डेस्क | Last Modified - Nov 14, 2017, 01:44 PM IST

  • सुंदरकांड पढ़ने से होते हैं ये 5 फायदे, जानेंगे तो आप भी करना चाहेंगे इसका पाठ
    +3और स्लाइड देखें
    Hanuman ji
    श्रीरामचरित मानस के सुंदरकांड अध्याय में बजरंग बली की महिमा का विस्तृत वर्णन मिलता है। मान्यता है कि इसे पढ़ने से व्यक्ति में आत्मविश्वास का संचार होता है। कहा तो यह भी जाता है कि हनुमान से जुड़ा कोई भी मंत्र या पाठ अन्य किसी भी मंत्र से अधिक शक्तिशाली होता है। हनुमान जी अपने भक्तों को उनकी उपासना के फल में बल और शक्ति प्रदान करते हैं। यदि आप सुंदरकांड पाठ के लाभ जान लेंगे तो इसे रोजाना करना पसंद करेंगे। आइए जानते हैं सुंदरकांड के पाठ से होने वाले 5 ऐसे ही फायदों के बारे में....
    अगली स्लाइड पर पढ़ें- हनुमान चालीसा पढ़ने के फायदे...
  • सुंदरकांड पढ़ने से होते हैं ये 5 फायदे, जानेंगे तो आप भी करना चाहेंगे इसका पाठ
    +3और स्लाइड देखें
    Hanuman ji
    माना जाता है कि रोजाना सुंदरकांड का पाठ करने वाले भक्त की मनोकामना जल्द पूरी हो जाती है।जहां एक ओर पूर्ण रामचरितमानस में भगवान के गुणों को दर्शाया गया है, उनकी महिमा बताई गई है लेकिन दूसरी ओर रामचरितमानस के सुंदरकांड की कथा सबसे अलग है। इसमें भगवान राम के गुणों की नहीं, बल्कि उनके भक्त के गुणों और उसकी विजय की बात बताई गई।
  • सुंदरकांड पढ़ने से होते हैं ये 5 फायदे, जानेंगे तो आप भी करना चाहेंगे इसका पाठ
    +3और स्लाइड देखें
    Hanuman ji
    इसलिए सुंदरकांड का पाठ हर मुराद पूरी करने वाला माना गया है।सुंदरकांड का पाठ करने वाले भक्त को हनुमान जी बल प्रदान करते हैं। उसके आसपास भी नकारात्मक शक्ति भटक नहीं सकती। यह भी माना जाता है कि जब भक्त का आत्मविश्वास कम हो जाए या जीवन में कोई काम ना बन रहा हो, तो सुंदरकांड का पाठ करने से सभी काम अपने आप ही बनने लगते हैं, क्योंकि विज्ञान ने भी सुंदरकांड के पाठ के महत्व को समझाया है। विभिन्न मनोवैज्ञानिकों की राय में सुंदरकांड का पाठ भक्त के आत्मविश्वास और इच्छाशक्ति को बढ़ाता है।
  • सुंदरकांड पढ़ने से होते हैं ये 5 फायदे, जानेंगे तो आप भी करना चाहेंगे इसका पाठ
    +3और स्लाइड देखें
    Hanuman ji
    इस पाठ की एक-एक पंक्ति और उससे जुड़ा अर्थ, भक्त को जीवन में कभी ना हार मानने की सीख प्रदान करता है। मनोवैज्ञानिकों के अनुसार किसी बड़ी परीक्षा में सफल होना हो तो परीक्षा से पहले सुंदरकांड का पाठ अवश्य करना चाहिए।यहां तक कि यह भी कहा जाता है कि जब घर पर रामायण पाठ रखा जाए तो उस पूर्ण पाठ में से सुंदरकांड का पाठ घर के किसी सदस्य को ही करना चाहिए। इससे घर में सकारात्मक शक्तियों का प्रवाह होता है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Benefits And Importance Of Reading Sunderkand
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×