Home » Jeevan Mantra »Jeevan Mantra Junior »Sanskar Aur Sanskriti » Sun Worship Mantra

सूर्य को जल चढ़ाते हुए ये 2 मंत्र बोलने से बढ़ने लगती है लोकप्रियता

वैदिक काल से सूर्य आराधना को हिंदू धर्म में विशेष महत्व दिया गया है।

जीवनमंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 19, 2017, 03:17 PM IST

  • सूर्य को जल चढ़ाते हुए ये 2 मंत्र बोलने से बढ़ने लगती है लोकप्रियता
    वैदिक काल से सूर्य आराधना को हिंदू धर्म में विशेष महत्व दिया गया है। यदि आप जीवन में सफलता के साथ ही यश और वैभव पाना चाहते हैं तो बिना सूर्य देव की कृपा के ये संभव नहीं है आइए जानते हैं दो ऐसे ही सूर्य मंत्रों के बारे में जिन्हें रोज बोलकर सूर्य को अर्घ्य देने से सूर्य देव की कृपा हो जाती है और अपार लोकप्रियता व वैभव मिलने लगता है।

    सूर्य अर्घ्य देने की विधि


    - सर्वप्रथम प्रात:काल सूर्योदय से पूर्व शुद्ध होकर स्नान करें।
    - तत्पश्चात उदित होते सूर्य के समक्ष आसन लगाए।
    - आसन पर खड़े होकर तांबे के पात्र में पवित्र जल लें।
    - उसी जल में मिश्री भी मिलाएं। कहा जाता है कि सूर्य को मीठा जल चढ़ाने से जन्मकुंडली के दूषित मंगल का उपचार होता है।
    - मंगल शुभ हो तब उसकी शुभता में वृद्धि होती है।
    - जैसे ही पूर्व दिशा में सूर्यागमन से पहले नारंगी किरणें प्रस्फुटित होती दिखाई दे आप दोनों हाथों से तांबे के पात्र को पकड़कर इस तरह जल चढ़ाएँ कि सूर्य जल चढ़ाती धार से दिखाई दें।
    1. सूर्य अर्घ्य मंत्र

    सूर्य को निम्नलिखित मंत्र बोल करके अर्घ्य दें यानी जल चढ़ाएं...

    ॐ ऐही सूर्यदेव सहस्त्रांशो तेजो राशि जगत्पते।

    अनुकम्पय मां भक्त्या गृहणार्ध्य दिवाकर:।।

    ॐ सूर्याय नम:, ॐ आदित्याय नम:, ॐ नमो भास्कराय नम:।

    अर्घ्य समर्पयामि।।

    सूर्य ध्यान मंत्र

    ध्येय सदा सविष्तृ मंडल मध्यवर्ती।

    नारायण: सर सिंजासन सन्नि: विष्ठ:।।

    केयूरवान्मकर कुण्डलवान किरीटी।

    हारी हिरण्यमय वपुधृत शंख चक्र।।

    जपाकुसुम संकाशं काश्यपेयं महाधुतिम।

    तमोहरि सर्वपापध्‍नं प्रणतोऽस्मि दिवाकरम।।

    सूर्यस्य पश्य श्रेमाणं योन तन्द्रयते।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×