Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Some Unknown Facts About Meera Bai

क्यों बचपन से ही श्रीकृष्ण की दीवानी थी मीरा, जानें उनके जीवन के 7 रहस्य

पूर्व-जन्म में वृंदावन की गोपी थी मीरा, जानें उनकी जिंदगी के अनछुए पहलू

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 02, 2017, 05:00 PM IST

  • क्यों बचपन से ही श्रीकृष्ण की दीवानी थी मीरा, जानें उनके जीवन के 7 रहस्य
    +3और स्लाइड देखें

    मीरा बाई भगवान श्रीकृष्ण की सबसे बड़ी भक्त मानी जाती है। मीरा बाई ने जीवनभर भगवान कृष्ण की भक्ती की और कहा जाता है कि उनकी मृत्यु भी भगवान की मूर्ति में समा कर की हुई थी।

    मीरा बाई के जीवन से जुड़ी कई बातों के को आज भी रहस्य माना जाता है। ऐसे में हम आपको गीताप्रेस गोरखपुर की पुस्तक भक्त-चरितांक के अनुसार मीरा बाई के जीवन और मृत्यु से जुड़ी कुछ बातें बताने जा रहे हैं-

    क्यों बचपन से ही श्रीकृष्ण की दीवानी थी मीरा

    मीराबाई का जन्म मारवाड़ के कुड़की नामक गावं में 1558-1559 के लगभग हुआ था। मीराबाई की मां ने बचपन में खेल-खेल के दौरान उनका विवाह श्रीकृष्ण की मूर्ति के करवा दिया था। इस बात को मीराबाई सच मान गई और श्रीकृष्ण को ही अपना सब कुछ मान बैठी और जीवनभर कृष्ण भक्ति करती रहीं।

    आगे की स्लाइड्स पर जानें मीराबाई से जुड़ी अन्य 6 बातें...

    तस्वीरों का प्रयोग प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

  • क्यों बचपन से ही श्रीकृष्ण की दीवानी थी मीरा, जानें उनके जीवन के 7 रहस्य
    +3और स्लाइड देखें

    तुलसीदास के कहने पर की राम की भक्ति

    माना जाता है मीराबाई ने तुलसीदास जी को पत्र लिखा था कि उनके घर वाले उन्हें कृष्ण की भक्ति नहीं करने देते। श्रीकृष्ण को पाने के लिए मीराबाई ने अपने गुरु तुलसीदास से उपाय मांगा। तुलसी दास के कहने पर मीरा ने कृष्ण के साथ ही रामभक्ति के भजन लिखे। जिसमें सबसे प्रसिद्ध भजन है “पायो जी मैंने राम रतन धन पायो”।

    न चाहते हुए थी करना पड़ा भोजराज से विवाह

    विवाह योग्य होने पर मीराबाई के घर वाले उनकी विवाह करना चाहते थें, लेकिन मीराबाई श्रीकृष्ण को पति मानने के कारण किसी और से विवाह नहीं करना चाहती थी। मीराबाई की इच्छा के विरुद्ध जाकर उनका विवाह मेवाड़ के राजकुमार भोजराज के साथ सन् 1573 में कर दिया गया।

  • क्यों बचपन से ही श्रीकृष्ण की दीवानी थी मीरा, जानें उनके जीवन के 7 रहस्य
    +3और स्लाइड देखें

    पति की मृत्यु के बाद क्या हुआ मीरा के साथ

    विवाह के कुछ साल बाद ही वर्ष 1580 में मीराबाई के पति भोजराज की मृत्यु हो गई। पति की मौत के बाद मीरा को भी भोजराज के साथ सती करने का प्रयास किया गया। लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं हुई और जोगन बनकर साधु-संतों के साथ रहने लगीं।

    मीरा की कृष्ण भक्ती देख उन्हें जहर देना चाहते थे ये लोग

    पति की मृत्यु के बाद मीरा की भक्ति दिनों-दिन बढ़ती गई। मीरा मंदिरों में जाकर श्रीकृष्ण की मूर्ति के सामने घंटो तक नाचती रहती थीं। मीराबाई की कृष्ण भक्ति उनके पति के परिवार को अच्छा नहीं लगा, उनके परिजनों ने मीरा को कई बार विषदेकर मारने की भी कोशिश की।लेकिन श्रीकृष्ण की कृपा से मीराबाई को कुछ नहीं हुआ।

  • क्यों बचपन से ही श्रीकृष्ण की दीवानी थी मीरा, जानें उनके जीवन के 7 रहस्य
    +3और स्लाइड देखें

    श्रीकृष्ण में समाकर हुआ मीराबाई का अंत

    कहते हैं कि जीवनभर मीराबाई की भक्ति करने के कारण उनकी मृत्यु श्रीकृष्ण की भक्ति करते हुए ही हुई थीं। मान्यताओं के अनुसार वर्ष 1630 में द्वारका में वो कृष्ण भक्ति करते-करते श्रीकृष्ण की मूर्ति में समां गईं थी।

    पूर्व-जन्म में वृंदावन की गोपी थी मीरा

    मान्यता है कि मीरा पूर्व-जन्म में वृंदावन की एक गोपि थीं और उन दिनों वह राधा की सहेली थीं। वे मन ही मन भगवान श्रीकृष्ण से प्रेम करती थीं। गोप से विवाह होने के बाद भी उनका लगाव श्रीकृष्ण के प्रति कम न हुआ और कृष्ण से मिलने की तड़प में ही उन्होंने प्राण त्याग दिए। बाद में उसी गोपी ने मीरा के रूप में जन्म लिया।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×