Home» Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm» Old Traditions About Worship To Lord Shiv In Hindi

शिवलिंग पर क्यों नहीं चढ़ानी चाहिए तुलसी?

जीवन मंत्र डेस्क | May 19, 2017, 06:00 IST

  • ट्रेन्डिंग नोटिफिकेशन्स
शिवलिंग पर क्यों नहीं चढ़ानी चाहिए तुलसी?
देवी-देवताओं की पूजा में कई प्रकार की चीजें चढ़ाई जाती हैं। इन चीजों में तुलसी का भी महत्वपूर्ण स्थान है। भगवान विष्णु को तुलसी विशेष रूप से चढ़ाई जाती हैं, लेकिन शिवपुराण में शिवलिंग पर तुलसी चढ़ाना वर्जित किया गया है। यहां जानिए शिवलिंग पर तुलसी क्यों नहीं चढ़ाना चाहिए।
शिवपुराण के अनुसार पुराने समय में शंखचूड़ नाम का एक असुर था। उसकी पत्नी का नाम का था तुलसी। तुलसी पतिव्रता थी और इसके बल पर शंखचूड़ को कोई भी देवता पराजित नहीं कर पा रहा था। शंखचूड़ देवताओं के साथ ही सभी ऋषि-मुनियों को भी कई तरह से परेशान कर रहा था। तब सभी देवता शिवजी के पास गए और उनसे शंखचूड़ के आतंक को समाप्त करने की प्रार्थन की थी।
शंखचूड़ को रोकने के लिए भगवान विष्णु और शिव ने योजना बनाई। पहले भगवान विष्णु से शंखचूड़ से उसका कवच मांगा और फिर इसके बाद विष्णु ने शंखचूड़ का वेश धारण करके उसकी पत्नी तुलसी की पवित्रता भंग की। इससे शंखचूड़ की सभी शक्तियां खत्म हो गई। इसके बाद शिवजी ने शंखचूड़ का वध कर दिया।
Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करे! डाउनलोड कीजिए Dainik Bhaskar का मोबाइल ऐप
Web Title: old traditions about worship to lord shiv in hindi
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)
पढ़ते रहिए 5.5 करोड़ + रीडर्स की पसंदीदा और विश्व की नंबर 1 हिंदी न्यूज़ वेबसाइट dainikbhaskar.com, जानो ख़बरों से ज़्यादा।

Stories You May be Interested in

      Trending Now

      पाएं लेटेस्ट न्यूज़ एंड अपडेट्स

      दैनिक भास्कर के ट्रेंडिंग खबरों के नोटिफिकेशन रखेंगे आपको अपडेट..

      * किसी भी समय ब्राउजर सेटिंग्स बदलकर नोटिफिकेशंस ऑफ कर सकते हैं.
      Top