Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Why Tulsi Is Not Offered To Lord Ganesha

क्या आप भी श्रीगणेश की पूजा में रखते हैं तुलसी तो जान लें ये जरूरी बात

भगवान गणेश ने दिया था तुलसी को पौधा बन जाने का श्राप

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 04, 2018, 05:00 PM IST

  • क्या आप भी श्रीगणेश की पूजा में रखते हैं तुलसी तो जान लें ये जरूरी बात

    तुलसी को सनातन परंपराओं में बहुत पवित्र पौधा माना जाता है। घर के आंगन में तुलसी का पौधा लगाना शुभ होता है। ऐसा माना जाता है कि जिस घर में तुलसी लगाई जाती है, वहां भगवान वास करते हैं। भगवान कृष्ण को चढ़ाए जाने वाला प्रसाद बिना तुलसी के अधूरा माना जाता है। लेकिन, क्या आप जानते हैं तुलसी को पौधा होने का श्राप किसने दिया था।

    ब्रह्मवैवर्त्तपुराण के अनुसार, एक बार तुलसी भगवान विष्णु का स्मरण करते हुए उनके विभिन्न तीर्थों में घूम रही थी। घूमते हुए वह गंगा नदी के किनारे पहुंच गई। वहां पर तुलसी ने भगवान गणेश को देखा और उन पर मोहित हो गई। श्रीगणेश द्वारा तुलसी से उनका परिचय पूछने पर अपना नाम बताया और श्रीगणेश को पति के रूप में पाने की इच्छा जताई।

    तुलसी की यह बात सुनकर भगवान गणेश ने उनसे कहा- “देवी विवाह बहुत दुःखदायी होता है, उससे सुख संभव नहीं है। मैं विवाह नहीं करना चाहता हूं। तुम किसी और को अपने पति रूप में चुन लो।”

    श्रीगणेश के ऐसा कहने पर तुलसी देवी बहुत क्रोधित हो गई और भगवान गणेश को उनका विवाह होने का श्राप दे दिया। इस बात से भगवान गणेश भी क्रोधित हो गए और उन्होंने तुलसी को वृक्ष हो जाने का श्राप दे दिया। भगवान गणेश के इसी श्राप की वजह से तुलसी पौधा बन गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×