Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Mal Month Start At 16 December, Saturday.

शुभ कामों के लिए करना होगा इंतजार, 7 फरवरी को पहला मुहुर्त

मलमास 14 जनवरी को मकर संक्रांति पर समाप्त हो जाएगा. लेकिन शुक्र अस्त रहने के कारण शादी के लिए मुहूर्त नहीं निकल पाएंगे।

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 15, 2017, 05:00 PM IST

  • शुभ कामों के लिए करना होगा इंतजार, 7 फरवरी को पहला मुहुर्त
    +1और स्लाइड देखें

    इस बार 16 दिसंबर, शनिवार से मल मास शुरू हो रहा है। हमेशा की तरह एक बार फिर मुहूर्त नहीं होने से शादी-ब्याह के आयोजनों पर विराम लगेगा, लेकिन इस बार लोग मल मास समाप्त होने के बाद भी शादियां नहीं कर पाएंगे। शादी के लिए नए साल 2018 शुरू होने के बाद 7 फरवरी तक लंबा इंतजार करना होगा।
    उज्जैन के ज्योतिषी पं. अमर डिब्बावाला के अनुसार, मलमास 14 जनवरी को मकर संक्रांति पर समाप्त हो जाएगा. लेकिन शुक्र तारा अस्त रहने के कारण शादी के लिए मुहूर्त नहीं निकल पाएंगे। लग्न में सबसे पहले तारा देखा जाता है। इसलिए पंडितों ने पूरे जनवरी में एक भी शादी का मुहूर्त नहीं निकाला है क्योंकि शुक्र तारा 14 दिसंबर को अस्त होकर 5 फरवरी को उदय होगा। इसके बाद 7 फरवरी से विवाह के लिए लग्न के मुहूर्त निकलने लगेंगे। फिर भी अन्य अड़चनों के चलते आने वाले दिनों में भी मुहूर्त कम ही निकल पाएंगे।

    तारा अस्त होने पर रश्मियां नहीं मिलने के कारण नहीं करते शादियां
    उज्जैन के
    ज्योतिषाचार्य पं. श्यामनारायण व्यास के अनुसार, नवग्रहों में गुरु व शुक्र विवाह के कारक माने जाते हैं। इनकी शुभ रश्मियों से वैवाहिक जीवन उत्तम कोटि का होता है। तारा अस्त होने की स्थिति में इनकी रश्मियां नहीं मिल पाती हैं। इसलिए जब भी गुरु या शुक्र दोनों में से एक तारा अस्त होता है तो पंडितजन इस अवधि में लग्न नहीं निकालते हैं। इस कारण विवाह नहीं होते।

    शुभ मुहूर्त जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें


    तस्वीरों का इस्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

  • शुभ कामों के लिए करना होगा इंतजार, 7 फरवरी को पहला मुहुर्त
    +1और स्लाइड देखें

    19 नवंबर को देव जागते ही होगी शादियां
    - शादी के लिए फरवरी में 7, 8, 12 व 20 तारीख को श्रेष्ठ मुहूर्त है। 23 फरवरी से एक मार्च तक होलाष्टक में विवाह नहीं होंगे।
    - मार्च में 2, 3, 6, 8 व 14 को मुहूर्त। 14 मार्च से 15 अप्रैल तक मीन संक्रांति का मलमास होने से विवाह नहीं।
    - अप्रैल में 19, 20, 26, 27, 29 को विवाह।
    - मई में 11, 12, जून में 19, 20, जुलाई में 5, 6, 10 को मुहूर्त। 23 जुलाई को देवशयनी एकादशी से विवाह पर रोक लग जाएगी तो 19 नवंबर को देव जागने के साथ ही शादियां होगी।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×