Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Know The Interesting Things About Mahabharata.

ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?

महाभारत की कथा बहुत ही रोचक व रोमांचक है। इसमें बहुत सी ऐसी बातें भी लिखी हैं, जिसके बारे में कम ही लोग जानते हैं।

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 17, 2017, 05:00 PM IST

  • ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?
    +5और स्लाइड देखें

    महाभारत की कथा बहुत ही रोचक व रोमांचक है। इसमें बहुत सी ऐसी बातें भी लिखी हैं, जिसके बारे में कम ही लोग जानते हैं। उन रोचक बातों को न कभी बताया गया और न ही दिखाया गया। आज हम आपको महाभारत से जुड़ी कुछ ऐसी ही अनकही व अनजानी बातों के बारे में बता रहे हैं, जो इस प्रकार है-

    धरती के ऊपर चलता था युधिष्ठिर का रथ
    भीष्म के बाद द्रोणाचार्य को सेनापति बनाया गया। सेनापति बनने के बाद गुरु द्रोणाचार्य पांडव सेना का संहार करने लगे। उन पर विजय पाने के लिए भीम ने अश्वत्थामा नामक हाथी का वध कर दिया और द्रोणाचार्य के सामने जाकर चिल्लाने लगे- अश्वत्थामा मारा गया। गुरु द्रोण को इस पर विश्वास नहीं हुआ। उन्होंने युधिष्ठिर से इसकी पुष्टि करनी चाही। तब युधिष्ठिर ने ऊंचे स्वर में कहा- अश्वत्थामा मारा गया और उसके बाद धीरे से बोले- किंतु हाथी। इसके पहले युधिष्ठिर का रथ पृथ्वी से चार अंगुल ऊंचा रहता था, उस दिन असत्य मुंह से निकलते ही उनका रथ जमीन से सट गया।

    भीम के दांतों से आगे नहीं गया दु:शासन का खून
    महाभारत के अनुसार, युद्ध समाप्त होने के बाद पांडव जब धृतराष्ट्र व गांधारी से मिलने गए। गांधारी दुर्योधन के अन्याय पूर्वक किए गए वध से बहुत गुस्से में थीं। भीम ने गांधारी को समझाया कि- यदि मैं अधर्मपूर्वक दुर्योधन को नहीं मारता तो वह मेरा वध कर देता।
    गांधारी ने कहा कि- तुमने दु:शासन का खून पिया, क्या वह सही था? तब भीम ने कहा कि- जब दु:शासन ने द्रौपदी के बाल पकड़ थे, उसी समय मैंने ऐसी प्रतिज्ञा की थी। यदि मैं अपनी प्रतिज्ञा पूरी नहीं करता तो क्षत्रिय धर्म का पालन नहीं कर पाता। लेकिन दु:शासन का खून मेरे दांतों से आगे नहीं गया।

    महाभारत से जुड़ी अन्य रोचक बातें जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

    तस्वीरों का इस्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।



  • ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?
    +5और स्लाइड देखें

    काले हो गए थे युधिष्ठिर के नाखून
    भीम के बाद युधिष्ठिर गांधारी से बात करने के लिए आगे आए। गांधारी उस समय में क्रोध में थीं। जैसे ही गांधारी की नजर पट्टी से होकर युधिष्ठिर के पैरों के नाखूनों पर पड़ी, वह काले हो गए। यह देख अर्जुन श्रीकृष्ण के पीछे छिप गए और नकुल, सहदेव भी इधर-उधर हो गए। थोड़ी देर बाद जब गांधारी का क्रोध शांत हो गया, तब पांडवों ने उनसे आशीर्वाद लिया।

  • ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?
    +5और स्लाइड देखें

    भीम की हत्या करना चाहते थे धृतराष्ट्र
    गांधारी से मिलने के बाद पांडव धृतराष्ट्र से मिलने गए। दुर्योधन की मृत्यु को याद कर धृतराष्ट्र भीम का वध करना चाहते थे। श्रीकृष्ण ये बात ताड़ गए और उन्होंने धृतराष्ट्र से गले मिलने के लिए भीम की लोहे की प्रतिमा आगे कर दी। धृतराष्ट्र ने उस लोहे की प्रतिमा को ही भीम समझकर अपनी भुजाओं के बल से तोड़ डाला। उन्हें लगा कि भीम की मृत्यु हो चुकी है। यह सोच कर वे दु:खी हुए। जब श्रीकृष्ण ने देखा कि धृतराष्ट्र का क्रोध शांत हो गया है, तो उन्होंने कहा कि भीम जीवित है। आपने भीम की प्रतिमा को नष्ट किया है। यह जानकर धृतराष्ट्र को संतोष हुआ।

  • ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?
    +5और स्लाइड देखें

    भीम कहते थे धृतराष्ट्र को भला-बुरा
    युधिष्ठिर के राजा बनने के बाद अर्जुन, नकुल, सहदेव, द्रौपदी हमेशा धृतराष्ट्र व गांधारी की सेवा में लगे रहते थे, लेकिन भीम हमेशा धृतराष्ट्र को भला-बुरा कहता रहता था। इस प्रकार धृतराष्ट्र, गांधारी को पांडवों के साथ रहते-रहते 15 साल गुजर गए।
    एक दिन भीम ने धृतराष्ट्र व गांधारी के सामने कुछ ऐसी बातें कह दी, जिसे सुनकर उन्हें बहुत दुख हुआ। तब धृतराष्ट्र ने वानप्रस्थ आश्रम (वन में रहना) में जाने का निर्णय लिया। गांधारी ने भी धृतराष्ट्र के साथ वन जाने में सहमति दे दी। धृतराष्ट्र व गांधारी के साथ विदुर, संजय व कुंती भी वन चली गईं।

  • ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?
    +5और स्लाइड देखें

    ऐसे हुई विदुरजी की मृत्यु
    धृतराष्ट्र, गांधारी, कुंती व विदुर वन में रहते हुए कठोर तप कर रहे थे। तब एक दिन युधिष्ठिर सभी पांडवों के साथ उनसे मिलने पहुंचे। धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती के साथ जब युधिष्ठिर ने विदुर को नहीं देखा तो धृतराष्ट्र से उनके बारे में पूछा। धृतराष्ट्र ने बताया कि वे कठोर तप कर रहे हैं।
    तभी विदुर उसी ओर आते हुए दिखाई दिए, लेकिन आश्रम में इतने सारे लोगों को देखकर विदुरजी पुन: लौट गए। युधिष्ठिर उनसे मिलने के लिए पीछे-पीछे दौड़े। तब वन में एक पेड़ के नीचे उन्हें विदुरजी खड़े हुए दिखाई दिए। उसी समय विदुरजी के शरीर से प्राण निकले और युधिष्ठिर में समा गए। (क्योंकि महात्मा विदुर व युधिष्ठिर धर्मराज (यमराज) के अंश से पैदा हुए थे।)

  • ये थी युधिष्ठिर के रथ की सबसे खास बात, क्या आप जानते हैं?
    +5और स्लाइड देखें

    कैसे हुई धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती की मृत्यु?
    महाभारत के अनुसार, युद्ध के बाद धृतराष्ट्र व गांधारी पांडवों के साथ 15 साल तक रहे। इसके बाद वे कुंती, विदुर व संजय के साथ वन में तपस्या करने चले गए। एक दिन जब वे गंगा स्नान कर आश्रम आ रहे थे, तभी वन में भयंकर आग लग गई। दुर्बलता के कारण धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती भागने में असमर्थ थे। इसलिए उन्होंने उसी अग्नि में प्राण त्यागने का विचार किया और वहीं एकाग्रचित्त होकर बैठ गए। इस प्रकार धृतराष्ट्र, गांधारी व कुंती ने अपने प्राणों का त्याग कर दिया।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Know The Interesting Things About Mahabharata.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×