Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Know About New Year S Related Interesting Things.

4 हजार साल पहले 21 मार्च से शुरू होता था न्यू ईयर, जानिए रोचक बातें

नववर्ष एक उत्सव की तरह दुनिया के विभिन्न धर्मों में अलग-अलग तिथियों पर मनाया जाता है।

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Dec 30, 2017, 05:00 PM IST

  • 4 हजार साल पहले 21 मार्च से शुरू होता था न्यू ईयर, जानिए रोचक बातें
    +2और स्लाइड देखें

    नववर्ष एक उत्सव की तरह दुनिया के विभिन्न धर्मों में अलग-अलग तिथियों पर मनाया जाता है। विभिन्न धर्मों के नव वर्ष समारोहों में भिन्नता होती है तथा इनका महत्व भी अलग-अलग होता है। किसी धर्म में नाच-गाकर नए साल का स्वागत किया जाता है तो कहीं पूजा-पाठ व ईश्वर की आराधना कर। नव वर्ष के स्वगात का तरीका जो भी हो, लेकिन मन में भावना एक ही रहती है कि आने वाला साल जीवन में खुशियां लेकर आए। जानिए किस धर्म में नया साल कब मनाया जाता है।

    ईसाई नववर्ष
    ईसाई धर्मावलंबी 1 जनवरी को न्यू ईयर मनाते हैं। करीब 4000 वर्ष पहले बेबीलोन में नया वर्ष 21 मार्च को मनाया जाता था जो कि वसंत के आगमन की तिथि भी मानी जाती थी । तब रोम के तानाशाह जूलियस सीजर ने ईसा पूर्व 45वें वर्ष में जब जूलियन कैलेंडर की स्थापना की, उस समय विश्व में पहली बार 1 जनवरी को नए वर्ष का उत्सव मनाया गया। तब से आज तक ईसाई धर्म के लोग इसी दिन नया साल मनाते हैं। यह सबसे ज्यादा प्रचलित नववर्ष है।

    हिंदू नववर्ष
    हिंदू नववर्ष का प्रारंभ चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से माना जाता है। इसे हिंदू नव संवत्सर या नव संवत कहते हैं। ऐसी मान्यता है कि भगवान ब्रह्मा ने इसी दिन से सृष्टि की रचना प्रारंभ की थी। इसी दिन से विक्रम संवत के नए साल का आरंभ भी होता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार यह तिथि अप्रैल में आती है। इसे गुड़ी पड़वा, उगादि आदि नामों से भारत के अनेक क्षेत्रों में मनाया जाता है।


    न्यू ईयर से जुड़ी कुछ और जानकारी के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

    तस्वीरों का इ्स्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

  • 4 हजार साल पहले 21 मार्च से शुरू होता था न्यू ईयर, जानिए रोचक बातें
    +2और स्लाइड देखें

    इस्लामी नववर्ष
    इस्लामी कैलेंडर के अनुसार मोहर्रम महीने की पहली तारीख को मुसलमानों का नया साल हिजरी शुरू होता है। इस्लामी या हिजरी कैलेंडर एक चंद्र कैलेंडर है, जो न सिर्फ मुस्लिम देशों में इस्तेमाल होता है, बल्कि दुनियाभर के मुसलमान भी इस्लामिक धार्मिक पर्वों को मनाने का सही समय जानने के लिए इसी का इस्तेमाल करते हैं।

    सिंधी नववर्ष
    सिंधी नव वर्ष चेटीचंड उत्सव से शुरु होता है, जो चैत्र शुक्ल दिवतीया को मनाया जाता है। सिंधी मान्यताओं के अनुसार इस दिन भगवान झूलेलाल का जन्म हुआ था जो वरुणदेव के अवतार थे।

    सिक्ख नववर्ष
    पंजाब में नया साल वैशाखी पर्व के रूप में मनाया जाता है। जो अप्रैल में आती है। सिक्ख नानकशाही कैलेंडर के अनुसार होला मोहल्ला (होली के दूसरे दिन) नया साल होता है।

  • 4 हजार साल पहले 21 मार्च से शुरू होता था न्यू ईयर, जानिए रोचक बातें
    +2और स्लाइड देखें

    जैन नववर्ष
    ज़ैन नववर्ष दीपावली से अगले दिन होता है. भगवान महावीर स्वामी की मोक्ष प्राप्ति के अगले दिन यह शुरू होता है. इसे वीर निर्वाण संवत कहते हैं।

    पारसी नववर्ष
    पारसी धर्म का नया वर्ष नवरोज के रूप में मनाया जाता है। आमतौर पर 19 अगस्त को नवरोज का उत्सव पारसी लोग मनाते हैं। लगभग 3000 वर्ष पूर्व शाह जमशेदजी ने पारसी धर्म में नवरोज मनाने की शुरुआत की। नव अर्थात् नया और रोज यानि दिन।

    हिब्रू नववर्ष
    हिब्रू मान्यताओं के अनुसार भगवान द्वारा विश्व को बनाने में सात दिन लगे थे । इस सात दिन के संधान के बाद नया वर्ष मनाया जाता है । यह दिन ग्रेगरी के कैलेंडर के मुताबिक 5 सितम्बर से 5 अक्टूबर के बीच आता है ।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Know About New Year S Related Interesting Things.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×