Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Story And Importance Of Applying Sindoor To Lord Hanuman

क्या आप भी चढ़ाते हैं हनुमानजी को सिंदूर तो जान लें क्या है इसका कारण

आखिर हनुमानजी को क्यों चढ़ाया जाता है सिंदूर

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Dec 23, 2017, 04:48 PM IST

    • देवी-देवता को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा-अर्चना करके उन्हें फल-फूल आदी चढ़ाने का विधान प्रचलित है, लेकिन संकट मोचन हनुमानजी को लेकर एक अलग ही मान्यता है। फल-फूल के साथ-साथ सिंदूर भी उनकी पूजा का एक अभिन्न अंग माना जाता है। बिना सिन्दूर के भगवान हनुमान की पूजा अधूरी मानी जाती है। हनुमानजी को सिन्दूर चढ़ाने का इतना महत्व क्यों होता है, इस बात की वर्णन रामायण की एक कथा में मिलता है।

      एक बार जब हनुमान जी ने माता सीता को अपनी मांग में सिन्दूर लगाते हुए देखा । तो आश्चर्यचकित हो कर उन्होने माता सीता से ऐसा करने का कारण पूछा। तब माता सीता ने मुस्कुराकर प्रसन्न मन से हनुमानजी को इसका उत्तर देते हुआ कहा कि ऐसा करने से मेरे स्वामी की आयु लम्बी होती है और वे मुझ पर सदैव प्रसन्न रहते हैं। माता देवी की यह बात सुनकर पवनपुत्र ने विचार किया माता के चुटकीभर सिंदूर लगाने से प्रभु श्रीराम को दीर्घायु प्रप्त होती है और वे माता पर प्रसन्न रहते हैं तो क्यों ना मैं अपने पूरे शरीर पर सिंदूर धारण कर लूं। इससे प्रभु श्रीराम मुझ पर सदैव ही प्रसन्न रहेंगे और वे अपने पूरे शरीर पर सिन्दूर पोतकर श्रीराम के समीप पहुंच गए। हनुमानजी की इस सरलता और भक्ती देखकर प्रभु बहुत प्रसन्न हुए। तब से ही भगवान हनुमान को सिन्दूर चढ़ाने का अत्यधीक महत्व माना जाता है।

    • क्या आप भी चढ़ाते हैं हनुमानजी को सिंदूर तो जान लें क्या है इसका कारण
      +1और स्लाइड देखें
    आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
    दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

    Trending

    Top
    ×