Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Importance Of Fasting In Hindi, Benefits Of Fasting, Vrat Upwas, Hindu Mythology And Life

आप जब भी करें व्रत तो भूलकर भी न करें ये 8 काम, वरना बढ़ेगा पाप

व्रत से धर्म लाभ मिलता है साथ ही शरीर भी स्वस्थ रहता है।

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 07, 2018, 05:00 PM IST

  • आप जब भी करें व्रत तो भूलकर भी न करें ये 8 काम, वरना बढ़ेगा पाप

    भगवान की भक्ति का तरीका है व्रत करना। व्रत का अर्थ है संकल्प या दृढ़ निश्चय। हिन्दू धर्म में व्रत का इतना अधिक महत्व है कि हर दिन कोई न कोई उपवास या व्रत होता ही है। वास्तव में व्रत-उपवास का संबंध हमारे शारीरिक एवं मानसिक शुद्धिकरण से है। इससे हमारा शरीर स्वस्थ रहता है। व्रत कई प्रकार के होते हैं जैसे नित्य, नैमित्तिक, काम्य व्रत।

    - नित्य व्रत भगवन को प्रसन्न करने के लिए निरंतर किया जाता है।

    - नैमित्तिक व्रत किसी निमित्त के लिए किया जाता है।

    - किसी कामना से किया व्रत काम्य व्रत है।

    व्रत से होते हैं ये लाभ

    व्रत से शरीर स्वस्थ रहता है। निराहार रहने या एक समय भोजन लेने या केवल फलाहार करने से पाचन तंत्र को आराम मिलता है। इससे कब्ज, गैस, सिरदर्द, मोटापा जैसे कई रोगों में लाभ मिलता है। आध्यत्मिक शक्ति बढ़ती है। ज्ञान, विचार, पवित्रता के साथ बुद्धि का विकास होता है।

    इनके लिए जरूरी नहीं है व्रत करना

    संन्यासी, बालक, रोगी, गर्भवती स्त्री, वृद्ध के लिए व्रत करना जरूरी नहीं है।

    ये हैं व्रत के नियम- जिस दिन व्रत करना हो उस दिन यहां बताए जा रहे नियमों का पालन करना चाहिए।

    1. व्रत वाले दिन किसी प्रकार की हिंसा न करें।

    2. दिन में न सोएं।

    3. बार-बार पानी न पिएं।

    4. झूठ न बोलें। किसी की बुराई न करें।

    5. नशा न करें।

    6. भ्रष्टाचार न करने का संकल्प लें।

    7. अवैध संबंधों से बचें।

    8.किसी भी प्रकार का अधार्मिक काम न करें।

    ये सभी नियम ध्यान रखें, वरना व्रत से पुण्य नहीं, बल्कि पाप बढ़ेगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×