Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm » Ganesh Til Chaturthi 2018 Vrat And Puja

तिल चतुर्थी आज, ये है व्रत की आसान विधि और उसके फायदे

माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को तिल चतुर्थी का व्रत किया जाता है। इस बार यह व्रत 5 जनवरी, शुक्रवार को है।

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Jan 05, 2018, 11:44 AM IST

  • तिल चतुर्थी आज, ये है व्रत की आसान विधि और उसके फायदे
    +1और स्लाइड देखें
    माघ मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को तिल चतुर्थी का व्रत किया जाता है। इस बार यह व्रत 5 जनवरी, शुक्रवार को है। इस दिन विशेष रूप से भगवान श्रीगणेश व चंद्रमा की पूजा की जाती है।

    व्रत व पूजन विधि

    तिल चतुर्थी की सुबह स्नान आदि से करने के बाद साफ वस्त्र पहनें। इसके बाद एक साफ आसन पर बैठकर भगवान श्रीगणेश की पूजा करें। पूजा के दौरान भगवान गणेश को धूप व दीप दिखाएं। फल, फूल, चावल, रौली, मौली चढ़ाने व पंचामृत से स्नान कराने के बाद भगवान गणेश को तिल से बनी वस्तुओं या तिल तथा गुड़ से बने लड्डुओं का भोग लगाएं।
    पूजा करते समय पूर्व या उत्तर दिशा की ओर मुख रखें। पूजा के बाद ऊं श्रीगणेशाय नम: का जाप 108 बार करें। शाम को कथा सुनने के बाद गणेशजी की आरती उतारें। चंद्रमा के उदय होने पर उनकी भी पंचोपचार से पूजा करें।
    क्या है महत्व और इस व्रत को करने का फायदा -
    इस प्रकार विधिवत भगवान श्रीगणेश का पूजन करने से मानसिक शान्ति मिलती है। भगवान श्री गणेश जी की कृपा से दाम्पत्य जीवन में सुख बढ़ता है। सुहागन महिलाओं को इस व्रत से अखंड सौभाग्य मिलता है। इसके साथ ही घर-परिवार में सुख और समृद्धि बढ़ती है। महिलाओं के इस प्रकार से व्रत करने से परिवार के लोगों की तरक्की होती है और कारोबार में भी बरकत होती है।
    आगे पढ़ें तिल चतुर्थी को किए जाने वाले दान का महत्व -


    तस्वीरों का इस्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।

  • तिल चतुर्थी आज, ये है व्रत की आसान विधि और उसके फायदे
    +1और स्लाइड देखें
    इस दिन दान का भी विशेष महत्व है। जरूरतमंद लोगों को गर्म कपड़े, कंबल, आदि दान करें तो बेहतर रहता है। इसके अलावा इस चतुर्थी पर तिल, गुड़ या अन्य तरह की मिठाई का भी दान किया जाता है। गणेश मंदिर के पुजारी को भोजन करवाना चाहिए।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×