Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » Mahabharat- Arjun Died Twice Know The Full Story.

एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत

स्वर्ग की यात्रा के दौरान अर्जुन की मृत्यु हुई थी। लेकिन इसके पहले भी एक बार अर्जुन की मृत्यु हो चुकी थी।

जीवन मंत्र डेस्क | Last Modified - Nov 23, 2017, 05:00 PM IST

  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    अर्जुन महाभारत के सबसे प्रमुख पात्रों में से एक हैं। सभी लोग ये जानते हैं कि स्वर्ग की यात्रा के दौरान अर्जुन की मृत्यु हुई थी। लेकिन इसके पहले भी एक बार अर्जुन की मृत्यु हो चुकी थी, ये बात बहुत कम लोग जानते हैं। पहली बार अर्जुन की मृत्यु कैसे हुई और वह पुनः कैसे जीवित हुए, आज हम आपके इसी से जुड़ी पूरी घटना बता रहे हैं, जो इस प्रकार है-

    पांडवों ने किया था अश्वमेध यज्ञ

    महाभारत युद्ध समाप्त होने के बाद एक दिन महर्षि वेदव्यास और श्रीकृष्ण के कहने पांडवों ने अश्वमेध यज्ञ करने का विचार किया। पांडवों ने शुभ मुहूर्त देखकर यज्ञ का शुभारंभ किया और अर्जुन को रक्षक बना कर घोड़ा छोड़ दिया। वह घोड़ जहां भी जाता, अर्जुन उसके पीछे जाते। अनेक राजाओं ने पांडवों की अधीनता स्वीकार कर ली वहीं कुछ ने मैत्रीपूर्ण संबंधों के आधार पर पांडवों को कर देने की बात मान ली।

    पूरी घटना जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

    तस्वीरों का इस्तेमाल प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है।



  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    अर्जुन का पुत्र था मणिपुर का राजा

    किरात, मलेच्छ व यवन आदि देशों के राजाओं ने यज्ञ को घोड़े को रोक लिया। तब अर्जुन ने युद्ध कर उन्हें पराजित कर दिया। इस तरह विभिन्न देशों के राजाओं के साथ अर्जुन को कई बार युद्ध करना पड़ा। यज्ञ का घोड़ा घुमते-घुमते मणिपुर पहुंच गया। यहां की राजकुमारी चित्रांगदा अर्जुन की पत्नी थी और उनके पुत्र का नाम बभ्रुवाहन था। बभ्रुवाहन ही उस समय मणिपुर का राजा था।

  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    उलूपी ने उकसाया था बभ्रुवाहन को युद्ध के लिए

    जब बभ्रुवाहन को अपने पिता अर्जुन के आने का समाचार मिला तो उनका स्वागत करने के लिए वह नगर के द्वार पर आया। अपने पुत्र बभ्रुवाहन को देखकर अर्जुन ने कहा कि मैं इस समय यज्ञ के घोड़े की रक्षा करता हुआ तुम्हारे राज्य में आया हूं। इसलिए तुम मुझसे युद्ध करो। जिस समय अर्जुन बभ्रुवाहन से यह बात कह रह था, उसी समय नागकन्या उलूपी भी वहां आ गई। उलूपी भी अर्जुन की पत्नी थी। उलूपी ने भी बभ्रुवाहन को अर्जुन के साथ युद्ध करने के लिए उकसाया।

  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    अपने ही पुत्र के हाथों मारे गए अर्जुन

    अपने पिता अर्जुन व सौतेली माता उलूपी के कहने पर बभ्रुवाहन युद्ध के लिए तैयार हो गया। अर्जुन और बभ्रुवाहन में भयंकर युद्ध होने लगा। अपने पुत्र का पराक्रम देखकर अर्जुन बहुत प्रसन्न हुए। बभ्रुवाहन उस समय युवक ही था। अपने बाल स्वभाव के कारण बिना परिणाम पर विचार कर उसने एक तीखा बाण अर्जुन पर छोड़ दिया। उस बाण को चोट से अर्जुन बेहोश होकर धरती पर गिर पड़े।

  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    बभ्रुवाहन भी हुआ था घायल

    बभ्रुवाहन भी उस समय तक बहुत घायल हो चुका था, वह भी बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़ा। तभी वहां बभ्रुवाहन की माता चित्रांगदा भी आ गई। अपने पति व पुत्र को घायल अवस्था में धरती पर पड़ा देख उसे बहुत दुख हुआ। चित्रांगदा ने देखा कि उस समय अर्जुन के शरीर में जीवित होने के कोई लक्षण नहीं दिख रहे थे। अपने पति को मृत अवस्था में देखकर वह फूट-फूट कर रोने लगी। उसी समय बभ्रुवाहन को भी होश आ गया।

  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    ऐसे पुनर्जीवित हुए अर्जुन

    जब बभ्रुवाहन ने देखा कि उसने अपने पिता की हत्या कर दी है तो वह भी शोक करने लगा। अर्जुन की मृत्यु से दुखी होकर चित्रांगदा और बभ्रुवाहन दोनों ही आमरण उपवास पर बैठ गए। जब नागकन्या उलूपी ने देखा कि चित्रांगदा और बभ्रुवाहन आमरण उपवास पर बैठ गए हैं तो उसने संजीवन मणि का स्मरण किया। उस मणि के हाथ में आते ही उलूपी ने बभ्रुवाहन से कहा कि यह मणि अपने पिता अर्जुन की छाती पर रख दो। बभ्रुवाहन ने ऐसा ही किया। वह मणि छाती पर रखते ही अर्जुन जीवित हो उठे।

  • एक नहीं दो बार हुई थी अर्जुन की मृत्यु, पहली बार ऐसे हुई थी मौत
    +6और स्लाइड देखें

    उलूपी ने बताई पूरी घटना

    अर्जुन द्वारा पूछने पर उलूपी ने बताया कि यह मेरी ही मोहिनी माया थी। उलूपी ने बताया कि छल पूर्वक भीष्म का वध करने के कारण वसु (एक प्रकार के देवता) आपको श्राप देना चाहते थे। जब यह बात मुझे पता चली तो मैंने यह बात अपने पिता को बताई। उन्होंने वसुओं के पास जाकर ऐसा न करने की प्रार्थना की। तब वसुओं ने प्रसन्न होकर कहा कि मणिपुर का राजा बभ्रुवाहन अर्जुन का पुत्र है यदि वह बाणों से अपने पिता का वध कर देगा तो अर्जुन को अपने पाप से छुटकारा मिल जाएगा। आपको वसुओं के श्राप से बचाने के लिए ही मैंने यह मोहिनी माया दिखलाई थी। इस प्रकार पूरी बात जान कर अर्जुन, बभ्रुवाहन और चित्रांगदा भी प्रसन्न हो गए। अर्जुन ने बभ्रुवाहन को अश्वमेध यज्ञ में आने का निमंत्रण दिया और पुन: अपनी यात्रा पर चल दिए।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending

Top
×