Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » The Story Behind The Shivlinga, Story Of Origin Of Shivling

कहां और कैसे स्थापित हुआ था सबसे पहला शिवलिंग, किसने की थी उसकी पूजा

लिंगमहापुराण: कहां और कैसे स्थापित हुआ सबसे पहला शिवलिंग

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Feb 10, 2018, 05:00 PM IST

  • कहां और कैसे स्थापित हुआ था सबसे पहला शिवलिंग, किसने की थी उसकी पूजा
    +3और स्लाइड देखें

    सभी भगवानों की पूजा मूर्ति के रूप में की जाती है, लेकिन भगवान शिव ही है जिनकी पूजा लिंग के रूप में होती है। शिवलिंग की पूजा के महत्व का गुण-गान कई पुराणों और ग्रंथों में पाया जाता है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि शिवलिंग पूजा की परम्परा कैसे शुरू हुई। सबसे पहले किसने भगवान शिव की लिंग रूप मे पूजा की थी और किस प्रकार शिवलिंग की पूजा की परम्परा शुरू हुई, इससे संबंधित एक कथा लिंगमहापुराण में है।

    ऐसे हुई थी शिवलिंग की स्थापना

    लिंगमहापुराण के अनुसार, एक बार भगवान ब्रह्मा और विष्णु के बीच अपनी-अपनी श्रेष्ठता को लेकर विवाद हो गया। स्वयं को श्रेष्ठ बताने के लिए दोनों देव एक-दूसरे का अपमान करने लगे। जब उनका विवाद बहुत अधिक बढ़ गया, तब एक अग्नि से ज्वालाओं के लिपटा हुआ लिंग भगवान ब्रह्मा और भगवान विष्णु के बीच आकर स्थापित हो गया।

    दोनों देव उस लिंग का रहस्य समझ नहीं पा रहे थे। उस अग्नियुक्त लिंग का मुख्य स्रोत का पता लगाने के लिए भगवान ब्रह्मा ने उस लिंग के ऊपर और भगवान विष्णु ने लिंग के नीचे की ओर जाना शुरू किया। हजारों सालों तक खोज करने पर भी उन्हें उस लिंग का स्त्रोत नहीं मिला। हार कर वे दोनों देव फिर से वहीं आ गए जहां उन्होंने लिंग को देखा था। वहां आने पर उन्हें ओम का स्वर सुनाई देने लगा। वह सुनकर दोनों देव समझ गए कि यह कोई शक्ति है और उस ओम के स्वर की आराधना करने लगे।

    भगवान ब्रहमा और भगवान विष्णु की आराधना से खुश होकर उस लिंग से भगवान शिव प्रकट हुए और दोनों देवों को सद्बुद्धि का वरदान भी दिया। देवों को वरदान देकर भगवान शिव अंतर्धान हो गए और एक शिवलिंग के रूप में स्थापित हो गए। लिंगमहापुराण के अनुसार वह भगवान शिव का पहला शिवलिंग माना जाता था।

  • कहां और कैसे स्थापित हुआ था सबसे पहला शिवलिंग, किसने की थी उसकी पूजा
    +3और स्लाइड देखें

    सबसे पहले भगवान ब्रह्मा और विष्णु ने की थी शिवलिंग की पूजा

    जब भगवान शिव वहां से चले गए और वहां शिवलिंग के रूप में स्थापित हो गए, तब सबसे पहले भगवान ब्रह्मा और विष्णु ने शिव के उस लिंग की पूजा-अर्चना की थी। उसी समय से भगवान शिव की लिंग के रूप में पूजा करने की परम्परा की शुरुआत मानी जाती है।

  • कहां और कैसे स्थापित हुआ था सबसे पहला शिवलिंग, किसने की थी उसकी पूजा
    +3और स्लाइड देखें

    विश्वकर्मा ने किया था विभिन्न शिवलिंगों का निर्माण

    लिंगमहापुराण के अनुसार, भगवान ब्रह्मा ने देव शिल्पी विश्वकर्मा को सभी देवताओं के लिए अलग-अलग शिवलिंग का निर्माण करने को कहा था। भगवान ब्रह्मा के कहने पर भगवान विश्वकर्मा ने अलग-अलग शिवलिंग बना कर देवताओं को प्रदान किए।

    1. भगवान विष्णु के लिए नीलकान्तमणि का शिवलिंग बनाया गया।

    2. भगवान कुबेर के पुत्र विश्रवा के लिए सोने का शिवलिंग बनाया गया।

    3. इन्द्रलोक के सभी देवतोओं के लिए चांदी के शिवलिंग बनाए गए।

    4. वसुओं को चंद्रकान्तमणि से बने शिवलिंग प्रदान किए।

    5. वायु देव को पीलत से बने और भगवान वरुण को स्फटिक से बने शिवलिंग दिए गए।

  • कहां और कैसे स्थापित हुआ था सबसे पहला शिवलिंग, किसने की थी उसकी पूजा
    +3और स्लाइड देखें

    6. आदित्यों को तांबे और अश्विनीकुमारों को मिट्टी से निर्मित शिवलिंग प्रदान किए गए।

    7. दैत्यों और राक्षसों को लोहे से बने शिवलिंग दिए गए।

    8. सभी देवियों को बालू से बने शिवलिंग दिए गए।

    9. देवी लक्ष्मी ने लक्ष्मीवृक्ष (बेल) से बने शिवलिंग की पूजा की।

    10. देवी सरस्वती को रत्नों से बने और रुद्रों को जल से बने शिवलिंग दिए गए।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Story Behind The Shivlinga, Story Of Origin Of Shivling
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×