Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » Shocking Secrets Of Ramayana,Unknown Stories From Ramayana

किसके रथ पर बैठकर किया था श्रीराम ने युद्ध, जिसके कारण मिली थी जीत

रामयण के 4 अनजाने किस्से

यूटीलिटी डेस्क | Last Modified - Jan 14, 2018, 05:00 PM IST

  • किसके रथ पर बैठकर किया था श्रीराम ने युद्ध, जिसके कारण मिली थी जीत
    +3और स्लाइड देखें

    रामायण एक ऐसा ग्रंथ है, जिसके बारे में हर छोटी-बड़ी बात भगवान श्रीराम के भक्त जानना चाहते हैं। रामयण के कई किस्से तो लगभग हर किसी को पता ही है, लेकिन इस ग्रंथ की कुछ ऐसी बातें भी हैं, जो बहुत ही कम लोग जानते होंगे।

    इन कहानियों में रामायण काल के कुछ रहस्य और खास बातें शामिल है। आज हम आपको रामायण से जुड़ी 4 ऐसी ही बातें के बारे में बताने जा रहे हैं, जो भगवान श्रीराम के हर भक्त को पता होनी चाहिए-

    युद्ध के लिए भगवान इन्द्र ने दिया था श्रीराम को अपना रथ

    रावण और भगवान श्रीराम की सेना के बीच घोर युद्ध चल रहा था। भगवान श्रीराम की सेना ने रावण के पक्ष के सभी वीर योद्धाओं का नाश कर दिया था। अपने पक्ष के सभी योद्धाओं का वध हो जाने पर भगवान श्रीराम से युद्ध करने के लिए खुद रावण युद्धभूमि में आया। भगवान श्रीराम धरती पर खड़े होकर युद्ध कर रहे थे और रावण रथ पर खड़ा था।

    यह देखकर भगवान इन्द्र ने अपना दिव्य रथ अपने रथ के सारथी मातलि के साथ भगवान राम के प्रदान किया। भगवान इंद्र के भेजे रथ पर चढ़कर ही प्रभु श्रीराम ने रावण के साथ युद्ध किया। उस रथ पर चढ़ने के बाद भगवान श्रीराम और रावण के बीच घोर युद्ध हुआ और अतः में भगवान श्रीराम ने रावण का वध कर दिया।

    आगे जानें रामायण के ऐसे ही 3 और किस्सें...

  • किसके रथ पर बैठकर किया था श्रीराम ने युद्ध, जिसके कारण मिली थी जीत
    +3और स्लाइड देखें

    देवताओं के इस छल की वजह से श्रीराम को जाना पड़ा था वनवास

    लंका के राजा रावण और वहां के कई राक्षसों का वध करने के लिए भगवान विष्णु ने श्रीराम के रूप में जन्म लिया था। भगवान राम के राज्याभिषेक की तैयारियां चल रही थीं। अगर श्रीराम का राजा के पद पर अभिषेक हो जाता, तो उनके जन्म के पीछे का मुख्य उद्देश्य अधूरा रह जाता। इसी बात से सभी देवता बहुत परेशान थे। अपनी परेशानी का हल निकालने के लिए सभी देवता देवी सरस्वती के पास गए और उनसे रानी कैकेयी की दासी मन्थरा की बुद्धि फेरने की प्रार्थना की। ताकि वह रानी कैकेयी को भड़का कर श्रीराम के लिए वनवास जाने का वर मांगे। देवी सरस्वती ने ऐसा ही किया। जिसके फलस्वरूप श्रीराम को चौदह वर्ष के लिए वनवास जाना पड़ा। वहां रहकर उन्होंने सभी राक्षसों का वध कर दिया।

  • किसके रथ पर बैठकर किया था श्रीराम ने युद्ध, जिसके कारण मिली थी जीत
    +3और स्लाइड देखें

    राक्षसकुल में उत्पन्न होने पर भी विभीषण क्यों दिया था श्रीराम का साथ

    रावण, कुंभकर्ण और विभीषण ब्रह्मा जी को खुश करके उनसे वरदान प्राप्त करना चाहते थे। वरदान पाने की इच्छा से वे तीनों ब्रह्मा जी की कठोर तपस्या करने लगे। तपस्या से खुश होकर भगवान ब्रह्मा ने उन्हें दर्शन दिए और वरदान मांगने को कहा। ब्रह्मा जी के ऐसा करने पर रावण के मनुष्य के हाथों अपनी मृत्यु होने का और कुंभकर्ण ने अधिक समय कर नींद लेना का वर मांगा। जब ब्रह्मा जी ने विभीषण को वरदान मांगने को कहा, तब उसने किसी भी समय अपने मन में पाप का विचार ना उठने और अपना मन सदैव ही देव भक्ति में लगे रहने का वरदान मांगा था। इसी वरदान की वजह से राक्षसकुल में उत्पन्न होने पर भी विभीषण ने युद्ध में श्रीराम का साथ दिया था।

  • किसके रथ पर बैठकर किया था श्रीराम ने युद्ध, जिसके कारण मिली थी जीत
    +3और स्लाइड देखें

    भरत ने अपने बाण से हनुमान को क्यों घायल कर दिया था

    श्रीरामचरितमानस के लंकाकाण्ड के अनुसार, लक्ष्मण और मेघनाथ के बीच भीषण युद्ध चल रहा था। मेघनाथ के वार से लक्ष्मण बेहोश होकर धरती पर गिर पड़े। लक्ष्मण को स्वस्थ करने के लिए हनुमान संजीवनी बूटी लाने के लिए पर्वत पर गए। उस पर्वत पर कई औषधियां होने के कारण हनुमान संजीवनी बूटी पहचान न सके और पर्वत ही उखाड़ कर ले जाने लगे। हनुमान उड़ते हुए अयोध्या के ऊपर पहुंच गए। आकाश में हनुमान का विशाल रूप देखकर भरत ने उसे राक्षस समझा और उन्हें तीर मार दिया। भरत के उस तीर से घायल हनुमान धरती पर गिर पड़े। हनुमान के पास जाने पर भरत ने हनुमान को राम भक्त जानकर उन्हें ठीक कर दिया।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Shocking Secrets Of Ramayana,Unknown Stories From Ramayana
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×