Home » Jeevan Mantra »Jeene Ki Rah »Dharm Granth » Ram Navmi On 25 March, Sunday. Know The Interesting Story.

रावण वध ही नहीं, इन 3 कारणों से भगवान विष्णु को लेना पड़ा राम अवतार

त्रेतायुग में भी भगवान विष्णु ने श्रीराम के रूप में अवतार लेकर रावण व अन्य राक्षसों का वध किया था।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Mar 25, 2018, 04:39 PM IST

  • रावण वध ही नहीं, इन 3 कारणों से भगवान विष्णु को लेना पड़ा राम अवतार
    +2और स्लाइड देखें

    यूटिलिटी डेस्क. धरती पर जब-जब अधर्म बढ़ता है, भगवान विष्णु किसी न किसी रूप में अवतार लेकर दुष्टों का नाश करते हैं और धर्म की स्थापना करते हैं। त्रेतायुग में भी भगवान विष्णु ने श्रीराम के रूप में अवतार लेकर रावण व अन्य राक्षसों का वध किया था। भगवान विष्णु को श्रीराम के रूप में अवतार क्यों लेना पड़ा, इसके 3 कारण थे। इनके बारे में हम आपको बता रहे हैं-

    पहला कारण- जय-विजय को दिया था सनकादि मुनि ने श्राप
    एक बार सनकादि मुनि भगवान विष्णु के दर्शन करने वैकुंठ आए। उस समय वैकुंठ के द्वार पर जय-विजय नाम के दो द्वारपाल पहरा दे रहे थे। जब सनकादि मुनि द्वार से होकर जाने लगे तो जय-विजय ने हंसी उड़ाते हुए उन्हें बेंत अड़ाकर रोक लिया। क्रोधित होकर सनकादि मुनि ने उन्हें तीन जन्मों तक राक्षस योनी में जन्म लेने का श्राप दे दिया। क्षमा मांगने पर सनकादि मुनि ने कहा कि तीनों ही जन्म में तुम्हारा अंत स्वयं भगवान श्रीहरि करेंगे।
    इस प्रकार तीन जन्मों के बाद तुम्हें मोक्ष की प्राप्ति होगी। पहले जन्म में जय-विजय ने हिरण्यकशिपु व हिरण्याक्ष के रूप में जन्म लिया। भगवान विष्णु ने वराह अवतार लेकर हिरण्याक्ष का तथा नृसिंह अवतार लेकर हिरण्यकशिपु का वध कर दिया। दूसरे जन्म में जय-विजय ने रावण व कुंभकर्ण के रूप में जन्म लिया। इनका वध करने के लिए भगवान विष्णु को राम अवतार लेना पड़ा। तीसरे जन्म में जय-विजय शिशुपाल और दंतवक्र के रूप में जन्मे। इस जन्म में भगवान श्रीकृष्ण ने इनका वध किया।


    भगवान विष्णु को श्रीराम अवतार क्यों लेना पड़ा, जानने के लिए आगे की स्लाइड्स पर क्लिक करें-

    इन लिंक्स पर भी क्लिक करें

    नाम के पहले अक्षर से जुड़े हैं ये खास उपाय, 25 मार्च को करें

    रावण वध ही नहीं, इन 3 कारणों से भगवान विष्णु को लेना पड़ा राम अवतार

    डिजिटल आरती के लिए इस लिंक पर क्लिक करें-

  • रावण वध ही नहीं, इन 3 कारणों से भगवान विष्णु को लेना पड़ा राम अवतार
    +2और स्लाइड देखें

    दूसरा कारण- मनु-शतरूपा को भगवान विष्णु ने दिया था वरदान
    मनु और उनकी पत्नी शतरूपा से ही मनुष्य जाति की उत्पत्ति हुई। इन दोनों पति-पत्नी के धर्म और आचरण बहुत ही पवित्र थे। वृद्ध होने पर मनु अपने पुत्र को राज-पाठ देकर वन में चले गए। वहां जाकर मनु और शतरूपा ने कई हजार साल तक भगवान विष्णु को प्रसन्न करने के लिए तपस्या की। प्रसन्न होकर भगवान विष्णु प्रकट हुए और वर मांगने के लिए कहा। मनु और शतरूपा ने श्रीहरि से कहा कि हमें आपके समान ही पुत्र की अभिलाषा है।
    उनकी इच्छा सुनकर श्रीहरि ने कहा कि संसार में मेरे समान कोई और नहीं है। इसलिए तुम्हारी अभिलाषा पूरी करने के लिए मैं स्वयं तुम्हारे पुत्र के रूप में जन्म लूंगा। कुछ समय बाद आप अयोध्या के राजा दशरथ के रूप में जन्म लेंगे, उसी समय मैं आपका पुत्र बनकर आपकी इच्छा पूरी करूंगा। इस प्रकार मनु और शतरूपा को दिए वरदान के कारण भगवान विष्णु को राम अवतार लेना पड़ा।

  • रावण वध ही नहीं, इन 3 कारणों से भगवान विष्णु को लेना पड़ा राम अवतार
    +2और स्लाइड देखें

    तीसरा कारण- नारद मुनि को हो गया था घमंड
    देवर्षि नारद को एक बार इस बात का घमंड हो गया कि कामदेव भी उनकी तपस्या और ब्रह्मचर्य को भंग नहीं कर सके। नारदजी ने यह बात शिवजी को बताई। देवर्षि के शब्दों में अहंकार भर चुका था। शिवजी यह समझ चुके थे कि नारद अभिमानी हो गए हैं। भोलेनाथ ने नारद से कहा कि भगवान श्रीहरि के सामने अपना अभिमान इस प्रकार प्रदर्शित मत करना। इसके बाद नारद भगवान विष्णु के पास गए और शिवजी के समझाने के बाद भी उन्होंने श्रीहरि को पूरा प्रसंग सुना दिया। नारद भगवान विष्णु के सामने भी अपना घमंड प्रदर्शित कर रहे थे।
    तब भगवान ने सोचा कि नारद का घमंड तोड़ना होगा, यह शुभ लक्षण नहीं है। जब नारद कहीं जा रहे थे, तब रास्ते में उन्हें एक बहुत ही सुंदर नगर दिखाई दिया, जहां किसी राजकुमारी के स्वयंवर का आयोजन किया जा रहा था। नारद भी वहां पहुंच गए और राजकुमारी को देखते ही मोहित हो गए। यह सब भगवान श्रीहरि की माया ही थी।
    राजकुमारी का रूप और सौंदर्य नारद के तप को भंग कर चुका था। इस कारण उन्होंने राजकुमारी के स्वयंवर में हिस्सा लेने का मन बनाया। नारद भगवान विष्णु के पास गए और कहा कि आप अपना सुंदर रूप मुझे दे दीजिए, जिससे कि वह राजकुमारी स्वयंवर में मुझे ही पति रूप में चुने। भगवान ने ऐसा ही किया, लेकिन जब नारद मुनि स्वयंवर में गए तो उनका मुख वानर के समान हो गया। उस स्वयंवर में भगवान शिव के दो गण भी थे, वे यह सभी बातें जानते थे और ब्राह्मण का वेष बनाकर यह सब देख रहे थे।
    जब राजकुमारी स्वयंवर में आई तो बंदर के मुख वाले नारदजी को देखकर बहुत क्रोधित हुई। उसी समय भगवान विष्णु एक राजा के रूप में वहां आए। सुंदर रूप देखकर राजकुमारी ने उन्हें अपने पति के रूप में चुना लिया। यह देखकर शिवगण नारदजी की हंसी उड़ाने लगे और कहा कि पहले अपना मुख दर्पण में देखिए। जब नारदजी ने अपने चेहरा वानर के समान देखा तो उन्हें बहुत गुस्सा आया। नारद मुनि ने उन शिवगणों को राक्षस योनी में जन्म लेने का श्राप दे दिया।
    जब शिवगणों ने नारद मुनि से क्षमा मांगी तो उन्होंने कहा कि राक्षय योनि में तुम्हारी मृत्यु स्वयं भगवान विष्णु के हाथो होगी, तभी तुम्हें मोक्ष मिलेगा। इन्हीं दोनों शिवगणों ने रावण व कुंभकर्ण के रूप में जन्म लिया।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Ram Navmi On 25 March, Sunday. Know The Interesting Story.
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

Trending

Top
×